अंतरराज्यीय शराब माफिया ने केस छुपाकर बनवाया पासपोर्ट, एफआइआर दर्ज

अंतरराज्यीय शराब माफिया ने केस छुपाकर बनवाया पासपोर्ट, एफआइआर दर्ज

रांची में रहकर अंतरराज्यीय स्तर पर शराब की तस्करी करने वाले के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है।

JagranFri, 26 Feb 2021 09:30 AM (IST)

जागरण संवाददाता, रांची : रांची में रहकर अंतरराज्यीय स्तर पर शराब की तस्करी करने वाले शराब माफिया संतोष कुमार मंडल ने केस छुपाकर पासपोर्ट बनवा लिया। उसके खिलाफ लोहरदगा, बोकारो के अलग-अलग थानों में शराब तस्करी के आरोप में एफआइआर दर्ज है। इन सभी एफआइआर छुपाकर उसने पासपोर्ट बनवाने के लिए फॉर्म भरा। फॉर्म में अरगोड़ा थाना इलाके के गोपाल कांप्लेक्स स्थित फ्लैट का पता दिया। उस पते का पुलिस ने सत्यापन किया। शराब माफिया द्वारा भ्रम में रखने की वजह से अरगोड़ा थाने की पुलिस की ओर से जांच प्रतिवेदन पासपोर्ट कार्यालय को सौंपा गया। इसके आधार पर पासपोर्ट निर्गत हो गया। इस बात की जानकारी बाद में अरगोड़ा थाने की पुलिस को मिली। इसके बाद अरगोड़ा थाने की पुलिस की ओर से एफआइआर दर्ज की गई। अब पासपोर्ट रद करवाने की प्रक्रिया की जाएगी। फिलहाल संतोष कुमार मंडल की पुलिस तलाश कर रही है। जानबूझकर अरगोड़ा पुलिस थाना का पता दर्शाया :

पुलिस के अनुसार शराब माफिया ने एक फ्लैट अरगोड़ा के गोपा कांप्लेक्स में ले रखा है। उसी फ्लैट के अनुसार आधार कार्ड में पता दर्ज है। उसी पते के अनुसार अरगोड़ा थाने की पुलिस ने सत्यापन किया। चूंकि अरगोड़ा थाने में उसके खिलाफ कोई एफआइआर दर्ज नहीं थी। इस वजह से उसके खिलाफ अपराधिक इतिहास नहीं रहने की जानकारी दी गई। पुलिस अब शराब माफिया के पासपोर्ट निर्गत करने के उद्देश्य का पता लगाएगी। पुलिस अब पता लगा रही है कि कहीं पासपोर्ट बनवाकर विदेश भागने की मंशा तो नहीं थी। चूंकि वह लोहरदगा पुलिस और उत्पाद विभाग से बचकर सदर थाना क्षेत्र के चेशायर होम रोड में रहता था। वहीं से पुलिस ने उसे 19 अगस्त 2020 को दबोचा था। 150 करोड़ से ज्यादा की शराब तस्करी का मिला है रिकॉर्ड :

रांची, लोहरदगा पुलिस और उत्पाद विभाग ने चेशायर होम रोड स्थित क्रिस्टल विला अपार्टमेंट से उसे दबोचा था। पकड़े जाने के बाद बोकारो निवासी संतोष के मोबाइल में 150 करोड़ से अधिक की अवैध शराब तस्करी से संबधित ट्रांजेक्शन का रिकॉर्ड मिला था। उसने 100 करोड़ से ज्यादा के राजस्व का चूना लगाया था। संतोष मंडल झारखंड के अलावा बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, चंडीगढ़, पंजाब व हरियाणा और पूर्वोत्तर राज्यों अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय में अवैध शराब का सबसे बड़ा कारोबारी है। झारखंड में गिरिडीह, बोकारो, धनबाद और लोहरदगा में संतोष मंडल के विरुद्ध अवैध शराब से संबंधित कई मामले दर्ज हैं। इन सभी मामलों को उसने पासपोर्ट के लिए दिए गए विवरण में छुपा लिया। संतोष मंडल फर्जी परमिट तैयार कर विभिन्न राज्यों द्वारा ड्यूटी फ्री की गई शराब को दूसरे राज्यों में ले जाकर बेचता था। झारखंड में गिरिडीह, बोकारो, धनबाद और लोहरदगा में उसके द्वारा अवैध रूप से लाई गई शराब पकड़ी गई थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.