Tokyo Olympics 2020 : तीरंदाज दीपिका कुमारी ओलंपिक पदक के लिए लड़ रही दबाव की जंग

विश्व की नंबर वन तीरंदाज दीपिका कुमारी ओलंपिक पदक के लिए मानसिक दवाब की जंग लड़ रही है। भारतीय उम्मीदों का पहाड़ लेकर दीपिका कुमारी ने प्रवीण जाधव के साथ मिक्सड डबल्स में भाग लिया जहां उन्हें निराशा हाथ लगी। अब व्यक्तिगत तीरंदाजी में उनके प्रदर्शन पर नजर है।

Jitendra SinghMon, 26 Jul 2021 10:15 AM (IST)
तीरंदाज दीपिका कुमारी ओलंपिक पदक के लिए लड़ रही दबाव की जंग

जमशेदपुर। तीरंदाजी भारत के लिए उन खेलों में से एक है जिससे वैश्विक खेल मंच पर लोगों को काफी उम्मीदें होती है। लेकिन हर बार सबसे बड़े मंच पर तीरंदाज वह प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं, जिसके वह हकदार हैं।

दीपिका कुमारी 2012 में ओलंपिक में अपनी पहली बार भाग ली थी। तब से लेकर आजतक वह भारतीय तीरंदाजी की ध्वजवाहक रही हैं। इस अवधि के दौरान, वह विश्व तीरंदाजी सर्किट में इतनी प्रभावशाली प्रदर्शन करती रही हैं कि हर ओलंपिक में उनसे उम्मीदें आसमान छूती हैं। अगर ये उम्मीदें जायज हैं, तो सवाल उठता है कि पिछले दो ओलंपिक और टोक्यो में अब तक के आयोजनों में वह प्रदर्शन देखने को क्यों नहीं मिलता है। क्या यह खेलों के सबसे बड़े मंच ओलिपिंक के दबाव को नहीं संभाल पाने का मामला है।

रियो व लंदन ओलंपिक में भाग ले चुकी हैं दीपिका

दीपिका ने लंदन में उन्होंने क्वालिफिकेशन राउंड में शानदार आठवां स्थान हासिल किया। लेकिन मेडल राउंड में जो कुछ हुआ वह चौंकाने वाला था। वह पहले राउंड में अपने से कम रैंकिंग वाली तीरंदाज से हार गई। वह मैच को खत्म होने तक संघर्ष करती दिखी। सौभाग्य से उस समय उम्र उनके पक्ष में थी। इसे शुरुआती झटका मानते हुए उन्हें रियो 2016 से पहले अगले चार वर्षों तक अपनी उम्र उनके साथ थी, जिसका मतलब था कि रियो की निराशा उसकी ऊबड़-खाबड़ सफर का अंत नहीं थी।

उम्मीगों का बोझ के साथ टोक्यो पहुंची दीपिका

वह पिछले हफ्ते टोक्यो में पहले की तरह ही उम्मीदों के बोझ के साथ पहुंची। मीडिया के द्वारा अनावश्यक प्रचार किया गया कि वह विश्व की नंबर वन खिलाड़ी है। वास्तव में वह विश्व नंबर वन का खिताब के योग्य है। लेकिन हमें यह नहीं भुलना चाहिए कि पेरिस व ग्वाटेमाला में खेले गए तीरंदाजी विश्वकप द. कोरिया की टीम ने भाग नहीं लिया था। रियो के बाद टोक्यो उसके लिए यह साबित करने का दूसरा मौका था कि उसने दबाव की स्थितियों को बेहतर ढंग से संभालने में अपनी अक्षमता पर काम किया है। शनिवार को दक्षिण कोरिया के खिलाफ मिश्रित टीम क्वार्टर फाइनल में उनके प्रदर्शन ने एक बार फिर निराश किया।

तीरंदाजी में दुनिया की शीर्ष टीम है कोरिया

आखिर क्या समस्या थी? कोरिया था? खैर, ऐसा जरूर लगता है। कांटेक्ट स्पोर्ट्स के विपरीत तीरंदाजी एक आत्म-उन्मुख (Self Oriented) खेल है जहां सिर्फ और सिर्फ आपका प्रदर्शन मायने रखता है। इस खेल में परिस्थितियां ही खेल को परिभाषित करती हैं। हालांकि, दक्षिण कोरिया जैसी शीर्ष टीम के तीरंदाज के कारण दूसरे खिलाड़ी दबाव में आ जाते हैं। कोरिया अब तक दुनिया के सबसे सफल तीरंदाजी राष्ट्र रहा है। वे अपने घरेलू सर्किट में प्रतिभा पैदा करते रहते हैं जो तब कम उम्र में सबसे बड़े मंच पर आ जाते हैं और फिर मैदान पर विरोधियों को धूल चटा देते हैं। टोक्यो में भी ठीक ऐसा ही हुआ। यदि क्वालिफिकेशंस स्कोर की बात करे तो कोरिया के आगे कोई टीम नहीं टिक पाता है। महिला टीम दूसरे स्थान के मेक्सिकन खिलाड़ियों से 56 अंक अधिक हासिल कर चुकी है। इसी तरह पुरुष टीम डच से 37 अंकों से आगे रही। ऐसे में कोई भी विरोधी टीम पदक के दौर तक कोरियाई लोगों की विशेषता वाले ड्रॉ से बचना चाहेगा।

