शहीदों के सपनों को मिलकर करेंगे पूरा : एसपी

जागरण न्यूज नेटवर्क, लोहरदगा : पुलिस संस्मरण दिवस के मौके पर सोमवार को शहीद पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। जिला पुलिस द्वारा बक्शीडीपा स्थित पुलिस लाइन में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें शहीदों के चित्र पर माल्यार्पण कर शहीदों के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया गया। पुलिस लाइन में एसपी प्रियदर्शी आलोक, एएसपी पुरुषोत्तम, एसडीपीओ जितेंद्र कुमार सिंह, डीएसपी परमेश्वर प्रसाद, इंस्पेक्टर शारदा रंजन, सुरेश ओझा, सेन्हा थाना के अवर निरीक्षक धनंजय कुमार, क्राइम रीडर अरुण कुमार भगत, रनेश तिवारी, कामदेव पासवान, मनोज कुमार सहित अन्य पुलिस अधिकारियों और जवानों ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उग्रवादी व अपराधिक घटनाओं में देश भर में शहीद जवानों को वर्ष 1960 से स्मरण दिवस के रूप में याद किया जाता रहा है। इसमें इस वर्ष शहीद हुए जवानों के अलावे झारखंड के पूर्व के वर्षों में शहीद हुए जवानों को भी श्रद्धांजलि दी गई। पुलिस लाइन में आयोजित कार्यक्रम में सबसे पहले शहीद जवानों को शोक सलामी दी गई। इसके उपरांत शहीदों के चित्र पर माल्यार्पण कर पुलिस जवानों व अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी। साथ ही शहीद के परिजनों को सम्मानित किया गया।

पुलिस अधीक्षक प्रियदर्शी आलोक ने कहा कि शहीदों के सपनों को मिलकर पूरा करना है। शहीदों ने हमारी सुरक्षा, शांति और देश की अखंडता को लेकर अपनी प्राणों की आहुति दे दी। जरूरी है कि हम शहीदों के कुर्बानी को याद करें। उन्होंने कहा कि जिले में केकरांग एवं धरधरिया में उग्रवादियों से लोहा लेते हुए जिला बल और सीआरपीएफ के जवान शहीद हुए थे। इन शहीदों की कुर्बानी ने जवानों को जंग लड़ने के लिए हौसला दिया। इन वीर शहीदों को हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिना किसी स्वार्थ के देश की सेवा में अपने प्राण गंवाने वाले शहीद हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे। शहीदों की कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी।

हवलदार गोपीचंद महतो, आरक्षी हरखनाथ महतो, हवलदार चंद्रशेखर सिंह, आरक्षी प्रमोद कुमार राय, दिनेश महतो, लालचीक बड़ाईक, राजेश कच्छप के अलावा हवलदार गणेश उरांव ने लोहा लेते हुए अपनी जान दे दी। हमें मिलकर शहीद के सपनों को पूरा करते हुए अपराध-उग्रवाद मुक्त समाज का निर्माण करना है।एसपी ने कहा कि शहीदों को पूरा सम्मान मिलना चाहिए। उन्होंने देश व समाज की खातिर अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया। हमें उनकी कमी हमेशा खलेगी। शहीद के परिजन सम्मान के पात्र हैं। उन्होंने हमारे लिए अपना बेटा खो दिया। हमें उनका सम्मान करना चाहिए। एसपी ने कहा कि नक्सलवाद झारखंड ही नहीं बल्कि देश के लिए एक बड़ी समस्या बनी हुई है। जिसे समाप्त करने के लिए पुलिस के समक्ष एक बड़ी चुनौती है। उग्रवाद के समाप्त करने के लिए पुलिस कर्मियों को आत्म विश्वास के साथ-साथ उपलब्ध संसाधनों का सही उपयोग करना होगा। संयम और सतर्कता के साथ अपराध व उग्रवाद का मुकाबला करने से ही सफलता मिलेगी।

संस्मरण दिवस के मौके पर एसपी ने शहीद जवान हरकनाथ महतो की पत्नी रेशमा देवी को शॉल देकर सम्मानित किया। साथ हीं शहीद पुलिस कर्मियों को बारी-बारी से श्रद्धांजलि दी।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.