World Breastfeeding Week 2021: कोरोना महामारी के दौरान नवजात शिशु को स्तनपान कराते समय इन बातों का रखें ध्यान

डॉक्टर्स हमेशा नवजात शिशुओं को मां का दूध देने की सलाह देते हैं। इसके लिए शिशु के जन्म के बाद मां का दूध ही देना चाहिए। मां के दूध में जरूरी पोषक तत्व के साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिससे शिशुओं के संपूर्ण शरीर का विकास होता है।

Pravin KumarSun, 01 Aug 2021 09:32 PM (IST)
शिशु को स्तनपान कराने से पहले अपने हाथों को जरूर धोएं।

दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। World Breastfeeding Week 2021: हर साल 1 अगस्त से लेकर 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है। इसे पहली बार साल 1991 में मनाया गया था। उस समय से हर साल अगस्त महीने के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य केवल और केवल स्तनपान को बढ़ावा देना है। साथ ही महिलाओं को स्तनपान कराने के प्रति जागरूक करना है। मां का दूध शिशुओं के लिए अमृत समान होता है। इसके सेवन से शिशु कुपोषण व अतिसार से सुरक्षित और संरक्षित रहता है। स्तनपान कराने से महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर और प्री-मोनोपोजल गर्भाशय के कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। आइए, इसके बारे में विस्तार से जानते हैं-

शिशुओं के लिए स्तनपान क्यों जरूरी है

डॉक्टर्स हमेशा नवजात शिशुओं को मां का दूध देने की सलाह देते हैं। इसके लिए शिशु के जन्म के बाद मां का दूध ही देना चाहिए। मां के दूध में जरूरी पोषक तत्व के साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जिससे शिशुओं के संपूर्ण शरीर का विकास होता है। मां का दूध शिशुओं का सर्वोत्तम आहार है। शिशु के जन्म के बाद मां के पहले दूध को कोलोस्‍ट्रम कहते हैं, जो 4-5 दिनों तक निकलता रहता है। इस दूध के सेवन से शिशु कई प्रकार की बीमारियों से सुरक्षित रहता है। शिशुओं के जन्म से लेकर 6 महीने तक मां का दूध ही पिलाना चाहिए। हालांकि, पहली बार माता बनने वाली महिलाओं को स्तनपान कराने के लिए कुछ नियमों का ध्यान रखना चाहिए। चूंकि अनुभवहीनता की वजह से शिशुओं को स्तनपान कराने से उन्हें दस्त की समस्या हो सकती है।

स्तनपान के लाभ

-प्रसवोत्तर वजन कम करता है।

-गर्भाशय को पूर्व आकार लाने में मदद करता है, जिससे नाल निष्काषित हो सके।

-जन्म के अंतर को बनाए रखने में सहायक होता है।

-मातृ कैंसर का खतरा कम होता है।

-प्रसवोत्तर अवसाद को कम करता है।

-इससे नवजात शिशु की इम्युनिटी मजबूत होती है।

-इससे संक्रमण समेत कई बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।

-इससे शिशु को आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति होती है।

कोरोना संक्रमण के दौरान बरतें ये सावधानियां

-शिशु को स्तनपान कराने से पहले अपने हाथों को जरूर धोएं। इस दौरान कम से कम 20 सेंकेड तक अपने हाथों को पानी जरूर साफ करें। सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल जरूर करें।

-कोरोना संक्रमित होने पर डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही स्तनपान कराएं।

-हमेशा मास्क पहनकर रहें। इससे शिशु के संक्रमित होने का खतरा कम हो जाता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.