Sukanya Samriddhi Yojana: बच्चियों का भविष्य सुनिश्चित करने में रांची पहले स्थान पर

Sukanya Samriddhi Yojana बेटियों का भविष्य संवारने में राज्य में राजधानी रांची पहले स्थान पर है। राज्य के 6 लाख माता-पिता ने अपनी बेटियों के भविष्य में आने वाली अड़चनों को दूर कर उन्हें उड़ान देने के लिए डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाया है।

Kanchan SinghTue, 12 Oct 2021 12:00 PM (IST)
बेटियों का भविष्य संवारने में राज्य में राजधानी रांची पहले स्थान पर है।

रांची {रघुवीर प्रसाद} । बेटियों का भविष्य संवारने में राज्य में राजधानी रांची पहले स्थान पर है। राज्य के 6 लाख माता-पिता ने अपनी बेटियों के भविष्य में आने वाली अड़चनों को दूर कर उन्हें उड़ान देने के लिए डाकघरों में सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलवाया है। इस योजना के तहत राजधानी रांची में खाता खोलवाने वालों की संख्या सर्वाधिक है। डाकघर के मुताबिक जिले में कुल एक लाख से अधिक बच्चियों के खाते खोले गए हैं। दूसरे स्थान पर हजारीबाग जिला है जहां 90 हजार से अधिक खाता खोले गए हैं।

डाकघरों के अतिरिक्त बैंकों में भी बड़ी संख्या में सुकन्या समृद्धि के तहत खाते खुलवाए गए हैं। दरअसल, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार के द्वारा वर्ष 2014 में छोटी बचत को प्रोत्साहन देने के लिए बालिकाओं के लिए विशेष जमा योजना सुकन्या समृद्धि खाता की शुरुआत की गई थी। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा संचालित सुकन्या समृद्धि खाता किसी भी डाकघर या बैंक शाखा में खुलवाया जा सकता है। जिसका मुख्य उद्देश्य बेटियों को पढ़ाने और उनकी शादी में आने वाली आर्थिक दिक्कतों को दूर करना है।

बेटियों का भविष्य हो रहा उज्जवल

राजधानी रांची में 109026 से अधिक माता-पिता ने अपनी बच्चियों के भविष्य को उज्जवल करने के लिए इस योजना का लाभ उठाया है। वहीं राज्यभर में 641846 माता-पिता ने इस योजना के माध्यम से उनके भविष्य को सुरक्षित करने के लिए खाता खुलवाया है। डाक विभाग के अनुसार, कोरोना महामारी के दौरान विगत वर्ष 2020-21 में प्रदेश के 38 हजार से अधिक माता-पिता ने जहां अपनी बेटियों के भविष्य के लिए इस योजना का लाभ उठाया है। वहीं रांची की 5335 बेटियां इस योजना से जोड़ी गईं। इस वर्ष अप्रैल से अगस्त माह में पूरे प्रदेश में 11 हजार बच्चियों का खाता खोला गया, जिनमें राजधानी रांची में 1189 खाते खुलवाए गए हैं।

ग्रामीणों को बैंकिंग सेक्टर से जोड़ने को चलाया जाएगा अभियान

डोरंडा स्थित पोस्ट ऑफिस के पोस्टमास्टर जनरल (पीएमजी) संजीव रंजन ने संपूर्ण डाक परिसेवाग्राम नाम से अभियान शुरू किया है। इसके तहत गांव के लोगों का खाता खुलवाना और बच्चियों को सरकारी योजना का लाभ दिलवाया जाएगा। कैंपेन की शुरुआत इसी महीने से की गई है। जिसके लिए हर उप-प्रमंडल से उनके क्षेत्र में आने वाले गांव, जिसमें न्यूनतम 100 घर हो, वैसे ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को बैंकिंग सेक्टर से जोडऩे के लिए यह अभियान चलाया जाएगा।

योजना से तहत तीन तरह से ग्रामीणों को मिलेगा लाभ

संपूर्ण डाक परिसेवाग्राम अभियान के तहत ग्रामीणों को बैंकिंग सेक्टर से जोडऩे और सरकारी योजनाओं का लाभ दिलवाने के लिए सर्वप्रथम ग्रामीणों के घर के एक व्यक्ति का सेविंग अकाउंट खुलवाया जाएगा। 10 वर्ष तक की बच्चियों को सरकार द्वारा संचालित सुकन्या समृद्धि योजना से जोड़ा जाएगा ताकि उनके पढ़ाई और शादी में होने वाली खर्च से निश्चिंत हो सके।

इस अभियान की ये है प्रक्रिया

संजीव रंजन ने बताया कि उप-प्रमंडल से उनके क्षेत्र में आने वाले ऐसे गांव जहां कम से कम 100 घर हों, वैसे ग्रामीण क्षेत्र की रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट आने के बाद अगले महीने नवंबर के पहले हफ्ते से लोगों को खाता, बीमा और सुकन्या समृद्धि योजना के प्रति जागरूक कर जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि मेल डिलीवरी के लिए सारे रूट्स को फिर से अपडेट किया जा रहा है। यह मेल पोस्टमैन मोबाइल एप के जरिए से बांटा जाएगा। मेल बांटने के लिए पोस्टमैन भी काफी सतर्क हैं।

पोस्टमास्टर जनरल ने कहा कि लोगों को उनकी मेल उसी दिन उनके पास पहुंचाया जा सके, इसके लिए हम पूरा प्रयास कर रहे हैं। साथ ही लोग भी एप्लीकेशन के माध्यम से ट्रैक कर अपनी का जानकारी ले सकेंगे। वहीं, लेटर बॉक्स के अंदर बारकोड लगा हुआ है। जिससे पोस्टमैन द्वारा लेटर बॉक्स को खोलने पर वहां बार कोड को स्कैन करना होगा। जिससे उस टेलर बॉक्स और पोस्टमैन की टाइम, अक्षांश, देशांतर के माध्यम से लोकेशन ट्रैक किया जा सकेगा। पोस्टमैन के द्वारा लेटर को गीन कर उसकी संख्या को मोबाइल के माध्यम से फीड करना होगा। इस आधार पर पूरे प्रोसेस को निगरानी की जाएगी। ताकि कम समय में लोगो तक उनका खत पहुंचाया जा सके।

मैं लोागें से अनुरोध करता हूं कि 10 वर्ष से कम आयु की बेटी को सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता जरूर खोलवाएं और उनका भविष्य सुनिश्चित करें। खाता में जमा रुपया अध्ययन और विवाह में होने वाले खर्च में काम आएगा। सभी माता-पिता जिनकी बेटियां हैं वे डाक विभाग के द्वारा खाता खोलवाएं।

- संजीव रंजन, पोस्टमास्टर जनरल, रांची

इन प्रधान डाकघरों में सुकन्या समृद्धि के तहत खोले गए खाते

डाकघर वर्ष 2020-21 अप्रेल-अगस्त 2021 अब तक कुल

रांची 3077 624 53810

डोरंडा 2258 565 55216

हजारीबाग 6056 2177 90124

दुमका 9733 479 83404

गुमला 1339 437 63499

पलामू 4111 1053 59424

गिरिडीह 1729 548 49377

रामगढ़ 1256 468 41561

जमशेदपुर 2820 3110 38184

धनबाद 2124 547 34816

देवघर 2108 369 29408

चाईबासा 1050 205 19359

बोकारो स्टील 980 306 23664

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.