top menutop menutop menu

वैज्ञानिकों ने ऐसे अणुओं की तलाश की, जो कोविड का इलाज करने में करेंगे मदद

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोविड-19 एक नया वायरस है, जिसे समझने के लिए वैज्ञानिक हर दिन नए-नए शोध करके जानकारी हासिल कर रहे हैं। अब शोधकर्ताओं ने अणुओं की एक श्रृंखला की खोज की है, जो संभावित तौर पर उस प्रोटीन को खत्म कर सकता है, जिससे जुड़कर कोरोनावायरस शरीर में फैलता है। इन अणुओं की पहचान से COVID-19 के इलाज के लिए नई दवा बनाने में मदद मिलेगी।

अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के अनुसार, सार्स-कोव-2 वायरस ‘पॉलीमरेज’ नामक एक प्रोटीन से जुड़कर तेजी से खुद की नकल बनाता है और पूरे शरीर में फैल जाता है। वैज्ञानिकों ने कहा कि शरीर से ‘पॉलीमरेज’ की प्रतिक्रिया को बंद कर देने से कोरोनावायरस का शरीर में फैलाव रुक सकता है। ऐसी परिस्थिति में शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र सक्रिय हो जाता है और कोरोनावायरस को मार डालता है। इस शोध को पत्रिका एंटीवायरस रिसर्च में प्रकाशित किया गया है। इस शोध में कई ऐसे संभावित अणुओं के बारे में बताया गया है, जो ‘पॉलीमरेज’ प्रतिक्रिया को ब्लॉक कर सकते हैं। अब वैज्ञानिक इस प्रोटीन को खत्म करने के लिए दवा बनाने की कवायद कर रहे हैं।

वैज्ञानिकों द्वारा खोजे गए अणुओं में से कुछ अणुओं का इस्तेमाल पहले ही कई वायरल संक्रमण के इलाज में किया जा रहा है। वैज्ञानिकों ने कहा कि कुछ अणु एचआईवी और हेपाटाइटिस बी के इलाज में प्रयोग किए जा रहे हैं। एक पूर्व शोध में वैज्ञानिकों ने पाया कि सोफोसबुवीर में मौजूद ट्राइफोसफेट नामक अणु ‘पॉलीमरेज’ प्रतिक्रिया को बंद करने में कारगर साबित हुए।

सोफोसबुवीर समेत चार अणु ‘पॉलीमरेज’ चेन प्रतिक्रियाओं को तोड़ने में सफल साबित हुए हैं। छह और ऐसे ही अणुओं की खोज की गई है। शोधकर्ताओं ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस अणुओं की मदद से कोविड-19 के इलाज के लिए कारगर दवा बनाई जा सकेगी। 

                Written By Shahina Noor

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.