Tata Group : अब टाटा समूह 525 करोड़ में लंदन की इस कंपनी को खरीद रही, ईवी सेगमेंट में आएगी क्रांति

Tata Group टाटा समूह लंदन स्थित जॉनसन मैथे के बैटरी मैटेरियल बिजनेस को खरीदने के लिए बातचीत कर रहा है जो तेजी से बढ़ते इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में टाटा समूह को बढ़त प्रदान कर सकता है। हाल ही टाटा समूह ने एयर इंडिया को खरीदा है...

Jitendra SinghTue, 30 Nov 2021 11:15 AM (IST)
Tata Group : अब टाटा समूह 525 करोड़ में लंदन की इस कंपनी को खरीद रही

जमशेदपुर। भविष्य इलेक्ट्रिक व्हीकल का है। इसी को ध्यान में रखते हुए टाटा समूह पूरी तैयारी कर रही है। हाल ही में टाटा ग्रुप ने इलेक्ट्रिक व्हीकल के प्रयोग में आने वाली सेमीकंडक्टर चिप का उत्पादन के लिए तीन प्लांट लगाने की घोषणा की है। अब उनकी नजर बैटरी बनाने वाली कंपनी पर है।

ब्रिटेन की बैटरी बनाने वाली कंपनी से हो रही बात

टाटा समूह की कंपनी जॉनसन मैथे से इस प्रमुख व्यवसाय को खरीदने की दौड़ में सबसे आगे है। सूत्रों की माने तो यह सौदा 500 से 700 मिलियन (लगभग 525 करोड़ रुपए) डॉलर के बीच हो सकता है।

जॉनसन मैथे बैटरी मैटेरियल्स व सॉल्यूशंस क्षेत्र में विश्व की अग्रणी कंपनी है। जहां-जहां टाटा मोटर्स की कंपनी है, वहां इसकी उपस्थिति है।

पहली ऑटोमोबाइल कंपनी होगी, जिसके पास होगा बैटरी कंपनी

इस सौदे से समूह की कंपनी टाटा मोटर्स को इलेक्ट्रिक वाहनों की अपनी रेंज का विस्तार करने और ईवी स्पेस में प्रतिद्वंद्वी कार निर्माताओं पर लागत लाभ हासिल करने में मदद मिलेगी, क्योंकि उनमें से किसी के पास इन-हाउस बैटरी सामग्री निर्माण क्षमता नहीं है। यह सौदा भारतीय इलेक्ट्रिक व्हीकल बाजार का नेतृत्व करने के लिए टाटा समूह की आकांक्षाओं के अनुरूप है, जहां उसने नेक्सॉन ईवी की पेशकश के साथ शुरुआती बढ़त बनाई है। टाटा केमिकल्स के प्रवक्ता ने कहा, नीति के तौर पर कंपनी मीडिया की अटकलों या अफवाहों पर टिप्पणी नहीं करती है।

जॉनसन मैथे ने किया खुलासा, बेच रही कंपनी

जॉनसन मैथे और टाटा केमिकल्स के बीच बातचीत एक पखवाड़े पहले शुरू हुई जब ब्रिटिश स्पेशलिटी केमिकल्स कंपनी ने व्यापार से बाहर निकलने का फैसला किया। कंपनी ने कहा कि सप्लाई चेन में व्यवधान, कीमती धातु की कम होती कीमतें और अमेरिकी श्रम की कमी से मुनाफे पर असर पड़ सकता है। ऐसे में बैटरी सामग्री को बनाए रखना मुश्किल हो सकता है।

प्रस्तावित सौदे के लिए चल रही चर्चाओं पर एक प्रश्न के उत्तर में, लंदन के जॉनसन मैथे के प्रवक्ता निक लैटनर ने कहा, "जॉनसन मैथे ने 11 नवंबर को घोषणा की कि वह अपने बैटरी सामग्री व्यवसाय के लिए एक खरीदार की तलाश करेगा। हम विभिन्न कंपनियों के साथ कई चर्चा कर रहे हैं और इन पर आगे कोई टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी

कई वर्षों से, जॉनसन मैथे समूह ईएलएनओ नामक एक जेट-ब्लैक पदार्थ विकसित करने पर दांव लगा रहा था, जो निकल, कोबाल्ट और लिथियम से बना था और कैथोड में इस्तेमाल किया जाता था। यह एक इलेक्ट्रिक कार की बैटरी का सबसे महंगा हिस्सा होता है।

बैटरी के क्षेत्र में चीनियों का वर्चस्व

इस क्षेत्र में चीनी उत्पादकों का प्रभुत्व है, जैसे कि CATL, यूरोप के Umicore और BASF के साथ, जो बड़े पश्चिमी प्रतियोगी हैं। अपने बैटरी सामग्री व्यवसाय को बेचने की अपनी योजना की घोषणा करते हुए, जॉनसन मैथे ने कहा कि इसकी पूंजी-गहन बैटरी सामग्री इकाई से संभावित रिटर्न अपर्याप्त होगा क्योंकि बाजार का कमोडिटीकरण हो गया है, जिससे एक अद्वितीय उत्पाद पेश करने की क्षमता खत्म हो गई है।

टाटा समूह ने गोल्डमैन सैक्स को बैंकर नियुक्त किया

ऊपर बताए गए लोगों के अनुसार, प्रस्तावित सौदे के लिए टाटा समूह द्वारा गोल्डमैन सैक्स को निवेश बैंकरों में से एक के रूप में नियुक्त किया गया है। सूत्रों ने कहा कि चर्चा तेजी से आगे बढ़ रही है, और एक महीने के भीतर अधिग्रहण की घोषणा की जा सकती है। हांगकांग के गोल्डमैन सैक्स के प्रवक्ता ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

टाटा की अधिग्रहण योजना समूह के देश के सबसे बड़े ईवी पोर्टफोलियो और टाटा समूह के लिए एक अतिरिक्त राजस्व चैनल बनाने, अन्य वाहन निर्माताओं को पुर्जे और समाधान प्रदान करने की क्षमता के लक्ष्य के अनुरूप है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.