Tokyo Olympics में ब्रांज के लिए आज ब्रिटेन से भिड़ेगी भारतीय महिला हॉकी टीम, झारखंड की बेटियों पर रहेंगी निगाहें

टोक्यो ओलिंपिक में अर्जेंटीना से हार के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम के गोल्ड जीतने का सपना अधूरा रह गया। लेकिन टीम का अब भी मेडल जीतने की उम्मीदें बरकरार है। आज भारतीय महिला हॉकी टीम ब्रांज मेडल के लिए ग्रेट ब्रिटेन की टीम के साथ भिड़ेगी।

Vikram GiriWed, 04 Aug 2021 01:28 PM (IST)
Tokyo Olympics में भारतीय महिला हॉकी टीम की जीत के लिए रांची के मंदिरों में पूजा-अर्चना। जागरण

खूंटी, जासं । जापान के टोक्यो में चल रहे ओलिंपिक खेलों में अर्जेंटीना से हार के बाद भारतीय महिला हॉकी टीम के गोल्ड जीतने का सपना अधूरा रह गया। लेकिन टीम का अब भी मेडल जीतने की उम्मीदें बरकरार है। आज भारतीय महिला हॉकी टीम ब्रांज मेडल के लिए ग्रेट ब्रिटेन की टीम के साथ भिड़ेगी। बता दें कि इससे पहले बुधवार को भारतीय महिला हॉकी टीम अपने सेमीफाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना के साथ 2-1 से हार गई। जिसके बाद भारत के साथ-साथ झारखंड के खेलप्रेमियों में निराशा छा गई। लेकिन एक बार फिर मैच में झारखंड की दो बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे जीत के लिए जोर लगाएंगी।

सेमीफाइनल मैच में भरतीय महिला टीम बेहतर प्रदर्शन करते हुए विजयी रहे इसके लिए चारों ओर प्रार्थना व कामना की जा रही है। टीम में शामिल खूंटी की बेटी निक्की प्रधान के लिए भी विशेष प्रार्थना की जा रही है। टीम में पड़ोसी सिमडेगा जिले की बेटी सलीमा टेटे भी शामिल है। राज्य की दोनों बेटियां बुधवार को सेमीफाइनल मैच में बेहतर प्रदर्शन करते हुए टीम को विजयी बनाए इसके लिए कामना की जा रही है। मैच में भारतीय महिला हॉकी टीम का पताका पूरे विश्व में लहराएं इसके लिए खूंटी का हर एक व्यक्ति अपने आराध्य से प्रार्थना कर रहा है।

सात साल से विरोधी टीमों के लिए दीवार बनी निक्की

झारखंड की दो बेटियां अपनी टीम की ओर से विरोधी टीम के लिए दीवार बनकर खड़ी रहती हैं। निक्की प्रधान भारतीय हॉकी टीम में पिछले सात साल से अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही है। बुधवार को अर्जेंटीना के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में भी विरोधी टीम की खिलाड़ियों के लिए राज्य की दोनों बेटियां दीवार बन कर खड़ी रहेंगी। खूंटी की रहने वाली निक्की प्रधान हॉकी के लिए महत्वपूर्ण माने जाने वाले मिडफील्ड की बेहतीन खिलाड़ी हैं। निक्की से पार पाना अर्जेंटीना के खिलाड़ियों के लिए आसान नहीं होगा।

अगर निक्की प्रधान रूपी दीवार को भेदने में अर्जेंटीना के खिलाड़ी कामयाब हो भी जाएंगे तो आगे डिफेंडर सलीमा टेटे खड़ी रहेंगी, जिनसे गेंद को आगे निकाल पाना विपक्षी खिलाड़ी के लिए मुश्किल होगा। टोक्यो ओलंपिक में अबतक खेले गए छह मैचों में भारतीय टीम कि मिडफील्डर निक्की प्रधान और डिफेंडर सलीमा टेटे का प्रदर्शन बेहतर रहा है। इसलिए महिला हॉकी सेमीफाइनल में भी सबकी निगाहें झारखंड की दो बेटियां निक्की प्रधान और सलीमा टेटे पर है।

