4 साल पहले बेटे को मार डाला, अब हथौड़े व चाकू से हमले में घायल पति की भी मौत

4 साल पहले बेटे को मार डाला, अब हथौड़े व चाकू से हमले में घायल पति की भी मौत
Publish Date:Sat, 07 Dec 2019 02:10 AM (IST) Author:

जागरण संवाददाता, रांची : मोरहाबादी के आभूषण अलंकार ज्वेलर्स में लूट के दौरान अपराधी ने हथौड़े और चाकू से दुकानदार पर हमला किया था। घटना के पांच दिनों बाद दुकानदार भैरव प्रसाद (60) की गुरुवार की देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई। भैरव प्रसाद के परिवार के लिए यह पहला झटका नहीं है। चार साल पहले 12 अप्रैल 2015 को भैरव के बेटे सुधीर सोनी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस समय भी अपराधियों ने लूटपाट की कोशिश की थी।

इधर, एक दिसंबर को हुई घटना के मामले में बरियातू पुलिस के हाथ अब तक खाली हैं। परिजनों के आरोप पर दुश्मनी रखने वाले शमीम खान व उससे जुड़े लोगों से पूछताछ के अलावा कोई उपलब्धि नहीं है। भैरव प्रसाद की मौत की सूचना मिलने पर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाया। इसके बाद परिजनों को शव सौंपा गया। परिजनों ने शव का अंतिम संस्कार करवाया।

परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

भैरव प्रसाद की मौत के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। पत्नी अस्पताल में रो-रोकर कह रही थी पहले बेटे को मार डाला, अब पति की भी जान ले ली। पूरा परिवार शमीम खान को ही आरोपित बता रहा था।

पुरानी रंजिश और लूटपाट के बिंदू पर जांच

घटना के बाद जेवर दुकानदार के परिजनों ने आरोप लगाया था कि इस हमले में शमीम खान की साजिश है। वह वर्षो से जमीन के विवाद में पीछे पड़ा हुआ है। भैरव प्रसाद के बेटे की हत्या में साजिशकर्ता के रूप में शमीम खान का नाम आया था। इस मामले में वह जेल भी जा चुका है। इससे पहले दिसंबर 2012 में भी सुधीर की किराना दुकान में आग लगा दी गई थी। इन आरोपों को ध्यान में रखकर पुलिस पुरानी रंजिश और लूटपाट की नियत से हमला के बिंदू पर जांच कर रही है।

ऐसे की थी लूटपाट की कोशिश

एक दिसंबर को शाम करीब 6:30 बजे एक अपराधी ग्राहक बनकर दुकान में घुसा। दुकान की शटर गिराई और दुकानदार को चाकू की नोक पर रखकर लूटपाट करने लगा। जेवर को एक बैग में भर रहा था। इसका विरोध करने पर हथौड़ा से मारकर बुजुर्ग दुकानदार को जख्मी कर दिया। फिर शरीर में चाकू भी गोदा था।

'पुरानी दुश्मनी और लूटपाट की नियत पर हमले के बिंदु पर जांच चल रही है। अपराधी की पहचान की कोशिश की जा रही है। जल्द ही अपराधी पकड़ा जाएगा।' -दीपक कुमार पांडेय, डीएसपी सदर रांची।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.