रांची पुलिस और स्मार्ट सिटी की कंट्रोल रूम होगी मर्ज, एक साथ तीसरी आंख से होगी निगहबानी

रांची लगातार हाइटेक सिटी की राह पर है। अब रांची पुलिस की स्मार्ट सिस्टम स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के साथ मर्ज होकर काम करेगी। सीसीटीवी कैमरे (तीसरी आंख) डायल 100 डायल 112 सहित सभी यूनिफाइड सिस्टम स्मार्ट सिटी और कंट्रोल रूम के साथ एक ही प्लैटफॉर्म में काम करेगी।

Vikram GiriSat, 19 Jun 2021 09:50 AM (IST)
रांची पुलिस और स्मार्ट सिटी की कंट्रोल रूम होगी मर्ज। जागरण

रांची, जासं। रांची लगातार हाइटेक सिटी की राह पर है। अब रांची पुलिस की स्मार्ट सिस्टम, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के साथ मर्ज होकर काम करेगी। सीसीटीवी कैमरे (तीसरी आंख), डायल 100, डायल 112 सहित सभी यूनिफाइड सिस्टम स्मार्ट सिटी और कंट्रोल रूम के साथ एक ही प्लैटफॉर्म में काम करेगी। इसके लिए स्मार्ट सिटी प्रोजक्ट स्थित कंट्रोल रूम और पहले से काम कर रही कचहरी चौक स्थित कंपोजिट कंट्रोल रूम को मर्ज किया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

पूरी राजधानी को सीसीटीवी कैमरे के जद में लाने के लिए काम भी शुरू कर दिया गया है। इस काम के लिए जो जरूरी उपकरण चाहिए उसके आकलन के लिए शुक्रवार को रांची के एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा, सिटी एसपी सौरभ, ट्रैफिक एसपी अंजनी अंजन के साथ कई पुलिस अधिकारियों ने स्मार्ट सिटी स्थित कंट्रोल रूम और कचहरी स्थित कंट्रोल रूम का मुआयना किया। इसके अलावा बैठक कर प्लान भी तैयार किया गया। एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने बताया कि फिलहाल शहर के अधिकतर इलाके कैमरे की जद में है। इन कैमरों की मॉनिटरिंग दो जगहों से हो रही थी। एक कंट्रोल रूम कचहरी चौक स्थित सीसीआर से, जबकि दूसरा स्मार्ट सिटी धुर्वा में। ऐसे में अब यह प्रयास शुरू किया गया है कि दोनों कंट्रोल रूम को एक साथ मर्ज कर दिया जाए ताकि पीसीआर टेट्रा से लेकर पुलिस के सभी विंगो की मॉनिटरिंग की जा सके।

सभी चौक चौराहों पर लगेगी लाउडस्पीकर

इस बार सीसीटीवी परियोजना में रांची के बाहरी इलाकों को भी शामिल किया गया है। शहर के बाहर आने जाने वाले हर प्रमुख चौक चौराहों पर एचडी कैमरे लगाए जा रहे हैं ताकि हर आने जाने वाले लोगों पर नजर रखी जा सके। रांची के धुर्वा स्थित स्मार्ट सिटी में आधुनिक कंट्रोल रूम और राजधानी रांची का कमांड सेंटर तैयार कर लिया गया है। रांची शहर के विभिन्न चौक-चौराहों को इससे जोड़ा गया है। इसके लिए शहर में कई तरह के आधुनिक कैमरे लगाए गए हैं। अधिकारी इस कमांड सेंटर में बैठकर पूरे शहर के चप्पे-चप्पे पर निगाह रख सकते। रांची के ट्रैफिक सिस्टम को भी इसी कमांड सेंटर से नियंत्रित करने की योजना है। यहां आधुनिक ट्रैफिक सिस्टम लगाया गया है, जो स्वचालित होगा। यानी जिस तरफ वाहनों की भीड़ ज्यादा होगी, उसे आवाजाही का ज्यादा समय मिलेगा। शहर में लाडस्पीकर की भी व्यवस्था की गई है। इनसे कंट्रोल रूम से पूरे शहर में कोई भी संदेश एक साथ दिया जा सकता है।

170 जगहों पर लगे हैं कैमरे

पूर्व से रांची के 50 लोकेशन पर आरएलवीडी, 50 लोकेशन पर एएनपीआर, 40 जंक्शन पर एटीसीएस, 10 लोकेशन पर एसवीडी कैमरे और क्राइम कंट्रोल के लिए 64 सीसीटीवी पहले से ही लगाये जा चुके हैं। जो सिटी सर्विलांस सिस्टम के तहत काम करता है। दरअसल सिटी सर्विलांस सिस्टम शहरी क्षेत्र में एक तरह से कैमरे का जाल है, जो कंट्रोल रूम से जुड़ा होता है। ऐसे कैमरे शहर के सभी प्रमुख चौक-चौराहों पर लगे होते हैं। जैसे रांची में 170 स्थानों पर यह सिस्टम लगा है। इनमें हाई रिजोल्यूशन कैमरे भी होते हैं, जिससे गाड़ियों के नंबर प्लेट को पढ़ा जाता है। उस चौक से गुजरने वाले अपराधी भी कैमरे में कैद होते हैं। इस कैमरे की मदद से वाहन चोर सहित अन्य घटनाओं में शामिल अपराधी भी पूर्व में पकड़े जा चुके हैं। ऐसे में जब दोनों कंट्रोल रूम एक दूसरे से लिंक हो जाएंगे तो पूरा शहर पुलिस की निगरानी में होगा।

पुलिस की वाहनों में लगाए जा रहे जीपीएस

एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने बताया कि पुलिस के सभी वाहनों पर जीपीएस लगाया जा रहा है, खासकर प्रथम चरण में पीसीआर और टाइगर जवानों के वाहनों में जीपीएस लगाया जा रहा है ,ताकि उनकी मॉनिटरिंग हो सके और यह भी जानकारी मिल सके कि वे बेहतर तरीके से काम कर रहे हैं या नहीं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.