कार्रवाई: बिजली बिल नहीं देने पर 9 दिनों में काटी गई 5 हजार लोगों के घर की बिजली

बिजली बिल नहीं देने पर 9 दिनों में काटी गई 5 हजार लोगों के घर की बिजली। जागरण

झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड ने इस महीने महज नौ दिनों में पांच हजार 42 बकाएदारों का बिजली कनेक्शन काट दिया गया है। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि बकाएदारों का कनेक्शन काटने का ये अभियान लगातार जारी रहेगा।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 11:36 AM (IST) Author: Vikram Giri

रांची, जासं । लंबे समय से बिजली का बिल बकाया रखने वालों पर ये महीना काफी भारी पड़ा।झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड ने इस महीने महज नौ दिनों में पांच हजार 42 बकाएदारों का बिजली कनेक्शन काट दिया गया है। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि बकाएदारों का कनेक्शन काटने का ये अभियान लगातार जारी रहेगा।

गौरतलब है कि झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड सितंबर से ही राजधानी में बकाएदारों का कनेक्यशन काटने का अभियान चला रहा है। की ओर से 11 जनवरी को 714, 12 जनवरी को 661, 13 जनवरी को 729, 15 जनवरी को 695, 16 जनवरी को 714, 18 जनवरी को 735 और 19 जनवरी को 794 उपभोक्ताओं की बिजली काट दी गई है।

कनेक्शन काटने के लिए बनाई गई हैं 150 टीमें

रांची विद्युत आपूर्ति क्षेत्र के महाप्रबंधक पीके श्रीवास्तव ने बताया कि बकाएदारों के कनेक्शन काटने के लिए 150 डिस्कनेकशन टीम बनाई गई है। गैंग में जूनियर इंजीनियर लाइनमैन के अलावा 4 कर्मचारी रखे गए हैं। रांची विद्युत आपूर्ति क्षेत्र में रांची के अलावा खूंटी, गुमला, लोहरदगा और सिमडेगा भी शामिल हैं। इन इलाकों में 10 डिवीजन हैं। सभी डिवीजन में बिजली कनेक्शन काटने की कार्रवाई शुरू है।

पिछले महीने हुई 90 करोड़ रुपये की वसूली

महाप्रबंधक प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड की बिलिंग व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए सारी कवायद शुरू की गई है। इसके लिए इंजीनियर फील्ड विजिट कर कार्रवाई कर रहे हैं। मुख्यालय के आदेश पर कार्रवाई शुरू करने के बाद दिसंबर में 90 करोड़ रुपये की वसूली की गई है। जनवरी के लिए भी यही लक्ष्य है। 10,000 से अधिक बकाएदारों की सूची जारी की गई है। ग्रामीण इलाकों में बिजली के बिल वसूले जा रहे हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.