जनता पूछ रही सवाल, क्यों है विकास का ऐसा हाल

संवाद सूत्र, कुडू (लोहरदगा) : जनता 5 साल में एक ही बार तो बोलती है। अपने आसपास विकास का हाल तोलती है। प्रत्याशियों से सवाल पूछती है, जवाब के आधार पर ईवीएम का बटन दबाती है। दैनिक जागरण ने फिर एक बार कुडू प्रखंड के टीको पोखरा टोली हलधर-गिरधर समाधि स्थल में चुनावी चौपाल का आयोजन किया। मतदाताओं के साथ उनकी समस्याओं मुद्दों और वोट को लेकर विचार साझा किए। लोगों ने साफ तौर पर कहा कि विकास का हाल बुरा है। बुनियादी समस्याएं कायम है। वादों के खूब चौके-छक्के लगे हैं, पर फिर भी यहां समस्याएं यथावत है। जो उनकी बात सुनेगा, विकास का ठोस वादा करेगा, जनता के प्रति समर्पण दिखाएगा, उसे ही वोट मिलेगा। लोगों ने चुनावी चौपाल में स्थानीय मुद्दों को प्रमुखता से रखा। अवधेश उरांव ने कहा कि मंत्री, सांसद और विधायक यहां पर आकर शहीद स्थल की सुंदरीकरण और इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का वादा तो करते हैं, पर वह वादा आज भी पूरा नहीं हुआ है। जब शहीदों को ही सम्मान नहीं है तो भला हमें कहां से मिलेगा। इस बार तो हम फैसला कर चुके हैं कि जो पक्का वादा करेगा, उसे ही वोट देंगे। जो हमारे बीच का होगा, विकास का वादा पक्का करेगा वह हमारा नेता होगा। विनोद भगत ने कहा कि क्षेत्र में सालों से सड़क की हालत जर्जर है। गांव में किसी प्रकार की सुविधा नहीं है। 1 महीने से तो बिजली भी नहीं है। ऐसे हालात में कोई सिर्फ यादों के सहारे चुनाव में वोट मांगने के लिए आएगा तो उसे जवाब तो सुनना ही पड़ेगा। हम तो विकास के पक्षधर हैं। जो विकास के रास्ते पर चलने को लेकर संकल्पित होगा, वह उसे ही वोट देंगे। शहीद स्थल के सुंदरीकरण और बुनियादी सुविधाओं को बेहतर करने को लेकर कदम बढ़ाने वाले व्यक्ति को ही हमारा समर्थन मिलेगा। लालू यादव ने कहा कि क्षेत्र में जो समस्याएं हैं, वह ऐसी नहीं है कि उसे खत्म नहीं किया जा सकता था। यदि आज भी बुनियादी समस्याओं की वजह से लोग परेशान हैं तो वजह साफ है कि क्षेत्र के प्रतिनिधियों ने हमें दरकिनार किया है। अब ऐसा चलने वाला नहीं है। वह तो उसे ही वोट देंगे, जो विकास को लेकर गंभीरता दिखाएगा। चुनावी चौपाल में विनोद भगत, भगवान दास उरांव, संदीप उरांव, विजय उरांव, नीरज उरांव, निरंजन, सुजीत उरांव, रघु मुंडा, नीतीश बाड़ा, शिवपूजन मुंडा आदि मौजूद थे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.