आपसी एकता की परंपरा रहेगी कामय

आपसी एकता की परंपरा रहेगी कामय

मेदिनीनगर : पलामू में आपसी एकता व भाईचारगी की परंपरा सदियों से कायम है और रहेगी। छोट

Publish Date:Sun, 24 Sep 2017 06:20 PM (IST) Author: Jagran

मेदिनीनगर : पलामू में आपसी एकता व भाईचारगी की परंपरा सदियों से कायम है और रहेगी। छोटी-छोटी घटनाओं से ऊपर उठकर यहां की जनता आपसी एकता की मिसाल कायम करती रही है। यहां दशहरा-मुहर्रम, रामनवमी, ईद, दीपावली, होली समेत कई पर्व त्योहार साथ-साथ मनाए जाते हैं। इस बार भी पूरे देश में दशहरा-मुहर्रम साथ-साथ मनाया जा रहा है। दशहरा पर्व व शहादत की मिसाल मुहर्रम एक साथ मनाकर पलामूवासी आपसी सौहार्द व भाईचारगी का विश्व को संदेश देंगे।

बाक्स: 24 डालपी 13

कैप्सन:विष्णु कुमार

इस बार दशहरा व मुहर्रम तीसरी बार एक साथ मनेगा। यह अवसर भारतीय गंगा-जमुनी संस्कृति का प्रतीक है। हम सभी पर्व-त्योहर में आपसी भाईचारगी की मिसाल को प्रदर्शित करते हैं। यह सिलसिला जारी रहेगा। इस बार भी पूरी तरह हम साथ-साथ दशहरा पर्व व शहादत का प्रतीक मुहर्रम मनाएंगे। इससे आपसी एकता की पहचान और मजबूत होगी।बनी रहेगी।विष्णु कुमार,नेउरा,चैनपुर,पलामू।

-------------------------------------

फोटो: 24 डालपी 14

कैप्सन : सत्यनारायण प्रजापति

आपसी भाईचारगी,सौहार्द व एकता भारतीय समाज की पहचान है। इस परंपरा को सदैव कायम रखना है। इस बार भी मुहर्रम-दशहरा साथ मनाया जा रहा है। ऐसे में आपसी भाईचारगी को हर स्तर कायम रखकर अपने फर्ज का निभाना है। जरूरत है असमाजिक व अपराधिक तत्व की बातों में नहीं आने की की।

सत्यनाराण प्रजापति,नेउरा चैनपुर,पलामू।

---------------------------------------

बाक्स: 24 डालपी 15

कैप्सन : शफीक आलम

मुहर्रम-दशहरा साथ-साथ मनाया जाना आपसी एकता की डोर को और मजबूत करने के लिए प्रेरित करता है। पलामू की धरती पर आपसी सौहार्द व एकता की सदियों से मिसाल हर स्तर पर कायम रखना जरूरी है। पूरे देश को पलामू से यह संदेश जाता है कि यहां की एकता बेमिसाल है।

शफीक आलम,नेउरा, पलामू।

-------------------------------------------------

बाक्स: 24 डालपी 16

कैप्सन: नियाजत मियां

पलामू जिला की सरजमीं आपसी एकता व सौहार्द की परंपरा की सच्ची मिसाल है। दशहरा-मुहर्रम साथ-साथ

है। ऐसे में हम सभी का दायित्व बनता है कि आपसी एकता को कायम कर मिलजुलकर दशहरा व मुहर्रम मनाएं। इससे भारतीय एकता की संस्कृति दृढ़ होगी। मुहर्रम पूरे अकीदत से मनाने की जरूरत है। दोनों अवसर पर एक-दूसरे के साथ मिलकर हम अपनत्तव को आगे बढ़ाएं।

नियाज मियां,नेउरा, पलामू।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.