दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Coronavirus Masks: कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए मास्क कैसा होना चाहिए, जानिए

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए चेहरे पर मास्क पूरी तरह फिट हो या डबल हो।

Coronavirus Masks कोरोनावायरस का ट्रांसमिशन हवा के जरिए हो रहा है इसका ट्रांसमिशन घर में उन जगहों पर ज्यादा है जहां वेंटिलेशन की सुविधा नहीं है। ऐसे में संक्रामक पार्टिकल्स को सांस तक पहुंचने से रोकने के लिए असरदार मास्क का होना जरूरी है।

Shilpa SrivastavaThu, 06 May 2021 11:21 AM (IST)

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोना महामारी अब एक सूनामी बन चुकी है। देशभर में रोज़ाना तीन लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, और मौत का तांडव भी जारी है। इस महामारी के दौर में खुद को बचाने के लिए असरदार मास्क का सेवन बहुत जरूरी है। लैंसेट की हालिया रिसर्च में यह बात सामने आई है कि कोरोनावायरस का ट्रांसमिशन हवा के जरिए हो रहा है। इस वायरस के ट्रांसमिशन की दर इंडोर यानि घर में उन जगहों पर ज्यादा है जहां वेंटिलेशन की सुविधा नहीं है। ऐसे में संक्रामक पार्टिकल्स को सांस तक पहुंचने से रोकने के लिए मास्क का अहम किरदार है।

लूज और अनफिट मास्क इस बीमारी को दावत दे सकता है। इसलिए जरूरी है कि आपके चेहरे पर मास्क पूरी तरह फिट हो या डबल मास्क हो। आइए जानते हैं कि हवा में कैसे फैलता है कोरोनावायरस और उससे निबटने के लिए हमारा मास्क कैसा हो।

हवा में कैसे फैलता है कोरोना:

कोरोनावायरस खांसी और छींक के महीन कणों से हवा में फैलता है। हवा के जरिए यह दूसरे शख्स के शरीर में प्रवेश कर सकता है। मेडिकल जर्नल द लैंसेट ने अपनी एक रिपोर्ट में यह दावा किया है कि अगर संक्रमित शख्स सांस छोड़ता है तो उसी हवा में सांस लेने से स्वस्थ इंसान भी कोरोना से संक्रामित हो सकता है। हवा में भी कोरोना मौजूद है इसलिए मास्क का इस्तेमाल बेहद जरूरी है।

कोरोना से बचाव के लिए मास्क कैसा हो?

सर्जिकल मास्क:

कोरोना से बचाव के लिए कोई भी तीन लेयर वाला मास्क बेस्ट है। तीन लेयर वाला मास्क हवा में मौजूद बड़े पॉल्यूशन के कणों को भी रोकता है। यूज एंड थ्रो वाला यह सर्जिकल मास्क कोरोना से बचाव के लिए उपयोगी है।

कपड़े का मास्क:

कॉटन के कपड़े का मास्क लगाने से सांस लेने में दिक्कत नहीं होती। ये मास्क देश और दुनिया में सबसे ज्यादा पसंद किया जा रहा है। ध्यान रखें कि कॉटन का यह मास्क तीन लेयर का होना चाहिए। इसे वॉश करके कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है। आप अगर इस मास्क में खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करते तो आप पहले कपड़े का मास्क लगाएं उसके ऊपर सर्जिकल मास्क भी लगा सकते हैं।

N95 मास्क:

यह मास्क सबसे भरोसेमंद मास्क है लेकिन इसे बिना वाल्व के इस्तेमाल करें। कोई भी वॉल्व वाला मास्क रिस्की हो सकता है। वाल्व के माध्यम से हवा बाहर और अंदर आती जाती है जो तंदुरूस्त आदमी को भी संक्रामित कर सकती है। N95 मास्क का इस्तेमाल ज्यादातर मेडिकल स्टॉफ ही करता है।

रूमाल, तौलिया या अंगोछा भी है बेहतर:

अगर आप भीड़-भाड़ में नहीं जाते तो आप रूमाल, तोलिया या अंगोछा से भी मुंह को कवर कर सकते हैं। याद रखें कि रूमाल, तोलिया या अंगोछा को दो-तीन लेयर बना कर ही इस्तेमाल करें। घर में आते ही इसे इस तरह खोलें कि चेहरे पर हाथ नहीं लगें।

मास्क पहनते समय जरूरी सावधानिया

जितना जरूरी मास्क पहनना है उतना ही जरूरी मास्क को ठीक से पहनना भी है। मास्क ऐसा लें जिसमें नाक, मुंह और ठुड्डी सही ढंग से ढक जाएं। मास्क ऐसा हो जिसे बार-बार एडजस्ट नहीं करना पड़े। मास्क पहनने के बाद चेहरे और मास्क के बीच ज्यादा गैप नहीं हो। सांस लेते समय हवा मास्क से गुजरनी चाहिए साइड से नहीं। ऐसा मास्क पहने जिससे सांस लेने में दिक्कत नहीं हो। मास्क को पहनने के बाद हाथों को बार-बार मास्क पर नहीं लगाएं। मास्क उतारने के बाद 20 सेकंड तक साबुन से हाथों को साफ करें।

                    Written By: Shahina Noor

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.