दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

गंगा की मछलियों के नहीं मिल रहे खरीदार

गंगा की मछलियों के नहीं मिल रहे खरीदार

जागरण संवाददाता साहिबगंज बिहार व उत्तर प्रदेश में गंगा से कोरोना संक्रमितों का शव मिलने

JagranSun, 16 May 2021 05:47 PM (IST)

जागरण संवाददाता, साहिबगंज : बिहार व उत्तर प्रदेश में गंगा से कोरोना संक्रमितों का शव मिलने की सूचना के बाद इन दिनों जिलावासियों ने नदी की मछलियों को खाना कम दिया है। नतीजतन मछलियों के खरीदार नहीं मिल रहे हैं। कीमत भी कम हो गई है। सामान्य दिनों में 200 रुपये प्रति किलो बिकनेवाली बड़ी मछली इन दिनों 150 रुपये तो 150 रुपये प्रति किलो बिकने वाली मछली 110 रुपये प्रति किलो बिक रही है। इस वजह से कई मछुआरों ने मछली मारना भी छोड़ दिया है। संक्रमण का खौफ इस कदर है कि नियमित रूप से गंगा नहानेवाले कुछ लोगों ने इन दिनों उधर का रुख करना छोड़ दिया है। जानकारी के अनुसार जिले में मछुआरों का करीब 20 समूह साहिबगंज से लेकर राजमहल तक गंगा में नियमित रूप से मछली मारने का काम करता है। कुछ लोग व्यक्तिगत रूप से भी थोड़ा बहुत मछली मारते हैं। मार्च-अप्रैल तक 15-20 क्विटल मछली प्रतिदिन गंगा से निकाली जाती थी लेकिन इन दिनों वह घटकर चार-पांच क्विटल पर आ गई है।

वैसे मई से जुलाई तक का महीना मछलियों के प्रजनन का होता है। इसलिए इस अवधि में गंगा में बड़ा जाल लगाने पर रोक भी रहती है। मछुआरे छोटे-छोटे जाल से मछली मारते थे लेकिन मांग में कमी आने से मछुआरों ने कई मछुआरों ने मछली मारना छोड़ दिया है। शुक्रवार को राजमहल में काली घाट पर एक शव होने की सूचना पर गंगा नहाने गए कई लोग बिना नहाए लौट गए थे। बाद में थाना प्रभारी ने जाकर जांच-पड़ताल की तो वह एक मवेशी का निकला।

------------------

गंगा में मिलनेवाली मछलियां

साहिबगंज से बहनेवाली गंगा नदी में छोटी मछलियों में चपरी, फसवा, सुतरी, कौआलोली, चन्ना, पिहोरा, पतला, छोटी झींगा व बड़ी मछलियों में रोहू, कतला, मिरगल, बोआरी, फल्ली, टेंगरा आदि मिलती है। फरक्का से आगे बढ़ने पर बड़ी झींगा मिलती है।

----------------

गंगा की मछलियों की डिमांड इन दिनों घट गई है। खरीदार तालाब की मछलियों की खोज कर रहे हैं। डिमांड घटने की वजह से कई मछुआरों ने गंगा में जाल गिराना भी छोड़ दिया है। कुछ दिन पूर्व तक जिले में 15-20 क्विटल मछली प्रतिदिन गंगा से निकाली जाती थी और वह तुरंत बिक जाती थी। फिलहाल चार-पांच क्विटल से अधिक नहीं निकलती है।

अरुण कुमार चौधरी, निदेशक, झासकोफिश रांची सह अध्यक्ष मछुआ सोसाइटी साहिबगंज

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.