डेंगू व चिकनगुनिया को ले चलेगा जागरूकता अभियान : सीएस

कोडरमा: एक दिवसीय जिला स्तरीय डेंगू एवं चिकनगुनिया प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन सिविल सर्जन कार्यालय सभागार कोडरमा में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से सिविल सर्जन डॉ. पार्वती कुमारी नाग, जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ. मनोज कुमार एवं जिला कुष्ठ निवारण पदाधिकारी डॉ. रमन कुमार मौजूद थे। सीएस ने कहा कि डेंगु व चिकुनगुनिया से बचने के लिए लोगों को जागरूक होना पड़ेगा। सर्कर्ता ही सुरक्षा के बेहतर उपाय है। हमेशा साफ पानी में डेंगु व चिकनगुनिया के मच्छर पनपता है। लिहाजा ऐसे पानी को घरों व इर्द-गिर्द जमा होने से रोकें। उन्होंने कहा कि डेंगू के मच्छर दिन में ही काटते हैं। डेंगू से हर संभव बचाव के लिए जनसमुदाय को जागरूक करने की जरूरत है। वर्तमान में हमारे नजदीकी शहर पटना में आये दिन डेंगू के नये मरीज सामने आ रहे हैं। इसलिए कुछ सावधानियां बरतकर इससे बचा जा सकता है। डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि डेंगू एवं चिकनगुनिया से ईलाज से इससे बचाव बेहतर होता है। थोड़ी सर्तकर्ता से डेगू एवं चिकनगुनिया बचा जा सकता हैं। लिहाजा जरूरी है कि घर के सभी कूलर, फ्रीज आदि का पानी बदलते रहें, पुराने टायर, टूटे फूटे वर्तनों आदि में पानी जमा न होने दें। यदि किसी व्यक्ति को डेंगू से संबंधित लक्षण प्रतीत हो तो तुरन्त नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र, सदर अस्पताल इलाज करवानी चाहीए। वर्तमान में अभी तक कोडरमा जिले में डेंगू एवं चिकनगुनिया का मरीज नहीं मिले हैं। डॉ. रमन कुमार के द्वारा बताया गया कि डेंगू एक मच्छर जनित बीमारी है। इससे बचने के लिए हमेशा मच्छरदानी लगाकर ही रात में सोना चाहीए। अगर घर के आस-पास पानी जमा हैं, तो उसमें केरोसिन तेल या मोबिल ऑइल डालें, जिससे मच्छर का लार्वा न बनने पाये। जिला मलेरिया सलाहकार विनीत अग्निहोत्री ने बताया कि अगर किसी को तेज बुखार हो या शरीर में ज्यादा दर्द हो, या खून का स्त्राव हो रहा हो तो तुरन्त चिकित्सक से जांच करायें। डेंगू की पूर्ण जाँच एवं उपचार की सुविधा रिम्स रांची, जमशेदपुर एवं धनबाद में मुफ्त उपलबध है। प्रशिक्षण में जिले के सभी प्रखंडों से विभिन्न स्वास्थ्य कर्मी, एएनएम, जीएनएम, एमपीडब्लू, एसटीएस, एमटीएस ने भाग लिया। मौके पर जिला लेखा प्रबंधक राकेश पाण्डेय, शंभू कुमार, विवेकानन्द शर्मा, सुनील कुमार पंडित, शंकर कुमार, ललन कुमार राणा, अविनाश आनन्द, थेओदोर सुरिन, दीपेश कुमार, हिमांषु कुमार, मुकेश कुमार आदि उपस्थित थे।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.