Indian Railways : रेलवे के इस विभाग ने निर्बाध यात्रा के लिए किए ये महत्वपूर्ण काम, कोरोना काल में भी नहीं रुके, नहीं थके

कोरोना काल में रेल कर्मचारियों का काम सराहनीय रहा।

कोविड 19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए दक्षिण पूर्व रेलवे की सिग्नल एवं टेली कम्युनिकेशन विभाग ने यांत्रिक विद्युत इंजीनियरिंग सिग्नल और टेली संचार को निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए कर्मचारियों ने पूरे समर्पण के साथ काम किया।

Publish Date:Mon, 18 Jan 2021 10:32 AM (IST) Author: Jitendra Singh

जमशेदपुर, जासं।  वैश्विक महामारी कोविड 19 के कारण जब पूरे देश में लॉकडाउन था तब दक्षिण- पूर्व रेलवे के एक विभाग ने यात्रियों की यात्रा को बेहतर बनाने के लिए काम किया। कोविड 19 को लेकर  गाइडलाइन का पालन करते हुए इस विभाग के कर्मचारियों ने न सिर्फ सरकारी आदेश का पालन किया बल्कि पूरे एहतियात के साथ काम भी किया। यह विभाग है दक्षिण -पूर्व रेलवे का सिग्नल एवं टेली कम्युनिकेशन विभाग जिसने रेलवे की यांत्रिक, विद्युत, इंजीनियरिंग, सिग्नल और टेली संचार को निर्बाध रूप से जारी रखने के लिए कर्मचारियों ने पूरे समर्पण के साथ काम किया।

दक्षिण -पूर्व रेलवे प्रबंधन का कहना है कि सिग्नल एंड टेली कम्युनिकेशन विभाग ने अपनी पूरी मशीनरी के साथ ट्रेन सेवाओं के सुरक्षित संचालन को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से चार डिवीजनों, खड़गपुर, आद्रा, रांची और चक्रधरपुर में नियमित उपायों पर आवश्यक रखरखाव और मरम्मत कार्य करने के लिए आगे आया है। कोविड 19 महामारी के बावजूद सिग्नलिंग एंड टेलीकम्युनिकेशन डिपार्टमेंट के फील्ड वर्कर्स और अधिकारियों ने ईमानदारी से अपने कर्तव्यों को निभाने की चुनौती ली है और सिग्नलिंग और टेलीकम्युनिकेशन के सभी प्रकार के सुरक्षा संबंधी कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा किया है। रूट रिले इंटरलॉकिंग, ऑटो सिग्नलिंग, इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग, एलईडी सिग्नलिंग, इंटरलॉकिंग लेवल क्रॉसिंग गेट्स, स्लाइडिंग बूम, ट्रैक सर्कुलेटिंग, वॉर्न आउट पॉइंट्स का रिप्लेसमेंट, डेटा लॉगर, डिजिटल गैजेट्स के काम को बखूबी अंजाम दिया। 

ये काम किए गए पूरे

5.5 आरकेएम में ऑटो-सिग्नलिंग को मेकेडा और भोगपुर के बीच एक प्रतिस्थापन कार्य के रूप में कमीशन किया गया है। तीसरी लाइन के स्टेशन कार्य को दिसंबर, 2020 में कंसबहाल, झाड़ग्राम, सरडिहा और खेमासूली को कमीशन किया गया है। सभी स्टेशनों को एलईडी सिग्नल प्रदान किए गए हैं। बोकारो और खेमासुली स्टेशनों को इलेक्ट्रॉनिक इंटरलाकिंग कमीशन के संबंध में डेटा लॉगर सिस्टम प्रदान किया गया है। 312 नग वियर आउट मशीन को अप्रैल से दिसंबर, 2020 के दौरान बदल दिया गया है। इसके अलावा, लेवल क्रॉसिंग गेट्स में 28 स्लाइडिंग बूम लगाए गए हैं और आठ स्थानों पर ट्रैक सर्कुलेटिंग कार्य किया गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.