पथरी को दूर करने में कारगर है Water Spinach, ऐसे करें सेवन

रोजाना पानी पालक की पत्तियों का साग खाना फायदेमंद साबित होता है।

जानकारों की मानें तो कलमी शाक तकरीबन 3 मीटर तक बड़ी होती है। इसका तना अंदर से खाली होता है और तने में ग्रंथियां होती हैं। इन ग्रंथियों को काटकर मिट्टी में लगाने से कलमी शाक की लता लग जाती है।

Publish Date:Fri, 15 Jan 2021 07:03 PM (IST) Author: Umanath Singh

दिल्ली,लाइफस्टाइल डेस्क। कलमी शाक एक उष्णकटिबंधीय लता है जो भारत समेत दुनिया के कई हिस्सों में पाई जाती है। इसे अंग्रेजी में Water Spinach कहा जाता है। जबकि, वैज्ञानिक भाषा में इसे Ipomoea aquatica कहते हैं। इसकी पत्तियों का साग के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसे कई नामों से जाना जाता है। Water Spinach का मतलब पानी पालक है। अतः इसमें पालक जैसे सभी गुण पाए जाते हैं। कलमी शाक पानी के ऊपर तैरती है। कभी-कभी यह लता नमी वाले स्थानों में भी फ़ैल जाती है। जानकारों की मानें तो कलमी शाक तकरीबन 3 मीटर तक बड़ी होती है। इसका तना अंदर से खाली होता है और तने में ग्रंथियां होती हैं। इन ग्रंथियों को काटकर मिट्टी में लगाने से कलमी शाक की लता लग जाती है। आयुर्वेद में कलमी शाक को दवा की तरह इस्तेमाल किया जाता है। चूंकि इसमें कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसके लिए कलमी शाक कई प्रकार की बीमारियों में फायदेमंद साबित होते हैं। खासकर पथरी के लिए यह रामबाण दवा है। कई शोध में कलमी शाक के फायदे के बारे में बताया गया है। आइए जानते हैं-

researchgate.net पर छपी Journal Of Applied Sciences की शोध में कलमी शाक की पत्तियों के फायदे के बारे में बताया गया है। इसमें फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और मिनरल्स पाए जाते हैं। इसके सेवन से पोषक तत्वों की कमी से होने वाली बीमारियों से निजात मिलता है। साथ ही शारीरिक विकास सही से होता है। इसके अतिरिक्त कलमी शाक पथरी की समस्या को दूर करने में सक्षम है।

इसके लिए रोजाना पानी पालक की पत्तियों का साग खाना फायदेमंद साबित होता है। अगर कोई व्यक्ति पथरी की समस्या से परेशान है, तो रोजाना पानी पालक की एक मुठ्ठी पत्तियों का काढ़ा बनाकर सेवन करें। इससे बहुत जल्द पथरी से निजात मिल सकता है। हालांकि, इसके सेवन से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.