समकालीन मैथिली लेखक कोश का प्रकाशन शीघ्र, होगा 850 मैथिली लेखकों का साहित्यिक परिचय Jamshedpur News

मैथिली में इस पुस्तक की मांग बहुत दिनों से थी।

गोलमुरी स्थित एबीएम कालेज के मैथिली विभाग के अध्यक्ष व कोल्हान विश्वविद्यालय के ब्रांच कोऑर्डिनेटर डा. रवीन्द्र कुमार चौधरी की बहुप्रतीक्षित मैथिली पुस्तक समकालीन मैथिली लेखक कोश का प्रकाशन शीघ्र होने वाला है। इस पुस्तक का आईएसबीएन भी मिल चुका है।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 11:18 AM (IST) Author: Rakesh Ranjan

जमशेदपुर, जासं। गोलमुरी स्थित एबीएम कालेज के मैथिली विभाग के अध्यक्ष व कोल्हान विश्वविद्यालय के ब्रांच कोऑर्डिनेटर डा. रवीन्द्र कुमार चौधरी की बहुप्रतीक्षित मैथिली पुस्तक 'समकालीन मैथिली लेखक कोश' का प्रकाशन शीघ्र होने वाला है। इस पुस्तक का आईएसबीएन भी मिल चुका है। मैथिली में इस प्रकार की पुस्तक की मांग बहुत दिनों से थी।

डॉ. चौधरी ने इस पुस्तक का लेखन कार्य कोरोना के प्रथम लॉकडाउन प्रारंभ होते 22 मार्च 2020 में प्रारंभ किया था। इस पुस्तक में कोरोना काल में जीवित देश- विदेश के 850 मैथिली लेखकों का साहित्यिक परिचय विवरण संकलित किया गया। इनमें भारतीय मिथिला मूल के 760 तथा नेपाली मिथिला मूल के लगभग 90 मैथिली लेखक शामिल हैं। इन्हीं दोनों मिथिला मूल के कई लेखक यूके, अमेरिका, तंजानिया, मलेशिया, वाशिंगटन, लंदन, जर्मनी, सऊदी अरब, नॉर्वे, सिंगापुर, स्कॉटलैंड, मास्को, अफ्रीका एवं खाड़ी देश कतर में रहकर मैथिली साहित्य सृजन कर रहे हैं, उनका भी परिचय विवरण इस पुस्तक में संग्रहित किया गया है।

डॉ चौधरी की यह 12 वीं रचना

मैथिली के चर्चित प्रकाशक 'नवारम्भ' से इस पुस्तक का प्रकाशन होने वाला है । डॉ. चौधरी की यह 12वीं मैथिली कृति है। उन्होंने बताया कि मार्च तक यह पुस्तक प्रकाशित हो जाने की पूरी संभावना है। कोरोना काल में जो लोग मैथिली लेखक दिवंगत हुए  उन्हीं काे यह पुस्तक समर्पित कर रहे हैं। इस कारण में बिहार एवं अन्य राज्यों के अलावा नेपाल के कुल सात मैथिली लेखक दिवंगत हो चुके हैं। यह मैथिलीभाषियों के लिए एक संस्मरण जैसा है। इसकी कई वर्षो से मांग हो रही थी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.