दौड़ेंगे आटो -टोटो, थम गए बसों के पहिये

दौड़ेंगे आटो -टोटो, थम गए बसों के पहिये

संवाद सहयोगी झुमरीतिलैया (कोडरमा) 16 मई से 27 मई तक राज्य के अंदर किसी भी जिले में आन

JagranSat, 15 May 2021 07:24 PM (IST)

संवाद सहयोगी, झुमरीतिलैया (कोडरमा): 16 मई से 27 मई तक राज्य के अंदर किसी भी जिले में आने जानेवाले हैं तो भी ई-पास लेना अनिवार्य किया गया है। साथ ही राज्य से बाहर आने जाने पर रोक लगा दी गई है। 16 मई की सुबह 6 बजे से पास को अनिवार्य कर दिया है। लॉकडाउन में आप राज्य के बाहर जाते है तो पास की आवश्कता नहीं है पर अब आने के अनुमति लेनी होगी। पास के बाद आपको कोरोना जांच निगेटिव प्रमाणपत्र भी दिखनी होगी तथा सात दिनों के क्वारंटाइन में रहना होगा। अंतरराज्यीय व अंदर के जिलों में बसों का परिचालन बंद रहेगा। जिले में आटो और टोटो चलते रहेंगे। इधर शनिवार को यात्री बसों ने राज्य के रांची, गिरिडीह व अन्य जिलों के लिए अंतिम फेरा लगाया। लगभग आधा दर्जन बसें शाम और रात तक झुमरीतिलैया और कोडरमा पहुंच कर अलग-अलग स्थलों पर थम गई। कोडरमा जिला बस एसोसिएशन के अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव उर्फ बंशी यादव ने बताया कि लगभग ढ़ाई दर्जन बसे कोडरमा जिले से खुलती थी। 22 अप्रैल से कई बसे बंद है ,ऐसे में चालक उपचालक के साथ साथ लोन के पैसे देने में कठनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इधर, झारखंड के दिबौर सहित कई पाइंट पर पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति की गई है ,जो रविवार से लाकडाउन के नियमों को सख्ती से पालन कराएगी। आनवश्यक रूप से घूमने और तफरी करने वालों को उठक बैठक कराने के साथ-साथ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। झुमरी तिलैया के झंडा चौक पर आइआरबी के जवानों को इसके लिए लगाया गया है।

शादी कर रहे हैं तो अब थानेदार को देना होगा निमंत्रण :

लॉकडाउन पार्ट दो में शादी विवाह के साथ अन्य कई मामलों में सख्ती बढ़ा दी गई है।अब महज 11 लोगो मे सात फेरे लिए जा सकेंगे। पहले ये संख्या 50 की थी जिसमें नागिन डांस भी लोग कर रहे थे लेकिन अब वो ऐसा नहीं कर सकेंगे। इधर कोरोना वायरस न जाने क्या-क्या दिन दिखा रहा है। अपनी मर्जी से आप कुछ नही कर सकते। वाहन चलाना है तो ई-पास और शादी करनी है तो आवेदन के साथ कार्ड भी थानेदार को देना होगा। वह भी तीन दिन पहले। लॉकडाउन में आम आदमी के लिए कई मुसीबतें खड़ी कर दी गई है। 250 टेंट, लाइट, फूल और कैटरिग के आर्डर हुए रद :

16 से 27 मई तक विवाह भवन विभिन्न धर्मशालाओं ,होटलों में होने वाली शादियों केआर्डर रद कर दिया गया। अब ये शादियां घरों या कोर्ट में मात्र 11 लोगो मे होगी। ऐसे में बेंड बा•ा और बाराती की धूम न•ार नहीं आएगी वहीं दूसरी ओर टेंट ,लाइट, फूल कैटरिग के लगभग जिले भर में 250 बुकिग को 27 मई तक रद कर दिया गया है। टेंट ,लाइट एवं डेकोरेशन संघ के जिला अध्यक्ष बैजनाथ यादव ने बताया कि साढ़े सात सौ व्यवसाय से जुड़े लोगो को लगभग एक करोड़ का नुकसान हुआ है।वही 22 अप्रैल से लॉकडाउन में डीजे एवं बैंड बाजा की घूम बंद है। ऐसे में इस व्यवसाय से जुड़े लगभग 1200 लोगो को लगभग दो करोड़ का नुकसान हुआ है। मालूम हो कि शहरी क्षेत्र में बैंड बाजा और डीजे नही बज रहे है वही ग्रामीण क्षेत्र में कुछ कार्य हो भी रहे है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.