विश्व हिंदू परिषद ने की पूजा-अर्चना

टोक्यो ओलिंपिक में भारतीय महिला टीम फाइनल में विजयी होकर स्वदेश लौटे इसके लिए सभी कामना कर रहे हैं। विश्व हिंदू परिषद ने बुधवार को खेले जाने वाले सेमीफाइनल मैच के पहले हवन-पूजन कर महिला हॉकी टीम के विजयी होने की कामना की। शहर के पुरातन महादेव मंडा में बाबा भोलेनाथ का विशेष पूजा-अर्चना कर युवाओं ने भारतीय टीम के विजयी होने की कामना की। शिवलिंग पर जल अर्पण कर विहिप ने निक्की प्रधान और सिमडेगा की सलीमा टेटे के बहतर प्रदर्शन करने के साथ टीम को विजयी दिलाने के लिए प्रार्थना किया गया। मौके पर प्रियांक भगत, मुकेश जायसवाल, ओपी कश्यप समेत कई सदस्य मौजूद थे। सभी ने उम्मीद जताया कि भारतीय टीम विजयी होकर स्वदेश लौटेगी। विहिप ने खूंटी के अलावा मुरहू, अड़की, तमाड़ समेत अन्य स्थानों में पूजा अनुष्ठान का आयोजन किया।

चर्च में की गई प्रार्थना भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में फाइनल जीतकर स्वदेश लौटे इसके लिए खूंटी के ईसाई समाज की ओर से चर्च में विशेष प्रार्थना किया गया। चर्च में राज्य की दोनों बेटी निक्की प्रधान व सलीमा टेटे के लिए खूंटी में प्रार्थना की गई। इस संबंध में आरसी चर्च के फादर बिशु बेंजामिन आइंद ने बताया कि झारखंड की दोनों बेटियों ने अब तक बेहतरीन प्रदर्शन किया है। ओलंपिक में भारतीय महिला टीम विजयी पताका लहराए और देश का नाम बुलंद करे इसके लिए ईश्वर से प्रार्थना किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खूंटी जिले के हर एक लोगों का शुभकामना टीम इंडिया के साथ है।

प्रोजेक्टर पर मैच देखेंगे हेसल के लोग

ओलिंपियन निक्की प्रधान के गांव हेसल में लोग प्रोजेक्टर के माध्यम से महिला हॉकी का सेमीफाइनल मैच देखेंगे। बुधवार की सुबह खूंटी जिले के मुरहू प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी मिथिलेश कुमार सिंह और थाना प्रभारी विक्रांत कुमार हेसल पहुंचे और मैच देखने की तैयारी का जायजा लिया। मैच को लेकर ग्रामीणों के उत्साह को देखते हुए बीडीओ मिथिलेश कुमार सिंह ने प्रखंड कार्यालय से प्रोजेक्टर मंगाकर ग्रामीणों को मैच दिखाने की बात कही। उन्होंने कहा कि गांव में नेटवर्क की समस्या है।

इसलिए प्रोजेक्टर के माध्यम से मैच दिखाना सही रहेगा। निक्की प्रधान का घर छोटा है, सभी लोगों के एकसाथ बैठकर मैच देखने में दिक्कत होगी इसके लिए विकल्प तलाशे जा रहे हैं। किसी बड़े घर में मैच देखने के लिए स्थान की तलाश की जा रही है। गांव में स्कूल भी नहीं है कि लोग स्कूल के कमरे में बैठकर मैच देख सके। बारिश का दिन है बाहर खुले में भी मैच देखने में परेशानी हो सकती है। ऐसे में किसी मकान की तलाश की जा रही है जहां सभी एकसाथ बैठकर महिला हॉकी का सेमीफाइनल मैच देख सके। वहीं थाना प्रभारी विक्रांत कुमार भी गांव में मैच देखने की तैयारियों का जायजा लेने गांव पहुंचे। उन्होंने निक्की के पिता सोमा प्रधान और मां जीतनी देवी से मैच को लेकर बात की। उन्होंने कहा कि वे भी ग्रामीणों के साथ निक्की का मैच देखेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.