Jharkhand: गो हत्या का विरोध करने पर मुस्लिम युवक की गला रेतकर हत्‍या, 2 गिरफ्तार

मंत्री मिथिलेश ठाकुर से शिकायत करती युवक की मां आयशा। जागरण
Publish Date:Tue, 20 Oct 2020 11:53 AM (IST) Author: Sujeet Kumar Suman

गढ़वा, जासं। गो हत्या का विरोध करना मो. आरजू पवडिय़ा को महंगा पड़ा, हत्यारों ने उसकी गला रेत कर हत्या कर दी। 18 वर्षीय आरजू की मां आयशा खातून ने मंगलवार को इस संबंध में झारखंड के गढ़वा जिले के सदर थाने में मुन्नु उर्फ मुन्ना कुरैशी, उसके भाई कईल उर्फ अफजल कुरैशी व दोनों आरोपितों के मामा खालिद कुरैशी पर प्राथमिकी दर्ज कराई है। गढ़वा सदर थाना क्षेत्र के उंचरी मोहल्ला में यह घटना हुई।

आयशा खातून ने प्राथमिकी में कहा है कि मो. आरजू पवडिय़ा आस-पास के लोगों को गो हत्या करने से मना करता था। कहता था यह ठीक नहीं। इससे गंदगी फैलती है और लोग बीमार पड़ते हैं। सोमवार को भी उसने गो हत्या कर रहे लोगों को रोका था। यह विरोध मुन्ना कुरैशी, अफजल कुरैशी व खालिद कुरैशी को नागवार गुजरा। बोला ज्यादा बोलता है, इसे ठीक से बताना होगा।

खालिद कुरैशी के कहने पर दोनों भाई सोमवार की रात घर में घुस गए और आरजू से मारपीट करने लगे। एक भाई ने आरजू का हाथ पकड़ा और दूसरे ने चाकू से गला रेत दिया। वारदात को अंजाम देकर दोनों भाग गए। घटना के बाद परिजन आरजू को अस्पताल ले गए लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने मुन्ना और कईल को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

वहीं, खालिद कुरैशी घर से फरार है। आरजू हैदराबाद में मजदूरी करता था। लॉकडाउन में वह वापस आ गया था और वर्तमान में उंचरी मोहल्ले में अपने नाना के यहां रहता था। वहीं, मंगलवार को सदर अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर से मिलकर आयशा ने अपने पुत्र की हत्या में शामिल दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की। मंत्री ने इस घटना पर दु:ख व्यक्त करते हुए मौके पर मौजूद थाना प्रभारी राजीव कुमार ङ्क्षसह को मामले की तहकीकात कर दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने का निर्देश दिया।

'घटना के 12 घंटे के भीतर ही पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। गो हत्या रोकने पर हत्या संबंधित आरोप की जांच की जा रही है। आरोपितों ने नशे में विवाद के बाद चाकू से गला रेतकर हत्या करने की भी बात कही है। पुलिस सभी पहलुओं की जांच कर रही है।' -बहामन टूटी, एसडीपीओ, गढ़वा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.