Jharkhand Government: पांच कपड़ा कंपनियों में नियुक्त होंगी दक्षिण भारतीय कंपनियों से लौटी युवतियां

Jharkhand Government दो हजार युवाओं को रोजगार दिया जाएगा। हेमंत सोरेन नियुक्ति पत्र सौंपेंगे। ओरिएंट क्राफ्ट को डीओपी मिला है। उत्पादन शुरू करने के लिए ऑर्डर का इंतजार है। किशोर एक्सपोर्ट्स वेस्ट बैंड गणपति क्रिएशंस और वैलेंसिया में नियुक्तियां होंगी।

Kanchan SinghPublish:Thu, 02 Dec 2021 07:09 AM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 07:09 AM (IST)
Jharkhand Government: पांच कपड़ा कंपनियों में नियुक्त होंगी दक्षिण भारतीय कंपनियों से लौटी युवतियां
Jharkhand Government: पांच कपड़ा कंपनियों में नियुक्त होंगी दक्षिण भारतीय कंपनियों से लौटी युवतियां

रांची,राब्यू।  दक्षिण भारतीय राज्यों से लौटीं युवतियों को पांच कपड़ा कंपनियों में नियुक्त करने की पूरी तैयारी कर ली गई है। अनुमान के मुताबिक दो हजार युवतियाें को रोजगार मिलेगा और इनमें सबसे अधिक नियुक्तियां कपड़ा कंपनी ओरिएंट क्राफ्ट देने जा रही है। इसके अलावा किशोर एक्सपोर्ट्स की तीसरी इकाई खुलने जा रही है, वेस्ट बैंड, गणपति क्रिएशंस और वैलेंसिया अपैरल्स में भी नियुक्तियां होंगी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ओरमांझी के कुल्ही गांव में आयोजित कार्यक्रम में सभी को नियुक्ति पत्र सौंपेंगे।

ये वही युवतियां हैं जो लॉक डाउन के दौरान केरल, तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश जैसे राज्यों से लौटी थीं। इन्हें झारखंड में ही रोजगार दिलाने का वादा किया गया था। मुख्यमंत्री छह दिसंबर को ही बोकारो में डालमिया सीमेंट के नए प्लांट की आधारशिला रखेंगे। उद्योग विभाग इस कार्यक्रम को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दे रहा है। ज्ञात हो कि नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम के दौरान डालमिया सीमेंट की ओर से झारखंड में निवेश करने पर सहमति दी गई थी। दूसरी ओर, रांची में कार्यरत कपड़ा कंपनी ओरएंट क्राफ्ट को डीओपी (डेट ऑफ प्रोडक्शन) प्रमाणपत्र मिल गया है और अब कंपनी को उत्पादन के लिए यूरोप की कंपनियों से आर्डर का इंतजार है।

जेपीएससी पीटी रिजल्ट पर भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधा

जेपीएससी पीटी रिजल्ट पर भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने दावा किया कि जेपीएससी परीक्षा में बड़ा घोटाला हुआ है। इसे छुपाने के लिए कांग्रेस बेबुनियादी आरोप लगा रही है। दीपक प्रकाश पर लगाया गया आरोप कांग्रेस की विकृत मानसिकता को दर्शाता है। कांग्रेस का आरोप दुर्भावना से प्रेरित और तथ्यहीन है। सच तो यह है कि जेएससीए के अध्यक्ष अमिताभ चौधरी पर क्रिकेट एसोसिएशन के बिल्डिंग निर्माण में 196 करोड़ के घोटाले का आरोप लगा था, जिसपर प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश मुखर हुए थे।

अध्यक्ष ने जेएससीए संगठन में जगह नहीं दी थी। भाजपा जानना चाहती है कि क्या बेरहमी से जिन छात्रों की पिटाई की गई, क्या कांग्रेस उनके खिलाफ है। कांग्रेस जेपीएससी के अध्यक्ष के बचाव में क्यों है और कांग्रेस भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में क्यों लगी है। जेपीएससी के अध्यक्ष बताएं कि आखिर कैसे एक ही कमरे के छात्र उतीर्ण हुए। कम मार्क्स वाले कैसे पास हो गए और ज्यादा वाले फेल। कट ऑफ मार्क्स जारी करने में विलंब क्यों हुआ?