Crime Roundup Jharkhand: ऊपर से लहलहाती फसलें, नीचे नशे का जुगाड़; साहिबगंज में सामूहिक दुष्कर्म

साहिबगंज में आदिवासी किशोरी के साथ सामूहिक दुष्‍कर्म किया गया।
Publish Date:Sat, 24 Oct 2020 11:09 AM (IST) Author: Sujeet Kumar Suman

रांची, राज्य ब्यूरो। जहरीली शराब से मौत के जब-जब मामले सामने आते हैं, तब तब पुलिस-प्रशासन के कान खड़े होते हैं और फिर शुरू होती है अवैध शराब के खिलाफ छापेमारी। पर क्या आपको पता है झारखंड के लगभग सभी गांवों में देसी शराब का जुगाड़ वर्षों से फल-फूल रहा है। लाख भट्ठियां तोड़ लें, देसी शराब बनाने के जुगाड़ को तहस-नहस कर दें, कुछ दिन के बाद फिर काम चालू हो जाता है।

जमीन के उपर घास-फूस व लहलहाती फसलों के नीचे जुगाड़ तकनीक से नशे के सामान को सुरक्षित रखा जाता रहा है। ताजा मामला चतरा के हंटरगंज से है। यहां यहां हंटरगंज थाने की पुलिस व उत्पाद विभाग ने संयुक्त छापेमारी में 10 अवैध शराब की भट्ठियों को ध्वस्त किया, करीब ढाई सौ लीटर तैयार शराब को नष्ट किया और जमीन के नीचे बड़े-बड़े पानी की टंकियों में सुरक्षित रखे गए तीन टन जावा महुआ को भी नष्ट किया गया है।

इस तरह के मामले रांची के हेथू सहित राज्य के कई इलाकों में लगातार मिलते रहे हैं। कोडरमा से भी खबर है कि वहां कोलगरमा में नकली शराब बनाने की मिनी फैक्ट्री का खुलासा हुआ है। वहां से शराब तैयार करने की मशीन, बोतल व विभिन्न ब्रांडों के रैपर बरामद किए गए हैं। इस दौरान मैकडॉवेल ब्रांड के करीब 200 बोतर तैयार नकली शराब की बरामदगी की गई है।

रांची के लोअर बाजार थाना क्षेत्र में बिल्ली की मौत पर हत्या की आशंका जताते हुए जो प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी, उस केस में पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने मौत के रहस्य से पर्दा उठा दिया है। बिल्ली की मौत के पीछे आवारा कुत्ते सामने आए हैं। इंसान ने नहीं आवारा कुत्तों ने ही कर दी थी बिल्ली की हत्या।

लोहरदगा से खबर है कि यहां सदर अस्पताल में एक किशोर की मौत से आक्रोशित उसके परिजन ने डॉक्टरों पर हमला बोल दिया, जिसके बाद विरोध में डॉक्टर व अस्पताल के कर्मियों ने ओपीडी को बंद कर दिया। रांची के रातू थाना क्षेत्र से खबर है कि यहां साइबर अपराधियों ने रातू के आमटांड़ निवासी दीपक कुमार देवघरिया के बैंक खाते को अपडेट करने के बहाने उनके खाते से 9001 रुपये की निकासी कर ली। इन मामलों की पुलिसिया छानबीन जारी है।

साहिबगंज में फिर सामूहिक दुष्कर्म, आदिवासी किशोरी बनी शिकार

पिछले कुछ माह से साहिबगंज जिला विभिन्न तरह के अपराध के लिए कुख्यात रहा है। कभी टेंडर विवाद में मंत्री व मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि पर प्राथमिकी दर्ज होती है तो कभी सामूहिक दुष्कर्म के बाद नाबालिग की हत्या जिला ही नहीं, पूरे देश के लिए सनसनी बन जाती है।

दुमका, साहिबगंज, गुमला में सामूहिक दुष्कर्म की घटनाओं ने प्रदेश में आक्रोश की तपिश को बढ़ाया ही था कि एक और मामला भी एक आदिवासी किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म का सामने आ गया। जी हां, साहिबगंज जिले के मिर्जा चौकी थाना क्षेत्र में एक आदिवासी किशोरी के साथ बुधवार की रात छह युवकों ने सामूहिक दुष्कर्म किया। किशोरी की बेहोशी की स्थिति में सभी वहां से भाग निकले।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.