भगवान श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर लोगों में उत्साह, दिल खोलकर कर रहे सहायता

भगवान श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर लोगों में उत्साह

भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण में देश के हर एक व्यक्ति का अंश दान शामिल हो। करोड़ों लोगों की आस्था इससे जुड़ी है। यही कारण है कि देशभर में बड़े पैमाने पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए अभियान की शुरुआत की गई हैं।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 03:42 PM (IST) Author: Jitendra Singh

घाटशिला : अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण को लेकर घाटशिला वासियों में गजब का उत्साह देखने को मिल रहा है। लोग दिल खोलकर सहायता कर रहे हैं। दिर निर्माण में हर किसी के अंशदान सुनिश्चित करने के लिए कमेटी गठित की गई। गांव से लेकर शहर तक मंदिर निर्माण के लिए धनराशि संग्रह किया जा रहा है। इस अभियान को लेकर क्षेत्र के रामभक्तों में उत्साह है। हर कोई अयोध्या में बनने वाले श्री राम मंदिर निर्माण में अंशदान देने के लिए उत्साहित दिख रहा।

घाटशिला प्रखंड के संयोजक विजय सिंह एवं सह-संयोजक रूपेश दूबे की अगुवाई में अभियान चलाया जा रहा है। मंदिर निर्माण के लिए चलाए जा रहे धनराशि संग्रह अभियान की शुरुआत ताम्रनगरी में मउभण्डार निवासी देवान्ति देवी ने पहला कूपन कटवाकर किया। देवान्ति देवी ने एक सौ रुपए का कूपन प्राप्त कर मंदिर निर्माण में अपना अंश दान किया। रामभक्तों ने बताया कि श्रीराम के मंदिर निर्माण को लेकर देशभर में धन संग्रहण अभियान की शुरुआत की गई हैं।

भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण में देश के हर एक व्यक्ति का अंश दान शामिल हो। देश के करोड़ों लोग जिनकी आस्था भगवान श्रीराम से जुड़ी हुई है, उनका भी सहयोग शामिल किया जाएं। यही कारण है कि देशभर में बड़े पैमाने पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए अभियान की शुरुआत की गई हैं। इसके लिए पंचायत एवं ग्राम स्तर पर कमिटी गठित की गई है जो लोगों के घर-घर जाकर सहयोग राशि लेंगे। भाजपा के घाटशिला मंडल अध्यक्ष राहुल पांडेय ने कहा कि श्रीराम मंदिर निर्माण के रूप में हिंदुओं का वर्षो पुराना संकल्प पूरा हो रहा हैं। भाजपाध्यक्ष से अलग एक हिन्दू धर्मावलम्बी होने के आधार पर भी वे मानते है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से ही श्रीराम मंदिर का निर्माण संभव हो पा रहा हैं। वे केंद्र सरकार के साथ ही भगवान श्रीराम में आस्था रखने वाले सभी का आभार प्रकट करते है और धन संग्रहण अभियान को सफल बनाने का आह्वान करते हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.