दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

वैक्सीन लिया नहीं, सरकारी रजिस्टर व डाटा में हो गई इंट्री

वैक्सीन लिया नहीं, सरकारी रजिस्टर व डाटा में हो गई इंट्री

सरायकेला-खरसावां जिलेम में शनिवार को 18 प्लस के वैक्सीनेशन अभियान में कई खामियां दिखी। योगेश कुमार मुंदरा ने वैक्सीनेशन के लिए स्लॉट बुक कराया था..

JagranSun, 16 May 2021 07:30 AM (IST)

जागरण संवाददाता, सरायकेला : सरायकेला-खरसावां जिलेम में शनिवार को 18 प्लस के वैक्सीनेशन अभियान में कई खामियां दिखी। योगेश कुमार मुंदरा ने वैक्सीनेशन के लिए स्लॉट बुक कराया था। उसे आदित्यपुर स्थित स्वर्ण रेखा इंस्पेक्शन बिल्डिंग में वैक्सीनेशन का स्लॉट मिला था। युवक पहले दिन समय पर नहीं पहुंच पाया। शनिवार को वैक्सीन लेने पहुंचा तो उसे यह कहकर वैक्सीन नहीं दिया गया कि आपका वैक्सीनेशन हो चुका है। सिर्फ इतना ही नहीं युवक के मोबाइल पर मैसेज भी दिया गया है कि आप वैक्सीन ले चुके हैं। मैसेज देखने के बाद युवक दंग रह गया। कहा, मैने वैक्सीन ली ही नहीं तो सरकारी रजिस्टर व डाटा में इंट्री कैसे हो गया। कहीं ना कहीं गड़बड़झाला है। स्वास्थ्य कर्मी ने बताया कि उनके डाटा में संबंधित युवक को वैक्सीन दिया जा चुका है। ऐसे में उन्हें दोबारा वैक्सीन कैसे दे सकती हूं। नोडल पदाधिकारी ने कहा कि यह मानवीय भूल है। उन्होने स्वास्थ्य कर्मी को तत्काल युवक को वैक्सीन देने का निर्देश दिया। उसके बाद संबंधित युवक को कोरोना का टीका दिया गया। लावारिस बच्चों को संरक्षण देगी जिला बाल संरक्षण इकाई : कोरोना ने कई परिवारों से उनकी खुशियां छीन ली है। जिन परिवारों में कल तक बच्चों की किलकारियां गूंज रही थी, उस घर में आज बच्चे गुमशुम नजर आ रहे हैं। ऐसे बच्चों के जीवन में खुशियां लाने के लिए जिला बाल संरक्षण इकाई सकारात्मक प्रयास कर रहा है। जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी संतोष कुमार ठाकुर ने बताया कि ऐसे बच्चों की सूचना 1098 पर कॉल कर चाइल्ड लाइन को दी जा सकती है। जिला चाइल्ड लाइन के मोबाइल नंबर 9931335525 पर भी इसकी सूचना दी जा सकती है। साथ ही ऐसे बच्चों को गौरांगडीह जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय स्थित बाल कल्याण समिति के समक्ष भी प्रस्तुत किया जा सकता है। ऐसे बच्चों व परिवार की पहचान कर उन्हें हरसंभव मदद पहुंचाने की ओर कदम बढ़ाया गया है। संपर्क के लिए मोबाइल नंबर 8340661589 जारी किया गया है। इसके अलावा सामुदायिक भवन सरायकेला-खरसावां के समीप बहुद्देशीय भवन में जिला बाल संरक्षण इकाई को मोबाइल नंबर 9234203438 पर सूचना दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि चाइल्ड लाइन के निदेशक व केंद्र समन्वयक को जिले में भ्रमण करने का निर्देश दिया गया है। यदि कोई बच्चा विकट परिस्थिति में पाया जाता है तो कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कर बच्चे की सुरक्षा व संरक्षण के लिए आवश्यक कार्रवाई कर बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत करें। उन्होंने बताया कि जिला बाल संरक्षण इकाई के अध्यक्ष सह उपायुक्त के निर्देश पर ऐसे बच्चों की सुरक्षा व संरक्षण के लिए कवायद की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.