निर्माण के एक वर्ष बाद कीचड़ में तब्दील हुई सड़क

प्रखंड के हातिबारी से मोंदा चौक तक सड़क की जीर्णशीर्ण हालत इस बात की गवाही जरुर देती कि सिर चढ़कर अनियमितता बरती गई है या फिर सड़क निर्माण के दौरान कहीं न कहीं तकनीकी खामियां रह गई होगी। वरना पांच सालों मे सड़क मटियामेट नहीं हो जाती।

JagranThu, 16 Sep 2021 09:00 AM (IST)
निर्माण के एक वर्ष बाद कीचड़ में तब्दील हुई सड़क

संसू, डुमरिया : प्रखंड के हातिबारी से मोंदा चौक तक सड़क की जीर्णशीर्ण हालत इस बात की गवाही जरुर देती कि सिर चढ़कर अनियमितता बरती गई है, या फिर सड़क निर्माण के दौरान कहीं न कहीं तकनीकी खामियां रह गई होगी। वरना पांच सालों मे सड़क मटियामेट नहीं हो जाती। खैर, यह रही अतीत की बात। बहरहाल इस सड़क से गुजरने वाले लोगों की तकलीफ नासूर हो गई है। लोग बेजार होकर सरकार की व्यवस्था पर उंगली उठाने लगे हैं। ओडिशा सीमा से सटे मारांसोंघा और बारुनिया के लुपुंगडी गांव तक के ग्रामीणों की यह सड़क जीवन रेखा कहलाती है। मसलन कांटाशोल व धोलाबेड़ा पंचायत के दर्जनों गांवों का यही सड़क प्रखंड मुख्यालय से जोड़ती है। इस सड़क से स्कूल व कॉलेज जाने वाले बच्चों को हर रोज मुसीबतों से जुझना पड़ता है। दरअसल हातिबारी से मोंदा चौक होते हुए भगाबंदी तक पांच साल पूर्व कलाबती बिल्डर के द्वारा पीएमजीएसवाई से लगभग पांच किमी लंबी सड़क का निर्माण कराया गया था। प्रयोग के रूप मे नई तकनीकी से रसायन पदार्थ के सहारे मुरुम के ऊपर कालीकरण किया गया था। निर्माण के एक साल बाद हातिबारी से मोंदा चौक तक सड़क कीचड़ मे तब्दील हो कर बजबजा गया। ऐसा सड़क कहीं नहीं है। पैदल चलने का रास्ता नहीं। स्टूडेंट्स को काफी दिक्कत हो रही है। ठेकेदार ने ग्रेड वन को हटा कर काम किया है। नीचे ग्रेड वन रहता तो सड़क का यह हाल नहीं होता।

- आशुतोष पंडा, ग्रामीण, हातिबारी। साइकिल से डुमरिया पहुंचने मे एक की जगह तीन घंटे लग रहा है। सात बाखरा तक सड़क का हाल बेहाल है। सड़क की निर्माण जल्द होनी चाहिए।

- दुखा मुर्मू, ग्रामीण, सातबाखरा। सांसद एवं विधायक दोनों की जिम्मेदारी बनती है कि अवागमन के जर्रजर सड़क को ठिक कराये। जनता को अच्छी सड़क, बिजली, पानी आदि मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराना जनप्रतिनिधियों का काम है।

- बिशु माझी, ग्रामीण, नुनिया गांव। जनता की समस्या से सरकार का ध्यान हट गया है। दासाडीह अपने गांव से स्कूल पहुंचने मे काफी समय लगता है। जर्रजर सड़क मे साईकिल चलाने मे काफी परेशानी होती है। कीचड़ मे यूनीफार्म गंदा हो जाता है।

- गणेश हेंब्रम, छात्र, शिशु मंदिर पारुलिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.