दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

रांची के सब्‍जी बाजार में कोरोना नियमों की उड़ी धज्जियां, खरीदारी के लिए उमड़ी भीड़

E Pass Jharkhand, COVID 19 Rules जेल चौक पर बिना ई-पास वाले 16 वाहनों से जुर्माना वसूला गया।

E Pass Jharkhand COVID 19 Rules झारखंड में लॉकडाउन के दौरान सख्ती में कुछ सुस्ती दिख रही है। रांची के नागा बाबा खटाल सब्जी बाजार में कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ी। जेल चौक पर बिना ई-पास वाले 16 वाहनों से जुर्माना वसूला गया।

Sujeet Kumar SumanTue, 18 May 2021 05:01 PM (IST)

रांची, जासं। झारखंड सरकार राज्य में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की चेन तोड़ने का भरसक प्रयास कर रही है। लिहाजा पिछले माह से जारी स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की अवधि बढ़ाने के साथ ही पाबंदियां भी बढ़ा दी है। लॉकडाउन की सख्ती विगत 16 मई से शुरू हो गई है, जो फिलहाल 27 मई तक लागू रहेगी। इधर रविवार से जारी लॉकडाउन के दौरान जहां पुलिस प्रशासन की ओर से दो दिनों तक काफी सख्ती बरती गई, वहीं मंगलवार को कुछ स्थानों पर सख्ती के साथ कुछ सुस्ती भी देखी गई।

राजधानी रांची में मंगलवार की सुबह से दोपहर 2 बजे तक विभिन्न चौक-चौराहों एवं बाजारों में लोगों के साथ-साथ वाहनों की काफी भीड़ देखी गई। ई-पास आसानी से बन जाने के कारण अधिकांश लोग अपने वाहनों पर पास की प्रतियां चस्पा कर धड़ल्ले से घूमते नजर आए। यहां तक कि सब्जी लेने के लिए भी लोग पास लेकर बाजारों में पहुंचे। शहर के कोकर, कांटाटोली, रातू रोड, नागा बाबा खटाल स्थित सब्जी बाजारों में नियमों की अवहेलना कर खरीदारी के लिए लोगों की भीड़ उमड़ती दिखाई दी।

भारी संख्या में ई-पास बन जाने के कारण सुबह लालपुर, रातू रोड, कांटाटोली सहित शहर के कई स्थानों पर लाॅकडाउन के समय भी विकट जाम की समस्या उत्‍पन्न हो गई। इसे नियंत्रण में लाने के लिए ट्रैफिक पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। अधिकांश वाहन चालकों के पास ई-पास होने के कारण पुलिस भी नियमों से बंधी रही। लिहाजा लोग धड़ल्ले से आवाजाही करते रहे। इनमें से कुछ लोग ऐसे भी रहे, जिन्होंने ई पास का दुरुपयोग किया और बेवजह इधर से उधर घूमते रहे।

ऐसे लोग कोरोना ड्यूटी में तैनात पुलिस अधिकारी व कर्मियों के लिए मुसीबत बने हुए थे, क्योंकि ई-पास होने के कारण ऐसे लोग लॉकडाउन के नियमों का पूरी तरह से पालन नहीं कर रहे थे। इधर दोपहर 1:30 बजे भी नागा बाबा खटाल स्थित सब्जी बाजार का नजारा देखने लायक था। बाजार में सब्जी खरीदने के लिए लोगों की काफी भीड़ रही। आश्चर्य की बात तो यह रही कि कुछ पुलिसकर्मी भी उसी भीड़ में अन्य लोगों के साथ सब्जी खरीदने में मशगूल दिखे।

कुछ दुकानदार मास्क को अपने मुंह से हटाकर ठोढ़ी पर लगा रखे थे। दैनिक जागरण के इस प्रतिनिधि ने जब उनकी तस्वीर लेनी चाही, तो वे जल्दी से मुंह पर मास्क चढ़ाते दिखे। वहीं बाजार के सामने सैकड़ों की संख्या में दोपहिया एवं चार पहिया वाहन खड़े थे। अग्रसेन चौक में भी लोग धड़ल्ले से वाहन लेकर आवागमन करते रहे। दोपहर 2 बजे सरकार द्वारा तय समय सीमा समाप्त हो जाने के बावजूद कोकर इलाके में सब्जी की कई दुकानें खुली रहीं, जहां लोग सब्जियों की खरीदारी करते रहे। पीसीआर वैन पहुंचने पर दुकानदार अपनी-अपनी दुकानों को बंद करने लगे।

पुलिसकर्मियों ने पूरे बाजार में घूम कर सब्जी एवं अन्य दुकानों को बंद कराने के साथ ही वहां माैजूद लोगों को जल्द से जल्द अपने घर जाने के लिए कहा। इससे पहले दोपहर लगभग 1:45 बजे जेल चौक के पास तैनात पुलिसकर्मी वाहनों की जांच करते नजर आए। इस दौरान जिनके पास ई-पास था, उन्हें आगे जाने दिया और जो बिना पास के घूम रहे थे, उनसे जुर्माना वसूला गया। उस वक्त तक जेल चौक पर तैनात पुलिसकर्मियों ने बिना ई-पास के जा रहे 16 वाहनों से जुर्माना वसूला। इधर शहर के कई स्थानों पर जहां-जहां पुलिसकर्मियों की तैनाती वाहन जांच के लिए की गई थी।

वहां जिनके पास ई-पास की प्रतियां थी, पुलिस उन्हें पास देखकर ही छोड़ दे रही थी। उन लोगों ने किस कारणवश ई-पास बनवाया है, यह वजह जाने बिना, उन्हें आगे जाने के लिए छोड़ा जा रहा था। पूछने पर कुछ पुलिसकर्मियों ने कहा कि जब उनके पास सरकारी नियमानुसार ई-पास है, जो ज्यादा पूछताछ की जरूरत ही नहीं है। इस दौरान पुलिसकर्मी लोगों से अपील भी करते रहे कि सभी लॉकडाउन के नियमों का सख्ती से पालन करें और बिना वजह घरों से बाहर न निकले, क्योंकि ई-पास कोरोनाकाल में जारी लॉकडाउन के दौरान आपातकाल में आवागमन के लिए ही जारी किया गया है। लिहाजा इसका उपयोग बेहद जरूरी होने पर ही किया जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.