top menutop menutop menu

प्रखंड मुख्यालय से 500 मीटर दूर पर हाथियों का उत्पात

ठेठईटांगर: प्रखंड मुख्यालय से मात्र 500 मीटर दूरी पर जंगली हाथियों ने उत्पात मचाया। हाथियों ने पांच घरों को तोड़ दिए। मुख्यालय के करीब हाथियों के झुंड के पहुंचने लोग सकते में आ गए। आतंक के साये में लोगों ने पूरी रात बिताई। हाथियों ने मुखिया टोली गांव में पांच घरों को क्षतिग्रस्त कर दिया। पीड़ितों में कुर्सेला ढूंढो, विपिन डुंगडुंग, सिप्रियन सोरेन, लौरेंसिया, डुंगडुंग व प्रतिमा के घरा को हाथियों ने तोड़ दिया। लगभग 20 क्विटल धान को भी चट कर गए। इधर, घर में सभी परिवार सोए हुए थे। हाथियों का आहट सुनकर प्रखंड मुख्यालय ब्लॉक सभी लोग दौड़ पड़े। इधर, ठेठईटांगर मुख्यालय के मोहम्मद नवाब फिरदौस, मुख्तार आलम और अरुण कुमार उक्त हाथियों को भगाने के क्रम में हाथी के नजदीक पहुंच गए, मगर हाथी हमला के लिए मुड़े तो तीनों घबराकर अपने घर में घुस गए। हाथी उसी घर के आसपास मंडराने लगे। तीनों युवक घबराए हुए इधर-उधर फोन घुमाने लगे कि हाथियों ने उन्हें घेर लिया है। खबर सुनते ही पूरे ठेठईटांगर से सैकड़ों लोग उस घटनास्थल पर टॉर्च और मशाल लेकर दौड़ पड़े।तभी हाथियों को यह मसाला और टॉर्च का लाइट देखते हुए उस घर को तोड़ते हुए भाग गए। इधर ग्रामीणों के खदेड़े जाने के बाद भी हाथी थोड़ी दूर पर जाकर सब्जी फसलों को नुकसान पहुंचाते रहे।इधर ठेठईटांगर में हाथियों का प्रकोप से शाम 7:00 बजे से सुबह 4:00 बजे तक लोग परेशान रहे। मगर विभाग के पदाधिकारी सुबक तक नहीं पहुंचे। इस पर प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार ने भी वन विभाग के कर्मचारी लापरवाही बरत रहे हैं। उनपर कार्रवाई करनी चाहिए। प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार ने कहा कि पांचों पीड़ितों को अनाज और साथ में कंबल दिया गया। पीड़ितों ने कहा कि खाने के लिए पकाना जरूरी है और पकाने का बर्तन हाथियों द्वारा सारा नष्ट कर दिया गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.