असमय सफेद होते बालों के पीछे ये हैं खास वजहें, जानें इन्हें दूर करने के सरल उपाय

पहले जहां सफेद बाल बुढ़ापे का संकेत देते थे वहीं अब ये तनाव, खानपान में जरूरी न्यट्रिशन्स की कमी और कई दूसरी बीमारियों की ओर संकेत करते हैं। आजकल 21-22 साल के युवाओं के भी बाल सफेद होने लगे हैं जो खूबसूरती ही नहीं कॉन्फिडेंस भी कम करने का काम करते हैं। तो आइए जानते हैं इसके पीछे की वजहों और इससे बचने के उपायों के बारे में।।

1. फंगल इंफेक्शन : अगर स्कैल्प में किसी भी तरह का इंफेक्शन हो गया हो तो इससे बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं और टूटकर गिरने भी लगते हैं। इससे बचने का एकमात्र उपाय है कि गर्मी हो या सर्दी, साफ-सफाई का खास ख्याल रखें।

2. विटमिन की कमी: शरीर में विटमिन बी 12 की कमी की वजह से परनीशियस एनीमिया होने की संभावना बनी रहती है, जिससे बाल असमय सफेद होने लगते हैं।

3. एनीमिया: एनीमिया मतलब बॉडी में खून ही नहीं ऑक्सीजन की कमी होना भी होता है। इसकी वजह से शरीर के कई अंगों तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती जिसमें से स्कैल्प भी शामिल है और इस वजह से भी बाल सफेद होने लगते हैं।

4. जि़ंक की कमी: स्किन, बोन्स और स्कैल्प को हेल्दी बनाए रखने के लिए सही मात्रा में न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। इसकी कमी असमय बालों के सफेद होने की वजह बन सकती है।

5. थायरॉयड डिसॉर्डर: अगर आपके बाल सफेद होने के साथ ही काफी वक्त से टूट रहे हैं तो एक बार थायरॉयड का टेस्ट करा लें क्योंकि हाइपोथायरॉयडिज्म व हाइपरथायरॉयडिज्म के कारण भी बालों की रंगत हल्की होने लगती है। 

6. टेंशन : बेवजह की टेंशन से भी बाल सफेद होने लगते हैं तो अगर आपके बाल असमय सफेद हो रहे हैं तो सबसे पहले फालतू की टेंशन लेना कम करें इसके बाद दूसरे जरूरी उपाय अपनाएं।

7. हॉर्मोनल असंतुलन: हॉर्मोन में हो रहे बदलाव का असर त्वचा व बालों पर ज़रूर पड़ता है।

खानपान में बदलाव से संभव है इलाज

बालों को सफेद होने से बचाने और टूटने से रोकने के लिए सबसे पहले अपनी डाइट पर ध्यान दें। बेशक साफ-सफाई भी जरूरी है लेकिन संतुलित डाइट का रोल भी बहुत ही खास होता है। इसके लिए जिंक, आयरन, विटमिन बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन और ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त डाइट लें। मशरूम, गाजर, ओट्स, सोयाबीन, खीरा, दही, पत्ते वाली सब्जि़यां, अंडे, बादाम, आंवला, मछली और लो फैट चीज़ की मात्रा जरूर शामिल करें। बालों को हेल्दी, मजबूत व शाइन बनाए रखने के लिए केमिकल वाले प्रोडक्ट्स इस्तेमाल प्रयोग करने के जगह नेचुरल प्रोडक्ट्स बेस्ट रहेंगे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.