top menutop menutop menu

मारवाड़ी स्कूल के विद्यार्थियों ने अपने ही स्कूल में दी आठवीं बोर्ड की परीक्षा

जागरण संवादददाता, रांची :

झारखंड एकेडमिक काउंसिल की आठवीं बोर्ड की परीक्षा शुक्रवार को पूरे राज्य में संपन्न हो गई। इसमें शामिल विद्यार्थियों के लिए परीक्षा केंद्र दूसरे स्कूल में बनाए गए थे, जबकि मारवाड़ी प्लस टू उवि के विद्यार्थियों ने अपने स्कूल में ही परीक्षा दी। यानी उनका होम सेंटर था। इस संबंध में मारवाड़ी स्कूल का होम सेंटर बनाने पर जैक सचिव महीप कुमार सिंह ने कहा कि परीक्षा केंद्र का चयन व निर्धारण जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय द्वारा किया जाता है। वहीं डीईओ ने कहा कि जांच करवाता हूं कि गलती कैसे हुई। आगे से अधिक ध्यान रखूंगा। परीक्षा के लिए राज्य भर में 2200 व रांची में 271 केंद्र बनाए गए थे। पिछली बार इस परीक्षा में 40000 परीक्षार्थी फेल हो गए थे।

जिला शिक्षा पदाधिकारी मिथिलेश कुमार सिन्हा ने संत जोसेफ मवि सपारोम, संत इग्नेस उवि इटकी, संत इग्नेस मवि इटकी, बालिका उवि ईटकी और मवि लक्षमी गजेंद्र केंद्र का निरीक्षण किया। प्रवेश पत्र जैक ही जारी करता है

जैक इससे पहले दो बार आठवीं बोर्ड परीक्षा आयोजित कर चुका है। नियमानुसार इस परीक्षा में किसी भी स्कूल का होम सेंटर नहीं होना था। जैक ने बीते 16 जनवरी को सभी डीईओ की बैठक कर निष्पक्ष और कदाचारमुक्त परीक्षा आयोजन के लिए निर्देश दिए थे। इसके बावजूद होम सेंटर बनने पर परीक्षा में निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं। जैक यह कहकर पल्ला झाड़ रहा है कि सेंटर का चयन डीईओ करते हैं, लेकिन अंतिम मुहर तो जैक से लगती है। प्रवेशपत्र तो जैक ही जारी करता है। मारवाड़ी विद्यालय का सेंटर कोड 160

मारवाड़ी प्लस टू उवि का सेंटर कोड 160 था। यहां जिला स्कूल (रौल कोड-111025), शिवनारायण मारवाड़ी कन्या पाठशाला (111026) के अलावा खुद मारवाड़ी प्ल्स टू उवि (11168) का भी सेंटर था। कुल परीक्षार्थी 271 थे जिसमें जिला स्कूल से 61, शिवनारायण मारवाड़ी से 108 और मारवाड़ी प्लस टू से 163 परीक्षार्थी नौ कमरे में बैठकर परीक्षा दिए। मॉडल प्रश्नपत्र पर आधारित थे प्रश्न

परीक्षार्थियों ने कहा कि सभी विषयों के प्रश्न जैक द्वारा जारी मॉडल प्रश्नपत्र पर ही आधारित थे। गणित और अंग्रेजी को छोड़कर सभी विषयों के प्रश्नों को आसान बताया। बच्चों ने कहा कि गणित और अंग्रेजी के प्रश्न थोड़े कठिन थे। हिदी में दो गद्दांश से पांच प्रश्न थे। इसी तरह विद्यालय में खेलकूद के सामान की कमी को दिखाते हुए प्राचार्य को एक पत्र लिखना था। इस पत्र में छूटे हुए अंशों को भरना था। अंग्रेजी के प्रश्नों का पैटर्न भी हिदी की तरह ही था। सामाजिक विज्ञान में झारखंड से पांच प्रश्न पूछे गए थे। इसमें दो प्रश्न बिरसा मुंडा से संबंधित थे। ओएमआर सीट पर हुई परीक्षा

आठवीं बोर्ड की परीक्षा 11 बजे से 2:15 बजे तक हुई। परीक्षा में हिदी, अंग्रेजी, गणित, साइंस व एसएसटी से 20-20 प्रश्न पूछे गए थे। ओएमआर शीट पर हुई परीक्षा में एक सही उत्तर के लिए 2.50 अंक मिलना था। इसके अलावा जिन्होंने अतिरिक्त विषय रखा था उनके लिए 50 अंकों की अलग से परीक्षा हुई। इसके लिए भी 20 प्रश्न थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.