ज्यादातर समय विनाशकारी होता है अपमान, संवेदनशील बनें

एक्सआइएसएस रांची के सेंटर ऑफ बिहेवियरल एंड कॉग्निटिव साइंसेज (सीबीसीएस) और केन्द्रीय मनश्चिकित्‍सा संस्थान (सीआइपी) की ओर से ‘अपमान से मुक़ाबला और प्रबंधन’ विषयक कार्यक्रम का आयोजन संस्‍थान के फादर माइकल वैन डेन बोगार्ट एसजे ऑडिटोरियम में किया गया।

Vikas SrivastavaFri, 17 Sep 2021 08:10 PM (IST)
एक्सआइएसएस रांची में ‘अपमान से मुक़ाबला और प्रबंधन’ विषयक कार्यक्रम में संबोधित करते विशेषज्ञ।

जागरण संवाददाता, रांची: ज़ेवियर समाज सेवा संस्थान (एक्सआइएसएस) रांची, सेंटर ऑफ बिहेवियरल एंड कॉग्निटिव साइंसेज (सीबीसीएस) और केन्द्रीय मनश्चिकित्‍सा संस्थान (सीआइपी), रांची ने गुरुवार टॉक श्रृंखला के अंतर्गत ‘अपमान से मुक़ाबला और प्रबंधन’ नामक विषय पर पहला कार्यक्रम फादर माइकल वैन डेन बोगार्ट एसजे ऑडिटोरियम में किया। एक्सआइएसएस के निदेशक, डा जोसेफ मरियानुस कुजूर एसजे ने इस पहल की सराहना करते हुए कहा, “आज एक ऐतिहासिक क्षण है क्योंकि यह इस व्याख्यान श्रृंखला का पहला कार्यक्रम है जिससे हम सीबीसीएस और सीआइपी के सहयोग से व्यवहार विज्ञान, संज्ञानात्मक विज्ञान, सार्वजनिक मानसिक स्वास्थ्य, सामुदायिक मानसिक स्वास्थ्य और परामर्श सेवाएं जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं को संबोधित करेंगे।

दूसरों प्रति संवेदनशील बनना जरूरी :निदेशक

एक्सआइएसएस के निदेशक, डा जोसेफ मरियानुस कुजूर एसजे ने कहा किअपमान ज्यादातर समय विनाशकारी होता है। जाने-अनजाने हम सभी किसी न किसी तरह से दूसरों को अपमानित करने में लगे रहते हैं किन्तु अब हमें अपने दैनिक जीवन में अपने बयानों से अवगत होना होगा, यह आवश्यक है कि हम दूसरों के प्रति संवेदनशील बनें”। सीबीसीएस एक ऐसे केंद्र के रूप में विकसित किया जा रहा है जो नए विचारों, विचारों और कार्यक्रमों को बढ़ावा देने का इरादा रखता है। इस केंद्र का इरादा शिक्षाविदों, शोधकर्ताओं और छात्रों के नए विचारों, अनुसंधान और अन्य कार्यक्रमों से सम्बंधित विषयों के लिए जगह बनाने का है। यह केंद्र विद्वानों, दार्शनिकों, मनोवैज्ञानिकों, समाजशास्त्रियों, वैज्ञानिकों, इतिहासकारों, कलाकारों, उद्योग चिकित्सकों और अन्य लोगों के बीच बातचीत को बढ़ावा देता है और सुविधा प्रदान करता है।

अपमान जैसे विषय पर चर्चा करना महत्‍वपूर्ण

डॉ अनंत कुमार, प्रमुख सीबीसीएस ने सत्र की औपचारिक शुरुआत करते हुए दर्शकों से अपने अनुभव साझा करने का अनुरोध किया। "अपमान एक ऐसी चीज है जिसे हम दूसरों के साथ साझा नहीं करते हैं, लेकिन इस पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह न केवल पेशेवर स्थानों तक सीमित है बल्कि हम इसे अपने प्रियजनों के घर भी ले जाते हैं। इसलिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि इसका लोगों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

शरीर पर निशान नहीं लेकिन लंबे समय तक दिमाग में बना रहता है यह आघात

डॉ मधुमिता भट्टाचार्य, एसोसिएट प्रोफेसर, क्लिनिकल साइकोलॉजी, सीआईपी ने एक ऐसे परिदृश्य पर चर्चा की जहां बच्चे के लिए यह समझना या महसूस करना भी मुश्किल था कि वह अपमानित हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं में देखा गया है कि ये शरीर पर कोई निशान नहीं छोड़ती हैं लेकिन यह आघात लंबे समय तक दिमाग में बना रहता है। सुधारात्मक उपायों का सुझाव देते हुए, उन्होंने कहा कि तनाव को कम करने के लिए कुछ खास रणनीतियों पर काम किया जा सकता है जैसे कि ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रार्थना करना, शांत करने के लिए गहरी सांस लेने के व्यायाम आदि। उन्होंने मानसिक स्वास्थ्य को भी एक महामारी (मूक) घोषित किया।

खुद अपमानित हुआ रहता है दूसरों को अपमानित करनेवाला

डॉ. निशांत गोयल, एसोसिएट प्रोफेसर, मनोचिकित्सा, सीआईपी ने स्थायीकरण पर ध्यान केंद्रित किया। "अपमान करने वाला व्यक्ति अक्सर अपने जीवन में किसी न किसी समय पर अपमानित हुआ है और दूसरों के साथ ऐसा करना उनके लिए एक मुकाबला तंत्र बन जाता है। डॉ. गोयल ने कहा कि अपमान से निपटने के लिए हमें उस व्यक्ति को समझना होगा जो अपमानित करता है । इस वार्ता में एक्सआईएसएस फ़ैकल्टी, कर्मचारी और छात्र भी शामिल हुए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.