मेहरबाई टाटा ने जब टाटा स्टील को बचाने के लिए कोहिनूर से भी बड़ा हीरा रख दी थी गिरवी

टाटा समूह को अर्श से फर्श तक पहुंचाने में मेहरबाई टाटा का महत्वपूर्ण योगदान है। टाटा ग्रुप के दूसरे अध्यक्ष सर दोराबजी टाटा की पत्नी मेहरबाई टाटा ने कभी टाटा स्टील को बचाने के लिए कोहिनूर से भी बड़ा अपना हीरा गिरवी रख दिया था।

Jitendra SinghMon, 14 Jun 2021 06:00 PM (IST)
मेहरबाई टाटा ने जब टाटा स्टील को बचाने के लिए कोहिनूर से भी बड़ा हीरा रख दी थी गिरवी

जितेंद्र सिंह, जमशेदपुर : टाटा समूह के दूसरे अध्यक्ष सर दोराबजी टाटा की पत्नी मेहरबाई अपने समय से काफी आगे थी। उन्होंने न सिर्फ बाल विवाह के खिलाफ संघर्ष किया, बल्कि कई सामाजिक कार्य किए। जमशेदपुर में आप मेहरबाई कैंसर अस्पताल जाएं या फिर सर दोराबजी टाटा पार्क, मेहरबाई से जुड़ी कई यादें ताजा हो जाएंगी। क्या आपको पता है जब 1920 में टिस्को (वर्तमान में टाटा स्टील) डूबने के कगार पर था तो मेहरबाई ने अपना गहना बैंक में गिरवी रख धन जुटाया था। ऐसे ही मेहरबाई से जुड़ी रोचक कहानियां पढ़िए...

पति सर दोराबजी टाटा के साथ मेहरबाई

1879 में हुआ था मेहरबाई का जन्म

टाटा समूह के दूसरे अध्यक्ष सर दोराब जी टाटा की पत्नी

लेडी मेहरबाई टाटा का जन्म 1879 में हुआ था। खुले विचार की मेहरबाई बाद में चलकर महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई की अगुआ बनी। खेल के प्रति रुचि रखने वाली मेहरबाई बहुमुखी प्रतिभा की धनी थी। वह कुशल पियानोवादक भी थी।

 

मेहरबाई के पास था कोहिनूर से भी बड़ा हीरा

मेहरबाई के बारे में कई ऐसी कहानियां है, जो आपके दिल को छू जाएगी। मेहरबाई के पास एक खूबसूरत हीरा हुआ करता था। 245 कैरेट का जुबिली हीरा प्रसिद्ध कोहिनूर से दोगुना बड़ा था और यह तोहफा उन्हें अपने पति सर दोराबजी टाटा से मिला था। विशेष प्लेटिनम चेन में लगी यह हीरा देख सभी चकित हो जाते थे। लेडी मेहरबाई टाटा इसे विशेष आयोजनों में पहना करती थी।

जमशेदपुर के दोराबजी पार्क में मेहरबाई की याद में बना जुबिली डायमंड।

टाटा स्टील को बचाने के लिए हीरा को रख दिया गिरवी

1920 के दशक में, टाटा स्टील (तब टिस्को कहा जाता था) एक महान वित्तीय संकट से गुजरी और पतन के कगार पर थी। दोराबजी टाटा को कुछ सूझ नहीं रहा था। कंपनी को कैसे बचाया जाए, लेकिन कोई रास्ता दिख नहीं रहा था। तभी मेहरबाई ने जुबिली हीरा गिरवी रख धन इकट्ठा करने की सलाह दी। पहले तो दोराबजी ने इससे इंकार कर दिया, लेकिन बाद में अपनी पत्नी की सलाह माननी पड़ी। धन जुटाने के लिए दोराबजी टाटा और मेहरबाई द्वारा इम्पीरियल बैंक को गिरवी रखा गया। इससे समस्या का समाधान हो गया और टाटा स्टील काफी समृद्ध होती रही। बाद में, इस हीरे को बेच दिया गया और इस आय का उपयोग सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट के निर्माण के लिए किया गया, जो भारत में कई परोपकारी गतिविधियों में सबसे आगे रहा है। रतन टाटा आज टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन हैं।

ओलंपिक में टेनिस खेलने वाली पहली भारतीय महिला थी मेहरबाई

मेहरबाई को टेनिस खेलने का शौक था और वह इस खेल में बहुत कुशल हो गईं। वास्तव में, उसने टेनिस टूर्नामेंट में साठ से अधिक पुरस्कार जीते। वह ओलंपिक टेनिस खेलने वाली पहली भारतीय महिला थीं। 1924 के पेरिस ओलंपिक में मिश्रित युगल। सबसे दिलचस्प और अनोखी बात यह है कि उन्होंने अपने सभी टेनिस मैच पारसी साड़ी पहनकर खेले, जो उनके राष्ट्र में उनके गौरव से प्रेरित था, और शायद अंग्रेजों की ओर भी इशारा करने के लिए, जो उस समय भारत पर शासन कर रहे थे।

