टाटा मोटर्स अस्पताल जमशेदपुर के ओपीडी में आज यानी बुधवार को कौन-कौन चिकित्सक रहेंगे तैनात, जानिए

Tata Motors Hospital Jamshedpur OPD Doctors LIst सोमवार से शुक्रवार तक दोनों पाली में ओपीडी चलता है। शनिवार को सिर्फ एक पाली ओपीडी रहता है। रविवार को ओपीडी बंद रहता है लेकिन इमरजेंसी सेवा 24 घंटे बहाल रहती है।

Rakesh RanjanWed, 04 Aug 2021 09:52 AM (IST)
टाटा मोटर्स अस्पताल के अोपीडी में बुधवार को तैनात डाॅक्टरों की जानकारी।

जागरण संवाददाता, जमशेदपुर। टाटा मोटर्स अस्पताल के ओपीडी में दिखाने के लिए मरीज सुबह आठ बजे ही अस्पताल पहुंच जाते हैं। फिर आठ बजे से ओपीडी सेवा शुरू हो जाती है तो दोपहर एक बजे तक चलती है। दूसरी पाली दोपहर दो बजे से सायं पांच बजे तक चलेगी। यहां मेडिकल व सर्जिकल ओपीडी में काफी भीड़ लग जाती है। मरीज दिखाने के लिए लंबी कतार मे लगे रहते हैं। कर्मचारियों व उनके आश्रितों के अलावा आमलोग भी यहां इलाज कराने पहुंचते हैं। गैर कर्मचारी भी अस्प्ताल पहुंचकर अपनी सुविधानुसार मरीज को दिखाते हैं।

बुधवार को ओपीडी में ये चिकित्सक हैं तैनात

मेडिकल: डा. आरके ठाकुर, डा. आरके मेहता, एसबी सेनगुप्ता व डा. अलिद रशीद दूसरी पाली डा. आरके मेहता, डा. अदिल रशीद व डा. कुंदन कुमार शिशु रोग डा. विवेक शर्मा दूसरी पाली डा. विवेक शर्मा ऑर्थोपेडिक्स डा. अरविंद दूसरी पाली डा. अरविंद त्वचा रोग डा. प्रीति दूसरी पाली डा. प्रीति ईएनटी डा. एस. रस्तोगी व डा. संतोष कुमार दूसरी पाली डा. एस. रस्तोगी व डा.संतोष कुमार सर्जिकल डा. अरूणिमा वर्मा व डा.एस. देव दूसरी पाली डा. डोरा व डा. रौशन आंख डा. आर. वर्मा व डा. तपस्या सिंघा दूसरी पाली डा. आर. वर्मा व डा.तपस्या सिंघा मनोविज्ञानिक डा. सुदेशना दास दूसरी पाली डा. सुदेशना दास डायट क्लिनिक डा. प्रतिभा सोनी दूसरी पाली डा. प्रतिभा सोनी स्त्री रोग डा. सोमनाथ घोष दूसरी पाली डा. सोमनाथ घोष

पहले लेना पडता है नंबर

अस्पताल में दिखाने के लिए पहले से संबंधित रोग के डॉक्टर कानंबर लेना पड़ता है। फिर समय निर्धारित होने के बाद मरीज उस दिन संबंधित डॉक्टर के पास आकर अपना इलाज कराते हैं। सोमवार से शुक्रवार तक दोनों पाली में ओपीडी चलता है। शनिवार को सिर्फ एक पाली ओपीडी रहता है। रविवार को ओपीडी बंद रहता है लेकिन इमरजेंसी सेवा 24 घंटे बहाल रहती है।

 इलाके की बडी आबादी की निर्भरता

टाटा मोटर्स अस्पताल पर केवल कंपनी के कर्मचारी एवं परिजन ही नहीं आसपास के हजारों लोगों की निर्भरता है। आसपास कोइ दूसरा बेहतर अस्पताल नहीं होने के कारण लोग यहां इलाज के लिए पहुंचते हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.