24 घंटे बाद भी रिम्स से फरार कुख्यात कैदी का सुराग नहीं, बड़े अस्पताल जाने की आशंका

रिम्स के मेडिसिन आइसीयू से फरार कुख्यात कैदी कृष्ण मोहन झा उर्फ अभय को चौबीस घंटे बाद भी पता नहीं चला।

JagranTue, 21 Sep 2021 08:43 AM (IST)
24 घंटे बाद भी रिम्स से फरार कुख्यात कैदी का सुराग नहीं, बड़े अस्पताल जाने की आशंका

जासं, रांची: रिम्स के मेडिसिन आइसीयू से फरार कुख्यात कैदी कृष्ण मोहन झा उर्फ अभय उर्फ धनंजय उर्फ काली झा का 24 घंटे के बाद भी सुराग नहीं मिल पाया है। बरियातू थाना पुलिस के साथ रांची पुलिस की तकनीकी सेल मोबाइल लोकेशन खंगालने में जुटी हुई है। लिवर, फेफड़े से संबंधित समस्याओं से जूझ रहा कृष्ण मोहन झा के किसी बड़े अस्पताल जाने की चर्चा है। सोमवार को पुलिस ने बिरसा मुंडा होटवार जेल के कैदियों से पूछताछ की।

कृष्ण मोहन झा जिस बैरक में रहता था, उसी बैरक के कैदियों ने बताया कि सजायाफ्ता कृष्ण मोहन झा की बीमारी बढ़ती जा रही थी। इससे वह काफी परेशान था। उसका कहना था कि जेल प्रशासन उसका ठीक से इलाज नहीं करवा रहा है। हर हाल में किसी बड़े अस्पताल में जाकर इलाज कराना है। ऐसे में संभावना जतायी जा रही है कि फरार कैदी सीएमसी वेल्लोर, नई दिल्ली के एम्स या फिर आसपास के राज्यों के बड़े अस्पताल में इलाज की जुगत में है। इधर, सोमवार को सुरक्षा में तैनात सिपाही नित्यानंद गोस्वामी के बयान पर बरियातू थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

बता दें कि 19 सितंबर की सुबह आजीवन कारावास की सजा भुगत रहा कृष्ण मोहन झा सुरक्षाकर्मियों को चकमा देते हुये रिम्स के आइसीयू से फरार हो गया। कृष्ण मोहन झा के खिलाफ रांची के सुखदेव नगर थाने में कारोबारी राजू मंडल की अपहरण के बाद हत्या के अलावा, लातेहार, बरवाडीह, गुमला और बिहार के मुजफ्फरपुर, पूसा थाने में अपहरण हत्या मारपीट से संबंधित कई मामले दर्ज हैं। कृष्ण मोहन झा पर नक्सलियों से संबंध होने की भी बात कही जा रही है। राज्य की सीमा पार करने की आशंका : पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि कृष्ण मोहन झा राज्य की सीमा पार कर गया है। उसकी गिरफ्तारी के लिए कोलकाता, ओडिशा, नई दिल्ली एम्स सहित आसपास के बड़े अस्पतालों पर गुप्तचर के जरिये नजर रखी जा रही है। जैसे ही कृष्ण मोहन झा अस्पताल पहुंचेगा, उसे पुलिस अभिरक्षा में ले लिया जायेगा।

निजी वाहन से भागा है कैदी, बंद आ रहा है मां का मोबाइल : आइसीयू वार्ड से निकलने के बाद कैदी निजी वाहन से भागा है। सीसीटीवी फुटेज में साफ तौर पर उसे भागते देखा गया है। उसके साथ देखभाल कर रही उसकी मां भी थी। उसके मां के पास मोबाइल था। हालांकि, मोबाइल बंद आ रहा है इस कारण तकनीकी सेल को मोबाइल लोकेशन मिलने में परेशानी हो रही है। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि उसके साथ कोई और स्वजन तो नहीं है।

ज्यादा दिन इलाज के बिना जीवित नहीं रह सकता कैदी : कैदी कृष्ण मोहन झा को क्रोनिक लिवर डिजीज, असाइटिस, पोर्टल वेन थ्रोम्बोसिस, ट्यूबरकुलोसिस, डायबिटिज, फेफड़ा सहित कई गंभीर समस्याएं थीं। रिम्स में उसका इलाज कर रहे एक चिकित्सक ने कहा कि जितनी समस्याएं हैं अगर दो-तीन में किसी अस्पताल में भर्ती नहीं हुआ तो जिदा रहना मुश्किल है। चिकित्सक के अनुसार उसके पेट में पानी भर जाता है। शनिवार की रात में पेट से चार बोतल पानी निकाला गया। इसके बाद ही वो चलने की स्थिति में हुआ था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.