 

जेपलिन एयरशिप में सवार होने वाली पहली भारतीय महिला

उनके पति और उन्हें अक्सर विंबलडन के सेंटर कोर्ट में टेनिस मैच देखते हुए देखा जाता था। मेहरबाई का खेल के प्रति जुनून टेनिस से भी आगे निकल गया। वह एक बेहतरीन घुड़सवार भी थी और 1912 में जेपेलिन एयरशिप पर सवार होने वाली पहली भारतीय महिला थी।

 बाल विवाह अधिनियम बनाने में किया सहयोग

1929 में भारत में बाल विवाह अधिनियम पारित किया है, जिसे सारदा एक्ट के नाम से भी जाना जाता है। इस अधिनियम को बनाने में मेहरबाई का भी सहयोग लिया गया था। वह लेडी टाटा ने भारत और विदेशों में छुआछूत और पर्दा व्यवस्था के खिलाफ लड़ाई लड़ी। वह भारत में महिलाओं की शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध थीं, और नेशनल काउंसिल ऑफ वीमेंस की संस्थापक भी रही।

सूनी टाटा के साथ मेहरबाई टाटा

अमेरिका में हिंदू विवाह अधिनियम पर दिया भाषण

29 नवंबर 1927 को उन्होंने अमेरिका के मिशिगन में बैटल क्रीक कॉलेज (अब एंड्रयूज यूनिवर्सिटी) में हिंदू विवाह अधिनियम के पक्ष में बात की। उनके उत्साही भाषण ने दर्शकों को भारतीय संस्कृति और इतिहास के साथ-साथ रीति-रिवाजों और अज्ञानता का एक उत्कृष्ट अवलोकन प्रदान किया, जिसने देश में महिलाओं की प्रगति को बाधित कर रहा था।

भाई जहांगीर के साथ मेहरबाई टाटा

बाल विवाह खत्म करने पर दिया जोर

इसके बाद उन्होंने भारत सरकार से एक प्रस्तावित विधेयक को शीघ्रता से पारित करने का आह्वान किया जो बाल विवाह को गैरकानूनी घोषित करेगा और इस तरह इस सामाजिक बुराई को समाप्त करेगा। वास्तव में, वह भारत की महिलाओं के लिए एक शक्तिशाली प्रवक्ता थीं। अपने पति, टाटा समूह के दूसरे अध्यक्ष, सर दोराबजी टाटा के साथ, उन्होंने व्हाइट हाउस में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति केल्विन कूलिज से भी मुलाकात की।

 

जमशेदजी टाटा व दोराबजी टाटा के साथ मेहरबाई।

'हम ग्रेसफुल नहीं, यूजफुल होने आए हैं'

एक धनी परिवार में विवाहित होने के बावजूद, वह समाज के सभी वर्गों के साथ सक्रिय संपर्क में रहीं। एक खास कहानी बड़ी दिलचस्प है। जब उसने सुना कि मुंबई के भायखला के एक गरीब इलाके में रहने वाली महिलाओं को दंगों के कारण भोजन नहीं मिल पा रहा है, तो उसने अपनी कुछ महिला सहयोगियों के साथ खुद एक भोजन और सब्जी लेकर उनके बीच पहुंच गई। महापौर ने उनके अनुरोध को यह कहते हुए अस्वीकार कर दिया कि आप प्रतिष्ठित महिलाएं है। आपको यह सब करना शोभा नहीं देता। लेडी टाटा ने शांत गरिमा के साथ जवाब दिया, 'हम महिलाएं यहां 'ग्रेसफुल' होने के लिए नहीं आईं, हम यहां 'यूजफुल' होने के लिए आए हैं।

पिता ने कहा, मेरी नाम रख लो

मेहरबाई स्वतंत्र विचारों वाली महिला थी। मेहरबाई पिता, एचजे भाभा, जो एक प्रोफेसर थे और बैंगलोर और फिर मैसूर में एक प्रख्यात शिक्षाविद् थे, ने उन्हें प्रगतिशील वेस्टर्न विचारों से परिचित कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लेकिन जब पिता पश्चिमी फैशन के चक्कर में उनका नाम मेहर से मेरी करना चाहा तो मेहरबाई ने इससे इंकार कर दिया। वह अपने पिता के सामने खड़ी हुई और अपना नाम अपने मूल फ़ारसी रूप, 'मेहरी' में बनाए रखने पर जोर दिया, जो बाद में मेहरबाई बन गई। इससे यह साफ प्रतीत होता है कि मेहरबाई किस प्रकार अपनी संस्कृति से प्यार करती थी।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.