जब रूसी मोदी ने टिस्को का राष्ट्रीयकरण होने से बचाया, जॉर्ज फर्नांडीस व बीजू पटनायक की एक न चली

एक समय टिस्को (वर्तमान में टाटा स्टील) का भी राष्ट्रीयकरण होने जा रहा था। जॉर्ज फर्नांडीस व बीजू पटनायक जिद पर अड़े थे। लेकिन टिस्को के तत्कालीन चेयरमैन रुसी मोदी के आगे उनकी एक नहीं चली। रूसी मोदी ने जमशेदपुर की सड़कों पर लोगों के साथ विरोध तक किया।

Jitendra SinghTue, 27 Jul 2021 06:00 AM (IST)
जब रूसी मोदी ने टिस्को का राष्ट्रीयकरण होने से बचाया

जमशेदपुर। गंभीर आंतरिक मतभेदों के बीच 1978 में सत्ताधारी जनता पार्टी सरकार के कुछ मंत्रियों ने इस्पात और खान मंत्री बीजू पटनायक और उद्योग मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस के नेतृत्व में कुछ प्रमुख निजी क्षेत्र की कंपनियों के राष्ट्रीयकरण का अभियान शुरू किया। उनमें से टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (टिस्को) ने बाद में टाटा स्टील का नाम बदल दिया।

टाटा के पास टिस्को में थी सिर्फ पांच प्रतिशत हिस्सेदारी

टाटा के लिए यह एक मुश्किल घड़ी थी। उस समय टाटा समूह के पास कंपनी में सिर्फ पांच प्रतिशत से कम हिस्सेदारी थी, जबकि संस्थानों के माध्यम से सरकार के पास 45 प्रतिशत थी। तकनीकी रूप से सरकार यह दावा करने में गलत नहीं थी कि यह ही टिस्को का सही मालिक है।

जॉर्ज फर्नांडीस व बीजू पटनायक जिद पर अड़े

जून 1979 में इंडिया टुडे पत्रिका को दिए एक साक्षात्कार में, पटनायक ने कहा था, "सवाल यह है कि चार प्रतिशत धारक इसे चलाएंगे या 45 प्रतिशत धारक।" इस कदम के लिए मिसाल भी थी। 1973 में, कांग्रेस सरकार ने 900 से अधिक निजी स्वामित्व वाली कोयला खदानों का राष्ट्रीयकरण किया था, लेकिन टिस्को के स्वामित्व वाली खदानों को इस दलील पर अकेला छोड़ दिया कि ये खदानें दूसरों के लिए दक्षता और उत्पादकता के बेंचमार्क के रूप में काम कर सकती हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साथ बीजू पटनायक। 

कोका कोला व आइबीएम को देश से बाहर भेज चुके थे फर्नांडीस

लेकिन अब गहरी समाजवादी जनता सरकार बड़े कारोबारियों को वश में करने की ठान चुकी थी। पर्दे के पीछे यह कदम फर्नांडीस द्वारा प्रतिनिधित्व किए गए पार्टी के युवा तुर्क और उम्रदराज प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के बीच बढ़ती दरार को भी दर्शाता है। नए स्पंज आयरन प्लांट के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कच्चे माल को लेकर भी टाटा समूह का पटनायक से मतभेद था। फर्नांडीस कोका कोला और आईबीएम जैसी कंपनियों को देश से बाहर भेज चुके थे।

जॉर्ज फर्नांडीस।

खुद को बचाने को किले में तब्दील हुआ जमशेदपुर

टिस्को का राष्ट्रीयकरण, अगर यह हो गया होता, तो जमशेदपुर पर भी लागू होता। जमशेदजी नसरवानजी टाटा के नाम पर टाटा समूह के संस्थापक, शहर कंपनी के संचालन का केंद्र था और जल्द ही सरकार के प्रयासों के खिलाफ खुद को बचाने के लिए एक किले में बदल गया था।

रूसी मोदी ने किया लड़ाई का नेतृत्व

लड़ाई का नेतृत्व करने वाले व्यक्ति थे रूसी मोदी, जो टाटा के जीवन रक्षक थे। जिन्होंने कंपनी का नेतृत्व किया और इसे अपनी व्यक्तिगत जागीर की तरह चलाया। उनके विनयी व्यवहार ने उन्हें श्रमिकों और श्रमिक संघों के बीच लोकप्रिय बना दिया। राजनीतिक रूप से अच्छी तरह से जुड़े होने के कारण, उन्होंने अब पूरे स्पेक्ट्रम के भारी-भरकम राजनेताओं के साथ अपने सभी पक्षों को आकर्षित किया।

रतन टाटा, जेआरडी टाटा (बीच में) व रूसी मोदी (दायें)। 

वीजी गोपाल ने प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई को लिखा पत्र 

रूसी मोदी इतने पर नहीं रुके। उन्होंने श्रमिक संघों को राष्ट्रीयकरण के प्रयास के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध का आयोजन करने के लिए जमशेदपुर के लोगों को उकसाया। अक्टूबर 1978 में, टाटा वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष वीजी गोपाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा कि टिस्को में टाटा वर्कर्स यूनियन सरकार के फैसले से नाखुश है। यह संभवत: टिस्को पर कब्जा करने की योजना के ताबूत में अंतिम कील थी। एक बार जब सरकार को लगा कि यूनियनें इस कदम का विरोध कर रही हैं, तो उसने पीछे हटने का फैसला किया।

 

पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई। 

टाटा के साथ आए एलके आडवाणी, सुब्रमण्यम स्वामी व पीलू मोदी

जनसंघ के एलके आडवाणी के साथ-साथ पीलू मोदी (रूसी मोदी के भाई) और सुब्रमण्यम स्वामी के इस कदम का विरोध करने से भी मदद मिली। चतुर मोरारजी देसाई ने यह भी देखा कि यह क्या था, अपने सिर के ऊपर जाने और एक ऐसा मुद्दा बनाने का प्रयास जिस पर उन्हें अपनी स्थिति से मुक्त किया जा सके।

लालकृष्ण आडवाणी व सुब्रमण्यम स्वामी। 

मोदी इस आयोजन के बड़े नायक के रूप में उभरे। इसका भविष्य पर प्रभाव पड़ेगा। 1991 में जब जेआरडी ने अपने पद से इस्तीफा देने और उत्तराधिकारी की तलाश करने का फैसला किया, तो मोदी ने उनके अवसरों की कल्पना की। जब वह रतन टाटा से हार गए तो दोनों के बीच एक साइलेंट वॉर शुरू हो गया, जो रुसी मोदी के कंपनी और शहर से बेदखल होने के बाद ही समाप्त हुआ।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.