top menutop menutop menu

Ram Mandir News: हृदय में श्रीराम, मन हुआ अयोध्या; मंदिर के भूमिपूजन को ले उल्लास में डूबा झारखंड

Ram Mandir News: हृदय में श्रीराम, मन हुआ अयोध्या; मंदिर के भूमिपूजन को ले उल्लास में डूबा झारखंड
Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 11:00 AM (IST) Author: Sujeet Kumar Suman

रांची, राज्य ब्यूरो। अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण को लेकर हो रहे भूमिपूजन के लिए झारखंड में भी आस्था हिलोरे ले रही है। कई दिन पहले से ही इसकी व्यापक तैयारियां चल रही हैं। भूमिपूजन के लिए जहां विहिप की अगुआई में झारखंड के प्रमुख धार्मिक स्थलों और सरनास्थलों की मिट्टी से लेकर पवित्र नदियों का जल अयोध्या भेजा गया है, वहीं बुधवार 5 अगस्त को जगह-जगह भजन-पूजन व अनुष्ठान की तैयारियां की गई हैं।

रामलला के मंदिर निर्माण का सदियों पुराना सपना साकार होने की खुशी यहां हर रामभक्त की आंखों में देखी जा सकती है। मंदिर आंदोलन के वक्त कारसेवा से लेकर लोगों तक राम का संदेश पहुंचाने तक में झारखंड के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था। आज वे पुरानी यादें भी ताजा कर रहे हैं। राजधानी रांची से लेकर गुमला, सिमडेगा, लोहरदगा, धनबाद, चाईबासा, खूंटी, रामगढ़, हजारीबाग और अन्य जिलों में साधु-संतों, पुजारियों और हिंदू संगठनों ने भूमि पूजन के दिन को खास तरीके से आयोजित करने के लिए व्यापक तैयारियां की हैं।

मिठाई से लेकर ध्वजा और पूजा व सजावट के सामान की अग्रिम बुकिंग कर दी गई है। इस मौके पर घर-घर दीप जलाने के तैयारी है। रांची, सिमडेगा, साहिबगंज और देवघर समेत राज्य के विभिन्न हिस्सों में इस मौके पर दीप जलाकर दीपावली मनाने की भी तैयारियां की गई हैं। उल्लास और आनंद के इस माहौल को देखकर साफ महसूस किया जा सकता है कि राम सबके दिल में बसे हैं। रोम-रोम में बसे हैं। रांची के चर्च रोड की रामरती देवी और धुर्वा के प्रसादी सिंह के लिए यह जीवन के सबसे बड़े सपने के साकार होने जैसी अनुभूति है।

धनबाद के श्रीनारायण और बोकारो की श्वेता भी आनंद में हैं। अगर कोरोना संकट और लॉकडाउन की स्थिति न होती तो बड़ी संख्या में झारखंड से भी लोग अयोध्या गए होते। अभी इनके मनोभावों के बारे में पूछने पर बस यही कहते हैं कि हम सब मन से अयोध्या में ही हैं। यहीं से पूजा कर इस अनुष्ठान में अपनी भावनाएं भगवान राम तक पहुंचाएंगे। झारखंड की धरती भगवान राम के वनवास काल में उनकी सहचर रही है। इस कारण यहां से उनका सीधा जुड़ाव है।

अयोध्या पर दिनभर टिकी रही नजरें

मंगलवार को सुबह से ही न्यूज चैनलों ने अयोध्या से लाइव प्रसारण किया तो लोग आनंद से झूम उठे। लोग दिन भर टीवी से चिपके रहे। वहां हो रही हर घर में भजन और रामकथा से लेकर सोहर के स्वर सुनाई दे रहे थे। कहीं से श्रीरामचंद्र कृपालु भज मन... जैसी स्तुति और आरती की ध्वनि सुनाई दे रही थी, तो कहीं ठुमक चलत रामचंद्र.... के साथ लोगों की भावनाएं श्रद्धा, भक्ति और वात्सल्य के मिश्रित भावों के साथ आनंद के हिलोरे ले रही थी। सोशल मीडिया में यही हाल था।

श्रीराम और अयोध्या आज सबसे ज्यादा सर्च किये जाने वाले सब्जैक्ट रहे। स्वाभाविक तौर पर हर ओर श्रद्धा की अविरल धारा बह रही है। बुधवार को इसकी पराकाष्ठा देखी जाएगी। गुमला के आंजन धाम के पंडित केदार पांडेय बताते हैं कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होने की खुशी शब्दों में बयां नहीं की जा सकती। पूर्वजों ने सदियों इसके लिए संघर्ष किया है। गुमला के आंजन धाम में इस मौके पर पूरे मंदिर परिसर में रोशनी के साथ विशेष पूजा की जाएगी। युवा रोहित साय और बीरेंद्र साय कहते हैं कि भूमिपूजन के मौके पर हमलोग दीपावली मनाने की तैयारी में जुटे हैं।

वहीं पालकोट के रणविजय बताते हैं कि यह सौभाग्य की बात है, बुधवार का दिन ऐतिहासिक है। उधर सिमडेगा के श्रीरामरेखा धाम में भी आनंद का माहौल है। बुधवार को सिमडेगा का श्रीरामरेखाधाम दीपों की रोशनी से जगमग होगा। यहां 1008 दीये जलाए जाएंगे। संरक्षक सह बीरू रियासत के युवराज कौशल राज सिंह देव ने  बताया कि इसके लिए सभी स्तर पर तैयारी की जा रही है। विहिप जिलाध्यक्ष की जिम्मेवारी संभालने वाले कौशल राज सिंह देव ने कहा कि जीवन धन्य हो गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.