बदलते मौसम में फ्लू से बचाव के लिए इन घरेलू चीजों का करें इस्तेमाल

शहद में एंटी बैक्टीरियल एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं। अगर गले में खराश है तो आप शहद अदरक और काली मिर्च युक्त जूस बनाकर पिएं। इससे आपको गले की खराश में जल्द आराम मिल सकता है।

Umanath SinghSun, 12 Jul 2020 05:01 PM (IST)
शहद में एंटी बैक्टीरियल, एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं।

दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। बसंती बयार के बीच सूर्य का पारा चढ़ने लगा है। मौसम परिवर्तन से लोगों को सर्दी से राहत तो मिली है, लेकिन बदलते मौसम में होने वाली बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। इन दिनों तापमान में बदलाव से सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इससे लोगों को सर्दी-खांसी, जुकाम और हल्का बुखार भी होता है। विशेषज्ञों की मानें तो बदलते मौसम में इम्यून सिस्टम मजबूत रहना चाहिए। इससे फ्लू का जोखिम कम जाता है। हालांकि, किचन में कई ऐसी चीजें हैं, जिनका सेवन कर फ्लू को घर बैठे ठीक किया जा सकता है। अगर आपको नहीं पता है, तो आइए जानते हैं-

काढ़ा

बदलते मौसम में काढ़ा रामबाण औषधि है। इसे काली मिर्च, तुलसी के पत्ते, देसी घी, अदरक, हल्दी और लहसुन आदि मिलाकर बनाया जाता है। काढ़ा न केवल सर्दी, खांसी और फ्लू आदि में फायदेमंद होता है बल्कि इससे इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। डॉक्टर्स कोरोना वायरस से बचने के लिए काढ़ा पीने की सलाह देते हैं। अगर आपके घर में किसी सदस्य को फ्लू की शिकायत है तो आप उन्हें काढ़ा पिला सकते हैं।

लहसुन

हर प्रकार के व्यंजनों में लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है। इससे जायके का स्वाद बढ़ जाता है। इसमें कई रासायनिक गुण पाए जाते हैं। साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी पाए जाते हैं। अगर आपको टॉन्सिल्स की शिकायत है, तो लहसुन को सिरके में मिलाकर गरारे करें। आपको जल्द आराम देखने को मिल सकता है। सिरदर्द में लहसुन की कलियों को माथे पर स्क्रब करने से आराम मिलता है। कोल्ड में भी यह फायदेमंद होता है।

शहद और नींबू

इसके सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। साथ ही फ्लू और सर्दी में आराम देता है। इसके लिए आप शहद में नींबू का रस उचित मात्रा में मिलाकर सेवन करें। इससे आपको जल्द आराम प्राप्त होगा।

शहद और मसाले

शहद में एंटी बैक्टीरियल, एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं। अगर गले में खराश है तो आप शहद, अदरक और काली मिर्च युक्त जूस बनाकर पिएं। इससे आपको गले की खराश में जल्द आराम मिल सकता है। इसके साथ ही शहद के सेवन से गले की खराश, खिचखिच और चुभन से भी निजात मिलता है।

हल्दी युक्त दूध और घी

सर्दी और खांसी में हल्दी-दूध बहुत लाभकारी होता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। हल्दी युक्त दूध और घी फ्लू के लक्षण और सर्दी को दूर करने में सहायक होते हैं। खासकर रात में सोने से पहले हल्दी युक्त दूध पीना अधिक फायदेमंद होता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.