कोरोना से बचने को रोजेदारों के लिए खास टिप्‍स, इफ्तार में खाएं सेब व चुकंदर; ग्रीन टी सबसे ज्यादा मुफीद

Jharkhand News, Iftar Party in Ramzan रोजेदारों को दूध की चाय की जगह ग्रीन टी लेना चाहिए।

Jharkhand News Iftar Party in Ramzan रोजेदारों को दूध की चाय की जगह ग्रीन टी लेना चाहिए। डिनर में टमाटर का सलाद फेफड़ों के लिए ताकतवर साबित हो सकता है। टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है। यह फेफड़ों को ताकत देता है।

Sujeet Kumar SumanFri, 23 Apr 2021 04:15 PM (IST)

रांची, जासं। कोरोना महामारी के दौर में रोजा रखना काफी चुनौती भरा काम है। इस रमजान के महीने में जो लोग रोजा रख रहे हैं, उन्हें अपने खानपान का खूब ख्याल रखना चाहिए। डॉक्टर इमरान बताते हैं कि खानपान ऐसा हो जिससे फेफड़ों को मजबूती मिले। वह कहते हैं कि विटामिन सी फेफड़ों की कार्य क्षमता को बढ़ाता है और उन्हें मजबूत बनाता है। सेब में विटामिन सी सबसे ज्यादा पाया जाता है। यह एंटीऑक्सीडेंट के रूप में भी काम करते हैं। इसी तरह चुकंदर में नाइट्रेट होता है। यह ब्लड प्रेशर को नियंत्रित कर फेफड़ों को आराम देता है।

इसलिए रमजान में इफ्तार के समय सेब और चुकंदर का इस्तेमाल काफी फायदेमंद है। इफ्तार के समय ग्रीन टी भी काफी मुफीद है। ग्रीन टी से भी फेफड़े स्वस्थ रहते हैं। डिनर में टमाटर का सलाद फेफड़ों के लिए ताकतवर साबित हो सकता है। टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है, जो फेफड़ों को ताकत देता है। कोरोनावायरस इंसान की श्वसन प्रणाली को ही प्रभावित करता है। इसलिए रमजान में दिन भर भूखा प्यासा रहने वाले इंसान को इफ्तार, डिनर और सहरी में ऐसी चीजें लेनी चाहिए, जो फेफड़ों को मजबूत बनाएं।

स्मोकिंग से बचें रोजेदार

डॉक्टर इमरान बताते हैं कि इन दिनों रोजा रखने वाले लोग दिन भर तो स्मोकिंग नहीं करते। लेकिन इफ्तार के बाद फौरन बीड़ी-सिगरेट ढूंढते हैं। ऐसे लोगों को अपने नशे की आदत पर काबू करना चाहिए। धूम्रपान फेफड़े को काफी नुकसान पहुंचाता है। अगर आप रोज एक सिगरेट भी पी रहे हैं तो यह हजारों केमिकल, निकोटीन और अन्य नुकसानदेह वायरस को आपके फेफड़े तक पहुंचा रहा है। इससे फेफड़े कमजोर हो जाते हैं। इसलिए कोरोना महामारी के दौर में रोजेदारों को धूम्रपान से पूरी तरह दूर रहना चाहिए।

प्रदूषण वाले स्थलों पर ना जाएं

रोजेदारों को प्रदूषण वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए। बाहर तभी निकलें, जब बहुत ज्यादा जरूरी हो। वैसे भी अभी स्वास्‍थ्‍य सुरक्षा सप्ताह चल रहा है। इसलिए बाहर नहीं निकलें। धूल और धुआं वाले इलाके में बाहर निकलने से फेफड़े प्रभावित होते हैं।

हंसना फेफड़ों को मजबूत बनाने के लिए आसान कसरत

हंसना एक आसान कसरत है। यह आपके दिल, फेफड़े और श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है। डॉक्टर इमरान बताते हैं कि जब कोई हंसता है तो उसका डायाफ्राम, छाती और पेट की मांसपेशियां तक जाती हैं। इससे शरीर से हवा को बाहर निकालने और ताजी हवा को फेफड़ों में गहराई तक ले जाने के लिए मशक्कत करनी पड़ती है। इससे शरीर को अधिक ऑक्सीजन मिलता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.