कई बीमारियों की एक दवा है Green Coffee, जानें इसके फायदे

ग्रीन कॉफी को डिटॉक्स के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है।

ग्रीन कॉफी में मैक्रो नुट्रिएंट्स कार्बोहाइड्रेट्स प्रोटीन और फैट पाए जाते हैं। साथ ही इसमें प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट्स के गुण पाए जाते हैं जो ब्लड प्रेशर टाइप 2 डायबिटीज मोटापा और हृदय संबंधी बीमारियों में फायदेमंद साबित होते हैं।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 03:43 PM (IST) Author: Umanath Singh

ई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। आधुनिक समय में लोग अपने दिन की शुरआत चाय या कॉफ़ी से करते हैं। कुछ लोग चाय पीना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग कॉफ़ी पीना पसंद करते हैं। हालांकि, आजकल ग्रीन टी ट्रेंडिंग में है। डॉक्टर्स भी सेहतमंद रहने के लिए मिल्क टी के बदले में ग्रीन टी पीने की सलाह देते हैं। ग्रीन टी सेहत और सुंदरता दोनों के लिए फायदेमंद होती है। इससे बढ़ते वजन को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। वहीं, कई देशों में ग्रीन कॉफ़ी भी काफी पॉपुलर है और धीरे-धीरे यह दुनियाभर में फ़ैल रही है। कई शोध में ग्रीन कॉफ़ी के फायदे को गिनाया गया है। खासकर मोटापे और हाई बीपी में यह दवा समान है। इसके अतिरक्त ग्रीन कॉफी को डिटॉक्स के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके सेवन से मेटाबॉलिज़्म में भी सुधार होता है। अगर आपको ग्रीन कॉफी के बारे में नहीं पता है, तो आइए इसके फायदे जानते हैं-

researchgate.net पर CRITICAL REVIEWS IN FOOD SCIENCE AND NUTRITION की एक शोध के अनुसार, ग्रीन कॉफी में मैक्रो नुट्रिएंट्स कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन और फैट पाए जाते हैं। साथ ही इसमें प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट्स के गुण पाए जाते हैं जो ब्लड प्रेशर, टाइप 2 डायबिटीज, मोटापा और हृदय संबंधी बीमारियों में फायदेमंद साबित होते हैं।

वजन कम करने में सहायक

चूहों पर किए गए अध्ययन में पाया गया कि ग्रीन कॉफी के सेवन से बढ़ते वजन को नियंत्रित किया जा सकता है। 14 दिनों तक chlorogenic acid युक्त डाइट चूहों को दिया गया। इससे चूहें के वजन में परिवर्त्तन पाया गया।

कैंसर में फायदेमंद!

The International Agency for Research on Cancer (IARC) ने भी ग्रीन कॉफ़ी को non-carcinogenic यानी अकैंसरकारी बताया है। हालांकि, इस विषय पर और शोध की जरूरत है। शोधकर्ताओं में तथ्य को लेकर मतभेद हैं।

कितनी कॉफी पिएं

विशेषज्ञों का ग्रीन कॉफ़ी के बारे में कहना है कि एक दिन में कम से कम 3 कप ग्रीन कॉफ़ी पी सकते हैं। हालांकि, ग्रीन कॉफी अच्छी क्वालिटी की होनी चाहिए। साथ ही कॉफी में कैफीन नाममात्र हो। अगर आप सेहतमंद रहना चाहते हैं, रोजाना एक कप ग्रीन कॉफ़ी जरूर पिएं।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.