Jamshedpur Bike Theft: बदमाशों ने छह हजार रुपये में खरीदी थी पिस्तौल

Parsudih Jamshedpur Bike Theft Case चोरी की बाइक के साथ परसूडीह थाना की पुलिस ने तीन युवकों को गिरफ्तार किया था। उसके पास से पिस्तौल भी बरामद हुए थे। पूछताछ में युवकों ने बताया कि छह हजार में पिस्तौल खरीदी थी।

Rakesh RanjanThu, 23 Sep 2021 04:10 PM (IST)
पुलिस अब पिस्तौल बेचने वाले की तलाश कर रही है।

जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। जमशेदपुर के परसुडीह थाना की पुलिस ने पिस्तौल और चोरी की बाइक के साथ तीन युवकों को मंगलवार को गिरफ्तार किया था। इनमें अरव कुमार उर्फ धीरज कुमार परसुडीह के सोपोडेरा और अर्जुन सरदार उर्फ डीएम और कुणाल कुमार उर्फ सोनू दोनों बागबेड़ा गांधीनगर के निवासी हैं। अरव कुमार के पास से देशी पिस्तौल बरामद किया गया था। उसने पुलिस को पूछताछ में बताया कि पिस्तौल बागबेड़ा लाल बिल्डिंग निवासी विनीत कुमार से उसने 6 हजार रुपये में खरीदा था।

उसकी खोजबीन पुलिस ने की। पता चला कि वह शहर से बाहर है। परसुडीह थाना प्रभारी विमल किडो ने बताया कि सोमवार को करनडीह चौक के पास एक मोबाइल दुकान के सामने से बागबेड़ा के रंजीत कुमार की करनडीह से बाइक चोरी हो गई थी। इसकी तलाश में पुलिस लगी थी। सीसीटीवी कैमरा खंगाला, लेकिन सीसीटीवी फुटेज में कुछ आया नहीं था क्योंकि गाड़ी को ऐसी जगह पर खड़ा किया गया था, जहां से सीसीटीवी कैमरा का रेंज नहीं था। शंक पर पुलिस ने रंजीत और उसके मित्र कुणाल से पूछताछ की। कुणाल पर कुछ संदेह हुआ।

पिस्तौल के साथ थी तस्वीर

कुणाल से उसका मोबाइल फोन मांगी गई तो व उसे देने में आनाकानी करने लगा। सख्ती के बाद उसने मोबाइल फोन दिया जिसमें पिस्तौल के साथ उसके व उसके साथी अरव की तस्वीर थी। कुणाल से पूछताछ शुरु हुई तो उसने अरव का नाम बताया। पुलिस ने उसे पकड़ा तो उसके पास से पिस्तौल व चोरी वाली बाइक भी पकड़ी गई। पूछताछ में खुलासा हुआ। रंजीत की बाइक चोरी करने की योजना कुणाल, अरव व अर्जुन सरदार ने बनाई थी। पहले रंजीत को साकची लेकर जाने की योजना थी। बाद में उसे बदलकर परसुडीह बाजार लाया गया। वहां से उसे कपड़ा खरीदवाने के बहाने करनडीह ले गए, जहां से अरव व अर्जन ने रंजीत की बाइक गायब कर दी। मामले का खुलासा होने के बाद तीनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। अरव ने बताया कि उसने पिस्तौल विनीत से पिस्तौल खरीदी थी। गिरफ्तार आरोपितों को न्यायालय में प्रस्तुत किया गया जहां से सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.