जुमार नदी को निगल गया जमीन माफिया, रोक के बावजूद सरकारी जमीन पर चल रही जेसीबी

जुमार नदी को निगल गया जमीन माफिया, रोक के बावजूद सरकारी जमीन पर चल रही जेसीबी

रांची रांची के कांके अंचल में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे का खेल जारी है। यह स्थानीय अंचल के अधिकारियों की मिलीभगत की ओर इशारा कर कर रहा क्योंकि एफआइआर के बावजूद जमीन पर जोर-शोर से कब्जा किया जा रहा है। बात हो रही नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के पीछे रिग रोड से सटे रिवर व्यू गार्डेन नाम के प्रोजेक्ट से संबंधित 25 एकड़ जमीन की।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 05:02 PM (IST) Author: Jagran

विश्वजीत भट्ट, रांची : रांची के कांके अंचल में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे का खेल जारी है। यह स्थानीय अंचल के अधिकारियों की मिलीभगत की ओर इशारा कर कर रहा, क्योंकि एफआइआर के बावजूद जमीन पर जोर-शोर से कब्जा किया जा रहा है। बात हो रही नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के पीछे रिग रोड से सटे रिवर व्यू गार्डेन नाम के प्रोजेक्ट से संबंधित 25 एकड़ जमीन की। जहां जुमार नदी की जमीन, बीएयू की जमीन, गैरमजरूआ जमीन के अलावा भुईंहरी और पहनई जमीन को घेरा गया है। पूरा खेल स्थानीय अंचल के संज्ञान में है। कांके सीओ सहित प्रशासनिक अमले के लोगों ने जमीन माफिया की इस करतूत की जांच भी की, लेकिन सारी कार्रवाई महज खानापूर्ति नजर आ रही है। धड़ल्ले से जमीन निगली जा रही है। बेखौफ जमीन माफिया मिट्टी कटाई और ढुलाई कर रहे हैं। जमीन पर प्लॉटिग और खरीदारों को जमीन दिखना भी अनवरत जारी है। लेकिन, कांके के जिम्मेदार अधिकारी सहित अन्य जिम्मेदार काम रुकवाने में रुचि नहीं दिखा रहे। बल्कि उल्टे काम करवाने की बात कह रहे। रिवर व्यू गार्डेन के प्रोपराइटर कमलेश ने खुद कहा है कि एक अधिकारी ने मिठाई खाने के बाद काम जारी रखने के लिए कहा है। नदी काटकर सटाने की तैयारी

नदी की जमीन इस कदर हड़पी जा रही है कि इसका अस्तित्व समाप्त हो जाएगा या नदी प्रोजेक्ट के अंदर समा जाएगी। नदी में पानी नहीं रहने का पूरा फायदा जमीन माफिया उठा रहे हैं। नदी के बहाव वाले करीब एक किलोमीटर के किनारे पर जमीन कटाई की जा रही है। सही समय पर प्रशासन इसपर रोक नहीं लगाता है तो पूरी जमीन टुकड़े-टुकड़े कर बेच दी जाएगी। हालांकि जमीन के प्रोपराइटर नदी की जमीन छोड़कर प्रोजेक्ट तैयार करने का दावा कर रहे हैं। उनका कहना है कि नदी की जमीन को नहीं छुआ गया है। एफआइआर के बाद उतार लिया प्रोजेक्ट का बोर्ड : एफआइआर के बाद प्रोजेक्ट का बोर्ड उतार लिया गया है। एफआइआर होने से पहले तक जमीन के मुख्य द्वार पर रिवर व्यू गार्डेन नाम से बड़ा सा बोर्ड लगा था। सीओ व अन्य अधिकारियों के पहुंचने के बाद बोर्ड वहां से उतार लिया गया है। अब गेट बंद कर जमीन घेरने का काम चल रहा है। प्रोजेक्ट के अंदर कुछ लोग पुलिस वाली वर्दी में भी दिखे।

-----------------

पूरे मामले को ऐसे समझें

अंचल अधिकारी ने दर्ज कराई है एफआइआर

बीते 27 नवंबर को कांके अंचल अधिकारी ने एफआइआर दर्ज कराई है। जिसमें लॉ यूनिवर्सिटी के पीछे स्थित रिग रोड से सटे जुमार नदी, गैरमजरूआ जमीन और बीएयू की अधिग्रहित जमीन पर कब्जा करने का आरोप है।

कांके सीओ ने जांच में क्या पाया

जांच 1

कहां की जमीन : नगड़ी मौजा की जमीन।

खाता संख्या : 136

प्लॉट संख्या : 2308, 2381

रकबा : 21 एकड़

जमीन की प्रकृति : गैर मजरूआ। जांच 2

बीएयू की अधिग्रहित जमीन

खाता संख्या : 142

प्लॉट संख्या : 2309

रकबा : 0.82 एकड़ जांच 3

शेष जमीन का रकबा कितना : 5 एकड़

जमीन की प्रकृति : बकाश्त भईंहरी, पहनई।

सीओ ने जांच में और क्या पाया

सीओ ने जांच में पाया कि जुमार नदी के अस्तित्व को खत्म करते हुए नदी के किनारे मिट्टी को भरते हुए लगभग 0.80 एकड़ जमीन पर समतलीकरण का कार्य कराया जा रहा है। मौके पर कार्य करा रहे जमीन के प्रोपराइटर कमलेश कुमार से जमीन का कागज प्रस्तुत करने को कहा गया जिसे वह नहीं दिखा सके।

..तब क्या हुई कार्रवाई

कांके सीओ के निर्देश पर राजस्व कर्मचारी रंजीत कुमार ने कांके थाना में प्रोपराइटर कमलेश कुमार के विरुद्ध लगभग 25 एकड़ सरकारी जमीन, पहनई जमीन व नदी की जमीन पर कार्य किए जाने को लेकर प्राथमिकी दर्ज कराई है। अपर समाहर्ता भू-हदबंदी से इसकी जांच कराई गई है। उससे यह स्पष्ट होता है कि कांके अंचल अधिकारी ने कोई भी जरूरी कदम नहीं उठाया। प्रतीत हो रहा है कि अंचल अधिकारी कांके की जानकारी में ही नदी की जमीन और सरकारी जमीन पर कब्जा किया गया है। अंचल अधिकारी ने जिला प्रशासन को भी अंधकार में रखा। कांके अंचल अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। जवाब मिलने के बाद विभागीय कार्रवाई के लिए अग्रसर किया जाएगा।

-छवि रंजन, उपायुक्त, रांची इनकी हिम्मत तो देखिए..

अधिकारी ने मिठाई खाने के बाद काम जारी रखने के लिए कहा है

रिवर व्यू गार्डेन के प्रोपराइटर कमलेश ने खुद कहा है कि एक अधिकारी ने कहा है कि मिठाई खाने के बाद काम जारी रखिएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.