खूंटी में पुलिस के खिलाफ सड़क पर उतरे ग्रामीण, पथराव में पुलिसकर्मी घायल

खूंटी, जागरण संवाददाता। मुरहू थानांतर्गत कई गांवों में की गई पुलिस कार्रवाई के विरोध में शुक्रवार की सुबह हजारों की संख्या में ग्रामीण महिला-पुरुष सड़क पर उतर आए। आक्रोशित ग्रामीणों ने खूंटी-चाईबासा मार्ग पर घोड़ाटोली के निकट सुबह करीब सात बजे सड़क जाम कर दिया।

जाम की सूचना मिलने पर मुरहू थाना प्रभारी के नेतृत्व में पुलिस बल मौके पर पहुंचा और जाम हटाने का प्रयास किया। काफी समझाने-बुझाने के बावजूद ग्रामीण जाम हटाने को तैयार नहीं हुए और पुलिस को खदेड़ते हुए पथराव कर दिया। पथराव में मुरहू थाने का पुलिसकर्मी जैसवर सिंह घायल हो गया। उसका सिर फट गया। तत्काल उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां प्राथमिक उपचार किया गया और सिर पर तीन टांके लगाए गए।

खूंटी में पथराव में घायल पुलिसकर्मी।

उधर, पुलिसकर्मी के घायल होने के बाद पुलिस की तरफ से एक हवाई फायर किया गया, जिसके बाद भीड़ पीछे हट गई और पथराव बंद कर दिया। हालांकि एसडीपीओ कुलदीप कुमार का कहना है कि पुलिस की ओर से एक भी फायर नहीं किया गया।

एसपी के समझाने पर शांत हुए ग्रामीण

मामले के जानकारी होने पर पुलिस अधीक्षक आलोक, खूंटी एसडीपीओ कुलदीप कुमार एवं एसडीएम प्रणव कुमार पॉल मौके पर पहुंचे। एसपी ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। उन्होंने ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि रात में उनके घरों में पुलिस जबरन घुस आई और घर में रखे खाने-पीने के सामान को तहस-नहस कर दिया। साथ ही घर मेें रखे रुपये भी उठा लिए। इस पर एसपी ने कहा कि कल भारी मात्रा में अफीम बरामद की गई है और उसी को लेकर छापामारी की जा रही था। उन्होंने कहा कि पूरे मामले की जांच की जाएगी और यदि पुलिस दोषी होगी तो पूरे थाने को सस्पेंड कर दिया जाएगा। उन्होंने एसडीपीओ को जांच कर दो घंटे में रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। इसके बाद ग्रामीण शांत हुए।

जानें, क्या है मामला

अफीम तस्करी की सूचना मिलने पर गुरुवार की रात करीब 10 बजे से तीन बजे के बीच पुलिस ने मुरहू थानांतर्गत हेटगोवा, तुम्बाकोल, गिड़ुम, बरलू व चिचिगढ़ा समेत कई गांवों में छापामारी की इस दौरान पुलिस ने भारी मात्रा में अफीम बरामद की और हेटगोवा गांव से पतोर पूर्ति, तुम्बाकोल गांव से साऊ मुंडारी, गिड़ुम से मोगो टुडू व उसके एक मेहमान को हिरासत में ले लिया। ग्रामीणों का आरोप है कि छापामारी के दौरान पुलिस जबरन घरों में घुस गई और घर में रखे सामान को तहस-नहस कर दिया। साथ ही, बिना कोई कारण बताए उनके साथ धक्का-मुक्की करते हुए बदसलूकी की।

गिड़ुम गांव की प्रधान चुरू पूर्ति ने आराेप लगाया है कि पुलिस ने उसके घर में चावल आदि खाद्य सामग्री को तहस-नहस कर दिया और घर में रखे संस्था के पांच हजार रुपये छीन लिए। वहीं तुम्बाकोल गांव की रेनू मुंडा ने बताया कि पुलिस रात तीन बजे दरवाजा तोड़कर घर में घुस आई और घर में रखी खाद्य सामग्री को तहस-नहस कर दिया। साथ ही, धमकी दी कि शोर मचाओगे तो जान से मार देंगे। हालांकि पुलिस इन आरोपों का खंडन कर रही है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.