Work From Home New Rule : वर्क फ्रॉम होम के लिए कानून लाने जा रही है सरकार, जानें इससे आपको क्या होगा फायदा

Work From Home New Rule जब देश में पहली बार लॉकडाउन लगा था और अर्थव्यवस्था औंधे मुंह गिर गया था तब दुनिया भर की कंपनियां इस आपदा को अवसर में तब्दील कर दिया। वर्क फ्रॉम होम संस्कृति आया। अब सरकार नया कानून लाने जा रही है...

Jitendra SinghPublish:Wed, 08 Dec 2021 06:15 AM (IST) Updated:Wed, 08 Dec 2021 06:15 AM (IST)
Work From Home New Rule : वर्क फ्रॉम होम के लिए कानून लाने जा रही है सरकार, जानें इससे आपको क्या होगा फायदा
Work From Home New Rule : वर्क फ्रॉम होम के लिए कानून लाने जा रही है सरकार, जानें इससे आपको क्या होगा फायदा

जमशेदपुर। डेढ़ साल से कोरोना महामारी वैश्विक संकट बना हुआ है। कोरोना के कारण दुनिया के कई देशों में लॉकडाउन लगाना पड़ा। लॉकडाउन के कारण जीवन ठहर सा गया। सब कुछ ठप हो गया। कॉरपोरेट सेक्टर ने इस आपदा को अवसर में तब्दील कर दिया और वर्क-फ्रॉम-होम कल्चर को अपना लिया। कई आईटी कंपनियों के कर्मचारियों ने घर से काम करना शुरू कर दिया।

फ्यूचर ऑफ वर्क को सौंपा गया नियम बनाने का काम

भारत सरकार कर्मचारियों के लिए एक व्यापक ढांचा तैयार करने पर विचार कर रही है जो घर से काम करने की सीमा तय करेगा। एक सरकारी अधिकारी ने बदेश में वर्क फ्रॉम होम को विनियमित करने के लिए की जा रही चर्चाओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि एक कंसल्टेंसी फर्म 'फ्यूचर ऑफ वर्क' काम के घंटे निर्धारित करने के लिए काम कर रही है। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, विप्रो, एचसीएल सहित अन्य आइटी कंपनियों के लाखों कर्मचारी आज भी घर से ही काम कर रहे हैं।

काम के घंटे बढ़ने से पड़ रहा अतिरिक्त दबाव

हालांकि, कंपनियों ने घर से काम करते हुए काम के घंटे भी बढ़ा दिए, जिससे कर्मचारियों पर अतिरिक्त दबाव पड़ा। अगर आप भी वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं, अगर कंपनियां आपको अतिरिक्त काम करने के लिए मजबूर कर रही हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। क्योंकि भारत सरकार जल्द ही वर्क फ्रॉम होम के लिए कानून लाएगी। अगर कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं तो आने वाला यह कानून कंपनियों की जिम्मेदारियों को स्पष्ट करता है।

कर्मचारियों के पास शिकायत करने का उचित प्लेटफॉर्म नहीं

कई कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को कोविड 19 अवधि के दौरान घर से काम करने के लिए कहा। कर्मचारियों की ओर से लगातार शिकायतें आ रही हैं कि उनकी कंपनियां उनसे अतिरिक्त घंटे काम करवा रही हैं। लेकिन ऐसा कोई कानून नहीं है जहां कर्मचारी कंपनी के उत्पीड़न के खिलाफ शिकायत कर सके।

केंद्र सरकार वर्क फ्रॉम होम में काम के घंटे तय करेगी

तो अब केंद्र सरकार ने ऐसे कर्मचारियों पर संज्ञान लिया है और जल्द ही इसके लिए कानून लाने की तैयारी कर रही है। जानकारी के मुताबिक वर्क फ्रॉम होम कानून काम के घंटों की एक निश्चित सीमा तय करेगा। वर्क फ्रॉम होम कंपनियों को बिजली और इंटरनेट के खर्च के लिए कंपनी को कितना भुगतान करना होगा, इस पर भी प्रावधान होगा। केंद्र सरकार के एक अधिकारी ने कहा कि वर्क फ्रॉम होम के नियम लागू किए जाएंगे। कहा जा रहा है कि केंद्र जल्द ही कानून को लागू करेगा।

पुर्तगाल में वर्क फ्रॉम होम पर बन चुका है कानून

अधिकारियों ने कहा कि केंद्र सरकार अब सभी क्षेत्रों में व्यापक ढांचा तैयार कर रही है। पुर्तगाल ने हाल ही में वर्क फ्रॉम होम वाले कर्मचारियों के लिए एक कानून पेश किया है। इससे कर्मचारियों को ज्यादा सुरक्षा मिली है। इस कानून ने कंपनी द्वारा कर्मचारियों के शोषण को कम करने में मदद की है

सरकार ने कंपनियों को काम के घंटे खुद तय करने की दी थी अनुमति

खासतौर पर केंद्र सरकार ने इस साल जनवरी में सर्विस सेक्टर के लिए वर्क फ्रॉम होम की सुविधा देने का आदेश जारी किया था। जिससे कंपनी और कर्मचारियों को काम के घंटे और अन्य शर्तों पर निर्णय लेने की अनुमति दी। सरकार के इस कदम को एक संकेत के तौर पर देखा जा रहा था. ऐसा इसलिए है क्योंकि आईटी और आईटीईएस सेवा क्षेत्र में भारी रूप से शामिल हैं। इस कंपनी के कर्मचारियों को शुरू से ही कुछ शर्तों के तहत वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी जाती थी।