क्वार्टर में कोरिया से जंग के कारण हारी बाजी

क्वालीफिकेशन के दिन भारतीयों के लिए ठीक यही गलती की। क्वालिफिकेशन राउंड में 9वें स्थान पर रहने के परिणामस्वरूप मिश्रित और पुरुष दोनों टीमें ड्रा के एक ही क्वार्टर में गिर गईं, जिसका अर्थ था कि वे क्वार्टर फाइनल में कोरिया से भिड़ेगी। टोक्यो में सबसे पहले मिक्सड डबल्स तीरंदाजी का आयोजन हुआ। भारत का मुकाबला 16वें राउंड में चीनी ताइपे से और क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया से होना था। टीम में दीपिका कुमारी के साथ प्रवीण जाधव लाया गया, क्योंकि वह इस अपने साथी अतनु दास से ऊपर थे। अपने सभी अनुभव के साथ, दीपिका को ओलंपिक पदार्पण करने वाले प्रवीण के साथ नेतृत्व की भूमिका निभानी थी। दीपिका इस पूरे साल में परिपक्वता दिखा रही थीं। खासकर इस साल की शुरुआत में पेरिस विश्व कप में उसने एक दिन में अपनी झोली में लगातार तीन स्वर्ण पदक जीते थे। पेरिस में दीपिका की फॉर्म लाजवाब था। मिश्रित और टीम दोनों स्पर्धाओं में अंतिम दौर में जाने के कारण उसे हमेशा महत्वपूर्ण तीर चलाने पड़े। कभी-कभी पूरे दस अंक भी हासिल किए। इसने उसकी अविश्वसनीय परिपक्वता को दिखाया जहां से वह लंदन और रियो में थी।

दिमाग से हटाना होगा कोरिया को हौव्वा

साथ ही, सबसे खास बात यह है कि पेरिस में हुए मैचों के दौरान उनकी हाव-भाव पहले से कहीं अधिक शांत दिखाई दी। ऐसा लग रहा था जैसे उसने खेल के अहम पलों से बेहतर तरीके से निपटना सीख लिया हो। अब भी सबसे बड़ा सवाल यह था कि क्या वह इस फॉर्म और अपनी शांत मन की स्थिति को टोक्यो में ले जा पाएंगी। सबसे बड़े चरण के दबाव को संभालने में असमर्थता की कीमत उन्हें अतीत में चुकानी पड़ी थी। क्वालीफिकेशन चरण में और चीनी ताइपे के खिलाफ मैच में भी जवाब हां लग रहा था। वह क्वालीफिकेशन में 9वें स्थान पर रही, हालांकि इसका मतलब था कि व्यक्तिगत चरण के क्वार्टर में उसका संभावित प्रतिद्वंद्वी शीर्ष वरीयता प्राप्त कोरियाई होगा। हालांकि, मिक्सड डबल्स में कोरिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मैच में दबाव झेल नहीं पाई और उम्मीदें धराशायी हो गईं। दीपिका ने पूरे मैच में एक भी 10 का स्कोर नहीं किया। जाहिर शक्तिशाली विपक्षी टीम कोरिया उनके दिमाग में होगा, मैच निश्चित रूप से एकतरफा मामला नहीं था जैसा कि सबसे अधिक उम्मीद थी। युवा और अनुभवहीन कोरियाई टीम ने भारतीयों को कठिन चुनौती दी।

दबाव बनाने में विफल रहा भारत

हारे हुए सेटों में से प्रत्येक में अवसरों की खिड़कियां थीं जहां भारत दबाव बनाने में विफल रहा। अपने अंतिम शॉट में, यहां तक ​​कि प्रवीण भी, जो तब तक काफी अच्छी शूटिंग कर रहा था, ने 6 का स्कोर किया। कुल मिलाकर, कोरिया के खिलाफ मैच एक विचित्र कम स्कोर वाला मामला था, जहां निश्चित रूप से भारतीयों ने एक मौका गंवा दिया। हालांकि, यह अभी भी टोक्यो में भारत और दीपिका के लिए सफर का अंत नहीं है। उसे अभी व्यक्तिगत राउंड खेलना है। कोई निश्चित रूप से उम्मीद कर सकता है कि मिक्स्ड में एक बार अपने संभावित क्वार्टर फाइनल प्रतिद्वंद्वी का सामना करने से उसे अपने मैच-अप के लिए बेहतर तैयारी करने में मदद मिलेगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.