इस बार RSS का नहीं निकलेगा पथ संचलन, स्‍वयंसेवक सभी शाखाओं में मनाएंगे वर्ष प्रतिपदा का उत्सव

RSS Program on Indian New Year Day कार्यक्रम में सभी स्वयंसेवक अनिवार्य रूप से मास्क पहनकर आएंगे।

RSS Program on Indian New Year Day संघ के एक अधिकारी ने बताया कि कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से जारी दिशानिर्देश का स्वयंसेवक पूरी तरह से पालन करेंगे। कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी स्वयंसेवक अनिवार्य रूप से मास्क पहनकर आएंगे।

Sujeet Kumar SumanSat, 10 Apr 2021 03:51 PM (IST)

रांची, [संजय कुमार]। RSS Program on Indian New Year Day राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अपने छह प्रमुख उत्सवों में से एक भारतीय नववर्ष (वर्ष प्रतिपदा) का उत्सव इस बार सामूहिक रूप से नहीं करते हुए सभी शाखाओं पर मनाने का निर्णय लिया है। एक स्थान पर स्वयंसेवकों की संख्या भी कम रहेगी। साथ ही जहां पथ संचलन निकालने की योजना बनी थी, उसे भी स्थगित कर दिया गया है। ऐसा निर्णय कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण लिया गया है।

इस बार 13 अप्रैल को वर्ष प्रतिपदा का उत्सव मनाया जाएगा। वर्ष प्रतिपदा के दिन ही संघ संस्थापक डाॅ. केशव बलिराम हेडगेवार का जन्म हुआ था। उस दिन शाखा लगाने से पूर्व सभी स्वयंसेवक संघ संस्थापक को याद करते हुए आद्य सरसंघचालक प्रणाम करते हैं। इस बार कार्यक्रम में समाज के लोगों को भी आमंत्रित नहीं किया जाएगा। कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी स्वयंसेवक अनिवार्य रूप से मास्क पहनकर आएंगे और कार्यक्रम स्थल पर सैनिटाइजर का उपयोग करेंगे।

दो गज की दूरी बनाकर शाखा में खड़े होंगे। संघ के एक अधिकारी के अनुसार कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सरकार की ओर से जारी दिशानिर्देश का स्वयंसेवक पूरी तरह से पालन करेंगे। लाॅकडाउन के कारण पिछले वर्ष सभी स्वयंसेवकों ने अपने-अपने घरों में ही आद्य सरसंघचालक को प्रणाम किया था।

सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए संघ के अधिकारी करेंगे प्रवास

बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए संघ ने प्रचारकों व अधिकारियों को सुरक्षा मानकों का पूरी तरह पालन करते हुए प्रवास करने की सलाह दी है। भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचने और बड़े कार्यक्रम का आयोजन नहीं करने के लिए कहा गया है। समय-समय पर सरकार की ओर से जारी दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए कहा गया है।

प्रशिक्षण शिविर के लिए तत्कालीन परिस्थिति को देखते हुए लिए जाएंगे निर्णय

आरएसएस के एक अधिकारी के अनुसार अब तक अलग-अलग राज्यों में मई से लेकर जून तक संघ के प्रथम एवं द्वितीय वर्ष के लिए प्रशिक्षण शिविर लगाने की योजना बनी हुई है। इसकी तैयारी भी चल रही है, परंतु तत्कालीन निर्णय उस समय की परिस्थिति और सरकारी दिशानिर्देशों को ध्यान में रखते हुए लिए जाएंगे। पिछले वर्ष प्रशिक्षण शिविर को स्थगित कर दिया गया था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.