श्री बालाजी स्पंज प्लांट पर हमले से दहशत में आया सुरक्षा कर्मी ड्यूटी छोड़ लौटा चाईबासा

श्री बालाजी स्पंज प्लांट पर हमले से दहशत में आया सुरक्षा कर्मी ड्यूटी छोड़ लौटा चाईबासा

खासजामदा बस्ती समीप संचालित श्री बालाजी इंडस्ट्रियल लिमिटेड के स्पंज प्लांट में घुसकर कर्मचारियों को बंदूक के कुंदे से पीटने तोड़फोड व लोडर में आग लगाने के मामले में पुलिस का अनुसंधान जारी है।

JagranMon, 19 Apr 2021 08:37 PM (IST)

संवाद सूत्र, नोवामुंडी : खासजामदा बस्ती समीप संचालित श्री बालाजी इंडस्ट्रियल लिमिटेड के स्पंज प्लांट में घुसकर कर्मचारियों को बंदूक के कुंदे से पीटने, तोड़फोड व लोडर में आग लगाने के मामले में पुलिस का अनुसंधान जारी है। हालांकि पुलिस अभी तक वारदात को अंजाम देने वाले अपराधियों का कोई सुराग नहीं ढूंढ पायी है। इधर, घटना के बाद से प्लांट में काम करने वाले कर्मचारी दहशत में हैं। किरीबुरु एसडीपीओ डॉक्टर हीरालाल रवि ने घटना के अनुसंधान के लिए एक विशेष टीम का गठन किया है। टीम ने प्लांट के सुरक्षा प्रभारी का बयान लेकर अपनी जांच तेज कर दी है। इधर, सूचना मिली है कि सिक्युरिटी गार्ड बागुन कालुंडिया घटना के बाद से काफी भयभीत है। बताया गया कि की घटना के बाद पीआरओ अजित श्रीवास्तव के पास आकर वह काफी देर तक रोया और ड्यूटी नहीं करने की बात कही। बाद में अपनी छह वर्षीय बेटी को लेकर ड्यूटी छोड़कर अपने घर चाईबासा लौट गया है। यहां बता दें कि मामले में सुरक्षा पदाधिकारी संतोष मिश्रा के बयान पर 5 अज्ञात लोगों पर बड़ाजामदा ओपी में प्राथमिकी दर्ज हुई है।

-----------------------

आसपास के गांवों के अराजक तत्वों पर मजदूरों को शक

प्लांट में कार्यरत मजदूरों को शक है कि आसपास के गांव के अराजक तत्वों ने ही कांड को अंजाम दिया है। दो साल पहले खास जामदा बस्ती के भुजू रजक के घर पर भी अपने को नक्सली दस्ते से होने की बात कहकर कुछ नकाबपोश मकान के दरवाजे को तोड़कर अंदर प्रवेश कर गये थे। घर के लोगों से सात मोबाइल लूटकर चले गए थे। उस समय भी उनके हाथों में रिवाल्वर और हथियार था। बाद में जब पुलिसिया कार्रवाई हुई तो घटना को अंजाम देने वाले सभी लोग उसी गांव के निकले। इस बार की घटना में भी कमोवेश उसी तरह की आशंका जतायी जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.