कोरोना काल में थकान और सांस लेने में दिक्कत की परेशानी से बचे रहने के लिए ऐसे करें हार्ट और लंग्स की केयर

पेशेंट का चेस्ट चेक करता हुआ डॉक्टर

ऐसे पेशेंट्स जो हार्ट और लंग्स की बीमारियों से पहले परेशान हैं उन्हें कोरोना काल में खासतौर से देखभाल की जरूरत है। तो किस तरह की केयर और सावधानी इस वक्त उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट होने की नौबत से बचा सकती है ये जानना जरूरी है।

Priyanka SinghFri, 23 Apr 2021 08:17 AM (IST)

बच्चे से लेकर बूढ़े तक इस वक्त सभी कोरोना वायरस से जंग लड़ रहे हैं। ऐसे में सभी लोगों को अपना ख्याल रखने की जरूरत है, लेकिन उन लोगों को अपना खास ख्याल रखना है जो पहले से बीमारी से ग्रसित हैं। खासकर ऐसे पेशेंट्स जो हार्ट और लंग्स की बीमारियों से पहले परेशान हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि ब्लॉक की वजह से उनकी मुश्किलें बढ़ जा रही हैं। इसमें 60 साल से अधिक के ज्यादा मरीज हैं।

हार्ट अटैक, ब्रेन हेमरेज और ब्रीथिंग का खतरा

डॉक्टर्स के अनुसार, ऐसे पेशेंट जिनका ऑक्सीजन लेवल 90 तक पहुंच जाता है, तो सावधान हो जाएं। 85 तक पहुंचे तो तुरंत अस्पताल पहुंचना चाहिए, ऑक्सीजन लेवल कम होने से थकान, सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। ऐसे में हार्ट अटैक और ब्रेन हेमरेज का खतरा बना रहता है। इसके साथ ही अगर आप अपने दिल और लंग्स को फिट रखना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको वजन पर ध्यान देना होगा। इसके लिए आपको अपनी डाइट का खासतौर पर ध्यान रखना होगा, जिससे बॉडी के इंटरनल ऑर्गन्स अच्छी तरह से काम करें।

होम आइसोलेशन में न रहें

डॉक्टर्स के अनुसार, बिना लक्षण वाले पेशेंट को होम आइसोलेशन की सलाह दी जा रही है। मगर, हार्ट, सांस, लिवर या लंग्स से जुड़ी बीमारियों वाले मरीजों के लिए एक्सपर्ट्स की राय अलग है। उनका कहना है कि ऐसे मरीजों को होम आइसोलेशन कतई नहीं लेना चाहिए। संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती हों, जिससे खतरा बढ़ने पर समय पर उसकी रोकथाम की जा सके। इसके साथ ही दिल के मरीजों को कोरोना संक्रमण से बचने को अपना अतिरिक्त ध्यान रखने की जरूरत है। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें।

तनाव से रहें दूर

ज्यादातर उन्हीं लोगों को हार्ट अटैक आता है जो ज्यादा तनाव लेते हैं। डॉक्टरों की मानें तो आप जितना अधिक तनाव लेंगे। शरीर को उतना ही अधिक स्ट्रेस हार्मोन से लड़ना पड़ेगा। इससे आपका दिल कमजोर होगा और आप दिल के मरीज बन जाएंगे। इस वक्त रखे हुए मांस और मीट से दूरी बनाना ही आपकी सेहत के लिए सही है।

Pic credit- freepik

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.