मध्यप्रदेश पुलिस का झारखंड में छापा, रांची-जमशेदपुर और देवघर से चार साइबर अपराधी गिरफ्तार

Jharkhand News Ranchi Crime News बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश में एक बड़े साइबर फ्रॉड का मामला सामने आया था। उसी मामले में रांची कनेक्शन मिलने के बाद मध्य प्रदेश पुलिस रांची पहुंची है। इधर सरायकेला में भी पुलिस ने एक को पकड़ा है।

Sujeet Kumar SumanTue, 15 Jun 2021 01:50 PM (IST)
Jharkhand News, Ranchi Crime News सरायकेला में भी पुलिस ने एक को पकड़ा है।

रांची, जासं। मध्य प्रदेश पुलिस ने झारखंड की राजधानी रांची सहित तीन शहरों में छापेमारी कर चार साइबर अपराधियों को धर दबोचा है। इनमें से दो की गिरफ्तारी रांची से, एक जमशेदपुर, एक देवघर से की गई है। हालांकि अब तक इस मामले में कुल 6 गिरफ्तारियां हुई हैं। इनमें से चार झारखंड से और दो मध्य प्रदेश से। मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले के कोतवाली थाने की पुलिस ने एक साथ रांची जमशेदपुर और देवघर में छापेमारी की है।

दरअसल, साइबर अपराधियों का एक शातिर गिरोह बड़े ही शातिराना अंदाज में लोगों के खाते से पैसे गायब कर रहा था। यह गिरोह सबसे पहले ऑनलाइन कमर्शियल कंपनियों से मोबाइल की बुकिंग किया करता था, उसके बाद अपने शिकार की तलाश में लग जाता था। मोबाइल बुकिंग करने के बाद साइबर अपराधी किसी व्यक्ति को फोन करके बताते कि उनका बैंक अकाउंट बंद होने वाला है। इसलिए वे जल्द से जल्द उनके मोबाइल नंबर पर जो ओटीपी गया है, उसे शेयर करें ताकि उनका बैंक खाता अपडेट किया जा सके।

साइबर अपराधियों की जाल में फंस कर जो लोग अपना ओटीपी उन्हें शेयर करते हैं, उसी ओटीपी के जरिये साइबर अपराधी ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए महंगे मोबाइल खरीद कर खातों से रुपये गायब कर देते थे। पीड़ित के मोबाइल में मैसेज आता कि ऑनलाइन कंपनी के द्वारा उन्होंने मोबाइल खरीदा है और उसी के एवज में उनके पैसे काटे गए हैं।

जांच के क्रम में यह बात सामने आई कि गिरोह का सरगना संजय महतो देवघर में छुपा हुआ है। वहीं गिरोह के तीन बाकी सदस्य रांची और जमशेदपुर में रहते हैं। मामले की तफ्तीश में सबसे पहले मध्य प्रदेश पुलिस की टीम रांची के अरगोड़ा थाना पहुंची। यहां अरगोड़ा थाना प्रभारी विनोद कुमार के सहयोग से सुशांत और प्रभात को धर दबोचा गया। दोनों से पूछताछ करने के बाद देवघर से संजय महतो और जमशेदपुर से विकास को गिरफ्तार किया गया।

एमपी से लेकर झारखंड तक फैला है गिरोह

मामला सामने आने के बाद मध्य प्रदेश के बालाघाट थाने में इस तरह के कई ठगी के संबंध में एफआइआर दर्ज हुई। इसके बाद बालाघाट पुलिस ने मामले में कार्रवाई करते हुए मध्य प्रदेश के रहने वाले मनोज राणा और हुकम सिंह बिसेन को गिरफ्तार किया। दोनों के पास से भारी मात्रा में नए मोबाइल सेट बरामद किए गए।

पूछताछ में आया झारखंड लिंक

बालाघाट पुलिस ने जब दोनों आरोपियों से पूछताछ की यह पता चला कि इस गिरोह में कुल 6 सदस्य हैं। इनमें से 4 लोग झारखंड के रहने वाले हैं। पूरे गिरोह का मास्टरमाइंड झारखंड के देवघर का रहने वाला संतोष महतो है। वह गिरोह का सरगना है। इसके बाद मध्य प्रदेश पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए झारखंड पुलिस से संपर्क साधा।

सरायकेला-खरसांव में भी एमपी पुलिस का छापा

सरायकेला-खरसावां जिला के गम्हरिया थाना अंतर्गत बड़ा गम्हरिया स्थित आदर्श नगर में मध्य प्रदेश के बालाघाट साइबर पुलिस ने दबिश दी। यहां से गम्हरिया थाना पुलिस के सहयोग से विकास कुमार उर्फ नितिन नामक युवक को हिरासत में लेकर अपने साथ मध्यप्रदेश ले गई। सूत्रों के अनुसार मध्यप्रदेश और गम्हरिया थाना पुलिस ने विकास कुमार के घर से एक कंप्यूटर, मोबाइल और सिम कार्ड के अलावा बैंक पासबुक भी बरामद किए हैं।

बताया जाता है कि विकास कुमार साइबर अपराधियों के टीम का एक हिस्सा है। हालांकि इस संबंध में जिला पुलिस की ओर से कोई जानकारी नहीं उपलब्ध कराई गई है। मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्त में आए साइबर अपराधी को सोमवार देर रात सीजेएम के समक्ष पेश कर उसे अपने साथ ले गई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.