बिजली तार की चपेट में आकर गजराज की मौत

प्रखंड के कुंदुरमुंडा टकबहार गांव में सोमवार रात एक जंगली हाथी 11000 हजार वोल्ट की क्षमता की तार की चपेट में आया। वन विभाग ने प्रावधानों के तहत उसका दफन कराया। पशु चिकित्सकों की टीम ने हाथी का पोस्टमार्टम किया।

Tue, 21 Sep 2021 08:19 PM (IST)
पशु चिकित्सकों की टीम ने हाथी का पोस्टमार्टम किया।

बोलबा (सिमडेगा), जासं। सिमडेगा जिले के बोलबा प्रखंड के कुंदुरमुंडा टकबहार  गांव  में सोमवार रात्रि  में एक जंगली हाथी 11000 केवीए के बिजली तारों की चपेट में आ गया,   जिससे   उसकी दर्दनाक मौत हो गई। जंगली हाथी की मृत्यु की सूचना ग्रामीणों ने वन विभाग के पदाधिकारियों को दी तो वन विभाग के अधिकारियों के साथ साथ पशुचिकित्सकों की टीम भी घटनास्थल पर पहुंची। मृत हाथी के पोस्टमार्टम एवं अन्य आवश्यक प्रक्रियाएं वन विभाग के पदाधिकारियों ने पूरी की और जेसीबी की मदद से गड्ढा खुदवाकर उसे समुचित तरीके से दफनाया।

विदित हो कि बोलबा प्रखंड में हाथियों की मौजूदगी और उनसे लगातार ग्रामीणों को हो रहे नुकसान की खबरें पिछले छ: साल से लगातार आ रही हैं। परंतु प्रखंड क्षेत्र में किसी दुर्घटना में किसी हाथी के मृत्यु की यह पहली घटनाहै। हाथी झारखंड का राजकीय पशु होने के साथ-साथ सनातन धर्मावलंबियों के लिए धार्मिक रुप से आदरणीय प्राणी है।

ऐसे में  विभाग ने घटना को संजीदगी से लेते हुए त्वरित रुप से  घटनास्थल पर पहुंचा। विश्व हिंदू परिषद के सदस्य भी घटनास्थल पर आए और वन विभाग के पदाधिकारियों से मौखिक अनुमति लेकर मृत हाथी को सनातनी परंपरा में सम्मान देते हुए आवश्यक धार्मिक कार्य करते हुए उसे अंतिम विदाई दी।

हाथी के मृत्यु के संबंध में वन विभाग के अधिकारियों ने ग्रामीणों से आवश्यक जानकारी ली और हाथी के शारीरिक स्थिति की भी नाप-जोख किया। पशु चिकित्सकों की टीम ने पोस्टमार्टम किया और जल्द ही रिपोर्ट वन विभाग को सौंपने की बात कही। घटनास्थल पर डीएफओ ए के गुप्ता, रेंजर शंभु शरण चौधरी,प्रमुख सुरजन बड़ाईक, सांसद प्रतिनिधि अजय जायसवाल,वनकर्मी जतरु उरांव  सहित कई लोग मौजूद थे।

हाथी के दांत को कब्जे में लिया विभाग

कुंदुरमुंडा टकबहार गांव में मृत हाथी के दांत को आवश्यक प्रक्रिया पूरी करते हुए वन विभाग ने निकलवाया और वन प्रमंडल कार्यालय भेजा। इसे वन विभाग के उच्चाधिकारियों के आदेशानुसार अन्यत्र भेजा जाएगा।डीएफओ अरविंद गुप्ता ने बताया कि हाथी के दोनों दांतों का कुल वजन सात किलो 750 ग्राम है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.