Jharkhand: रामगढ़ में पेट्रोल पंप कर्मी से लूट मामले का हुआ खुलासा, हजारीबाग से एक अपराधी गिरफ़्तार

बरकाकाना में पेट्रोल पंप कर्मी से लूट मामले का एक अपराधी गिरफ़्तार। जागरण
Publish Date:Fri, 25 Sep 2020 03:46 PM (IST) Author: Vikram Giri

रामगढ़ (जागरण संवाददाता) । रामगढ़ जिले के बरकाकाना ओपी अंतर्गत दानिश पेट्रोल पंप के मैनेजर राजेन्द्र बेदिया से गत 21 सितंबर को दिनदहाड़े हुए 5.98 लाख रुपये लूटकांड का पुलिस ने शुक्रवार को खुलासा कर लिया है। मामले में पुलिस ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर लूटकांड में शामिल एक अपराधी को हजारीबाग से गिरफ़्तार कर लिया है। पुलिस ने उसके पास से लूट की राशि में से 55,320 रुपये नकद, लूट कांड में प्रयुक्त दोनों बाइक को भी बरामद कर लिया है। गिरफ़्तार अपराधी मनीष कुशवाहा उम्र 20 वर्ष पिता विष्णु प्रसाद ग्राम हुटपा, थाना मुफ्फसिल, हजारीबाग  का रहने वाला है।

पुलिस ने उसके घर से लूट के पैसे से खरीदे गए बिजली वायरिंग के सामानों काे भी बरामद किया है। विदित हो कि गत 21 सितंबर को दिन के करीब डेढ़ बजे एसबीआई बैंक में पैसा जमा करने जा रहे पेट्रोल पंप मैनेजर राजेंद्र बेदिया से दो बाइक पर सवार पांच अपराधियों ने घुटूवा बस्ती कब्रिस्तान फोरलाइन के समीप रुपये व मोबाइल लूट लिए थे। छत्तरमांडू स्थित एसपी ऑफिस में शुक्रवार को एसपी प्रभात कुमार ने प्रेस वार्ता कर लूटकांड का खुलासा करते हुए पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी। एसपी ने बताया कि मामले में कांड दर्ज का एसडीपीओ पतरातू के के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया था।

टीम ने तकनीकी सेल की मदद से कांड का खुलासा करते हुए एक अपराधी काे गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। कांड में शामिल अन्य चारों अपराधियों की पहचान कर ली गई है। इनकी गिरफ़्तारी के लिए लगातार छापामारी की जा रही है। एसपी ने बताया कि अभी लूट की राशि में से 55 हजार 320 रुपये बरामद हुए हैं। एक मोबाइल, एक बजाज प्लसर आरएस-2001 मोटरसाइकिल (जेएच-24ई-3077) व एक बजाज प्लसर एनएएस-200 मोटरसाइकिल (जेएच-02बीए-6418) बरामद किया गया है।

एसपी ने बताया कि गिरफ़्तार अपराधी मनीष कुशवाहा पहले भी गिद्धोर थाना क्षेत्र में हाइवा लूटकांड में जेल जा चुका है।  एसपी ने बताया कि लूटकांड के तीन दिनों के अंदर खुलासा कर अपराधी के गिरफ़्तारी में पतरातू एसडीपीओ प्रकाश चंद्र महतो, पतरातू सर्किल इंस्पेक्टर बिपिन कुमार, बरकाकाना ओपी प्रभारी हर नारायण साह, प्रशिक्षु सब-इंस्पेक्टर प्यारे हसन, अनिल हेम्ब्रम व जितेंद्र टुण्डू ने सहाहनीय काम किया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.