कोचा टोली नामकुम की टीम ने जीता खिताब

बेड़ो प्रखंड के जरिया गाव स्थित साउथ ग्रीन पार्क स्टेडियम लकड़ाफाड़ा में आयोजित पांच दिवसीय फुटबाल प्रतियोगिता का गुरुवार को फाइनल मैच खेला गया।

JagranPublish:Fri, 22 Oct 2021 05:00 AM (IST) Updated:Fri, 22 Oct 2021 05:00 AM (IST)
कोचा टोली नामकुम की टीम ने जीता खिताब
कोचा टोली नामकुम की टीम ने जीता खिताब

संसू, बेड़ो : बेड़ो प्रखंड के जरिया गाव स्थित साउथ ग्रीन पार्क स्टेडियम लकड़ाफाड़ा में आयोजित पाच दिवसीय आल झारखंड फुटबाल टूर्नामेंट गुरुवार को संपन्न हो गया। फाइनल मैच में कोचा टोली नामकुम की टीम ने बीटी इलेवन की टीम को पेनाल्टी शूटआउट में 4-3 से पराजित करके खिताब पर कब्जा जमाया। विजेता टीम को तीन लाख रुपये की इनाम राशि व विनर कप दिया गया। वहीं, प्रतियोगिता में दूसरा स्थान प्राप्त करने वाली बीटी इलेवन की टीम को एक लाख साठ हजार की राशि व रनर कप प्रदान किया गया। इसके पूर्व फाइनल मैच में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे आदिवासी काग्रेस कमेटी के प्रदेश उपाध्यक्ष सन्नी टोप्पो का बुके देकर भव्य स्वागत किया गया। यहां उन्होंने दोनों टीमों के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर फुटबाल पर किक मारकर फाइनल मैच का शुभारंभ किया। मौके पर सन्नी टोप्पो ने कहा कि खेल से शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक विकास होता है। ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह के टूर्नामेंट के आयोजन से खिलाड़ियों का मनोबल ऊंचा होने के साथ प्रतिभा भी सामने आती है। उन्होंने कहा कि खेल हमारे जीवन का अभिन्न अंग है और खेल को सदा खेल की भावना से ही खेलना चाहिए। खेल से हमारे प्रदेश के खिलाड़ी देश व विदेश में हमारे झारखंड के नाम को रौशन कर रहे हैं। इसलिए आप भी निरंतर प्रयास करते रहे। मैं आप सभी को बधाई देता हूं कि आपका भविष्य उज्जवल हो व आगे चलकर आप अपने देश व प्रदेश का नाम रोशन करें। साथ ही उन्होंने आयोजकों की प्रशसा की। इधर, टूर्नामेंट में तीसरे व चौथे स्थान प्राप्त करने वाली टीम को चालीस-चालीस हजार की पुरस्कार राशि प्रदान की गई। वहीं, बेस्ट गोलकीपर व फाइनल मैच में मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार कोचा टोली नामकुम की टीम के गोलकीपर रविकात को दिया गया। मैन ऑफ द सीरीज बीटी इलेवन के कुल्लू को दिया गया। समारोह में थाना प्रभारी मनीष कुमार गुप्ता, मुन्ना बड़ाईक, काग्रेस पार्टी के प्रखंड अध्यक्ष महादेव कुजूर, अनमोल विनय तिर्की, प्रो. करमा उराव, जफीर आलम मौजूद थे। प्रतियोगिता को सफल बनाने में शशि अनामिश एक्का, ब्रजेश महतो, रमेश महतो, बिशु उराव, अनिल गोप, विशु उराव, अजित लकड़ा, अमर लकड़ा, संतोष लकड़ा ने अहम योगदान दिया।